युवा राजद ने अभ्यर्थियों पर लाठीचार्ज के विरोध में नीतीश कुमार का किया पुतला दहन

214
0
SHARE

पटना- आज एस0एस0सी0 और दरोगा भर्ती परीक्षा में धांधली के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे एस0एस0सी0 व दरोगा अभ्यर्थियों पर पुलिस-प्रशासन द्वारा बर्बरतापूर्वक लाठीचार्ज के खिलाफ प्रदेश युवा राजद द्वारा आयकर गोलम्बर चौराहा पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का पुतला दहन किया गया। इससे पहले राष्ट्रीय जनता दल के राज्य कार्यालय से युवा राजद के प्रदेश अध्यक्ष मो0 कारी सोहैब के नेतृत्व में नीतीश कुमार का पुतला हाथ में लेकर नीतीश सरकार विरोधी नारा लगाते हुए युवा राजद के सैंकड़ों कार्यकर्ता जुलूस के रूप में आयकर गोलम्बर चौराहा पहुंचा जहां मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का पुतला दहन किया गया।

मौके पर पुतला दहन के बाद प्रदेश अध्यक्ष मो0 कारी सोहैब ने कहा कि कल पटना के गांधी मैदान में दारोगा भर्ती परीक्षा व एसएसएसी परीक्षा रद्द करने की मांग को लेकर शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर रहे परीक्षार्थियों पर पुलिस प्रशासन नौजवानों और छात्रों पर ऐसे बर्बरतापूर्वक लाठीचार्ज करने का काम किया है जैसे मानों बिहार में अंगे्रजों की शासन हो, इस तरह की घटना दर्शाता है कि नीतीश कुमार सत्ता के नशे में चूर है। आरएसएस की समर्थन वाली सरकार को युवा राजद चेतावनी देना चाहती है कि युवा और छात्रों के साथ जुल्म और बर्बरता बंद करें और अभ्यर्थियों की मांग को शीघ्र सरकार पूरा करें और लाठी बरसाने वाले पुलिस प्रशासन पर अविलंब कार्रवाई करते हुए बर्खास्त करे अन्यथा युवा राजद अभ्यर्थियों के समर्थन में राज्यव्यापी आन्दोलन करेगी।

युवा राजद के प्रदेश प्रवक्ता सह मीडिया प्रभारी अरूण कुमार यादव ने कहा कि नीतीश सरकार का यह तानाशाही रवैया दर्शाता है कि नीतीश को लोकतंत्र पर से विश्वास उठ गया है। आंदोलनकारियों को लोकतांत्रिक तरीके से मांग रखने का इजाजत बिहार सरकार नहीं देती है जो कि लोकतंत्र के लिए दुर्भाग्यपूर्ण है। सरकार में थोड़ी सी भी नैतिकता है तो अविलंब अभ्यर्थियों की मांग पूरी करते हुए बुरी तरह से दर्जनों घायल प्रदर्शनकारी छात्रों का समुचित इलाज की व्यवस्था करें और आंदोलनकारी अभ्यर्थियों पर दर्ज मुकदमा सरकार वापस ले अन्यथा आंदोलन और तेज होगा।

पुतला दहन कार्यक्रम में प्रभात रंजन, मुकेश यादव, रंधीर यादव, फुदेना रविदास, दिनेश पासवान, फरजान अहमद, अजीत कुशवाहा, विनोद यादव, सतीश कुमार चन्द्रवंशी, विकास श्रीवास्तव, रामराज उर्फ कृष्णराज, ऋषि यादव, शिवेन्द्र कुमार तांती, छोटे खान, शेखर यादव, मो0 सारिक फातिमी, पिन्टू उर्फ उरी, नवनीत यादव सहित सैंकड़ों कार्यकर्ता शामिल थे।