मौत से जूझ रही लाचार पत्नी का पति निकला बेवफा

428
0
SHARE

मुकेश कुमार सिंह

सहरसा- जिले के सौर बाजार थाना के तीरी बराही गांव में लोगों की उमड़ी भीड़ चीख-चीख कर एक पति के बेवफाई की कहानी कह रही है। पति के पत्थर दिल इंसान होने के कारण आज पत्नी जिंदगी और मौत से जूझ रही है। पिता के पास इतना पैसा नहीं कि वे अपनी बेटी का इलाज कहीं करा सकें। आलम यह है कि पिता ने इसे छोड़ दिया है भगवान के भरोसे और पति है कि उसे अपनी पत्नी की चिंता ही नहीं।

बेड पर पड़ी बी.ए पार्ट-1 की इस लड़की की आंखो से निकल रहा खून रुकने का नाम नहीं ले रहा न सिर्फ आंखों से बल्कि शरीर के सब भाग से बहते रहता है खून। दो साल पहले इसकी शादी महिषी के महेश शर्मा से हुई लेकिन वो इतना पत्थर दिल इंसान निकला कि वो पत्नी की हालत देखकर उसका इलाज कराने के बजाए उसे छोड़कर चल दिया, जिंदगी और मौत के इस मंझधार में। अब माँ कहती है कि सब जगह गए, डॉ0 ने भी रेफर कर दिया, पति भी इसका नहीं आता है गरीबी के कारण इलाज भी नहीं करवा पा रहे है, मेरी बेटी को सरकार ठीक कर दे।

बेटी की हालत को देख पिता के रातों की नींद उड़ गई। उसके सारे सपने बालू की भीत की तरह बिखर गए। बड़े अरमानों के साथ उसने अपनी बेटी के हाथ लाल-पीले किए थे। उसे क्या पता था जिसके हाथों में वे अपनी बेटी का हाथ दे रहा है वह इतना बेवफा निकलेगा। आर्थिक तंगी से जूझ रहे लाचार और बेबश पिता ने बेटी के इस गंभीर बीमारी का इलाज कराने उसे सदर अस्पताल सहरसा ले गए लेकिन यहां के डॉक्टरों को भी लड़की के बीमारी का पता नहीं चला और उसे पटना रेफर कर दिया। पिता के पास इतना पैसा नहीं कि वह अपनी लाड़ली को इलाज के लिए पटना ले जा सके। किसी से मदद की आस में गंभीर बीमारी से जूझ रही लड़की अपने घर में ही जिंदगी और मौत से जूझ रही है।

इन सबके बीच इस बीमारी के बारे में डाक्टरों का कहना है कि सबसे ज्यादा संभावना है कि उसे परप्यूरा हो, या उसको हिमोफिलिया हो, इसके जाँच पड़ताल से पता चल पाएगा कि क्या है। फिलहाल अगर उसे कोई फ्रेस ब्लड चढ़ा दे तो तत्काल उसका ब्लड निकलना बंद हो सकता है। अब देखना है कि कोई फरिस्ता है इस समाज में या नहीं जो इस लाचार पिता को मदद करने आगे आए और जिंदगी और मौत से जूझ रही इस लड़की को मौत के गाल में जाने से बचाया जा सके। वैसे इस लड़की का इलाज सहरसा के नामचीन डॉ आईडी सिंह ने अपने नर्सिंग होम में भर्ती कर फ्री में इलाज शुरू कर दिया है।