रफीगंज में रेलवे ट्रैक पर प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने काटा बवाल पुलिस ने की फायरिंग

449
0
SHARE

औरंगाबाद: रेलवे के चतुर्थवर्गीय कर्मियों के बहाली में आईटीई प्रशिक्षण प्राप्त लोगों की वरीयता समाप्त करने एवं उम्र सीमा बढ़ाये जाने की मांग को लेकर छात्र अभ्यर्थियों ने रविवार की सुबह गया मुगलसराय रेलखंड के रफीगंज रेलवे स्टेशन के समीप रेलवे ट्रैक जाम कर केंद्र की इस नीतियों के खिलाफ प्रदर्शन करने लगें और जमकर नारेबाजी की। इस दौरान प्रदर्शनकारी छात्रों ने ट्रैक पर आगजनी की जिससे हावड़ा से दिल्ली तक जाने वाली इस रूट की सभी गाड़ियां विभिन्न स्टेशनों पर ठहर गयी।

रेलवे ट्रैक जाम के कारण यात्रियों की परेशानियों को देखते हुए प्रदर्शनकारियों के आक्रोश को शांत कराने दल बल के साथ पहुंचे रफीगंज थानाध्यक्ष संजय कुमार सिन्हा को देखते ही प्रदर्शनकारी छात्र उग्र हो गए और पथराव करना शुरू कर दिया और स्टेशन परिसर में लगे बीडीओ, सीओ, रेल थानाध्यक्ष एवं रफीगंज थानाध्यक्ष के वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया। प्रदर्शनकारी छात्रों का गुस्सा इतने पर भी शांत नहीं हुआ उन्होंने स्टेशन परिसर की संचार व्यवस्था ध्वस्त करदी तथा केबिन को पूरी तरह से क्षतिग्रस्त कर दिया। ट्रैक पर मौजूद हजारों की संख्या में छात्रों की उग्रता को देखते हुए पुलिस ने आत्मरक्षार्थ हवाई फायर की और आंसू गैस के गोले छोड़े।

घटना की उग्रता को सुनकर जिला मुख्यालय से एसडीएम सुरेन्द्र प्रसाद, एसडीपीओ पीएन साहू दलबल के साथ घटना स्थल पर पहुंचे और पुलिस बल के द्वरा लाठियों के जोर पर खदेड़ दिया। मामले को शांत करने पहुंचे एसडीएम सुरेन्द्र प्रसाद ने धारा 144 की घोषणा कर दी और सभी छात्र प्रदर्शनकारियों से अपने अपने घरों को लौट जाने की अपील की। फिलहाल पुलिस ने रेल ट्रैक से सभी प्रदर्शनकारियों को भगा दिया गया है और स्थिति को अपने नियंत्रण में ले लिया है। छात्रों के द्वारा किये गए पथराव में एएसएम राजीव कुमार, अचलाधिकारी के वाहन का चालक अजय कुमार, रेल ईसपेक्टर सत्येन्द्र कुमार, रफीगंज थानाध्यक्ष संजय सिन्हा, पत्रकार अजीज अलतमस एव लगभग आधा दर्जन पुलिस घायल हुए है। रेलवे ट्रैक के जाम होने से फीगंज स्टेशन पर ठहरने वाली गया मुगलसराय पैसेजर अप एव डाउन, आसनसोल-वाराणसी डाउन पैसेजर, पूर्वा एक्सप्रेस जाखीम मे खड़ी थी। अजमेर-सियादह एक्सप्रेस इसमाइलपुर में खड़ी रही और डेहरी-गया -धनबाद इंटर सिटी को रद्द कर दिया गया। इस मामले मे दस लोगो को गिरफ्तार किया गया।

मामले की जानकारी पर रफीगंज पहुंचे डीएम

रफीगंज में बबाल कर रहे छात्रों के द्वारा प्रशासनिक अधिकारीयों पर पथराव की जानकारी मिलते ही जिलाधिकारी कंवल तनुज तत्काल रफीगंज पहुंचे और उपद्रव कर रहे छात्रों को समझाने का प्रयास किया। छात्रों ने बताया कि केंद्र सरकार के रेल मंत्रालय द्वारा रेलवे की परीक्षा में उम्र घटाए जाने से लाखों छात्रों का भविष्य अन्धकार में हो गया है ऐसी स्थिति में केंद्र को समझाने के लिए कोई और उपाय नजर नहीं आया। जिलाधिकारी ने कहा कि ऐसी हरकत अशोभनीय है और इससे केस मुकदमों के चक्कर में आप खुद अपनी लाइफ को बर्बाद कर रहे हैं। इस मामले में कई स्टार से सूचनाएं केंद्र सरकार तक पहुँच चुकी है जल्द ही कोई अच्छा सन्देश सुनने को मिलेगा। आपके हाथ में ही आपका भविष्य है उसे बचाकर रखिये जितनी इनर्जी इस आन्दोलन में दे रहे हैं उतनी इनर्जी पढ़ाई में लगाइए तो निश्चित मानिए आप इससे भी बेहतर जॉब में जा सकते हैं। जिलाधिकारी ने कहा कि अधिकारीयों ने काफी सूझ-बुझ से काम लिया है।