राज्यपाल ने जर्मनी के काउंसिल जनरल डाॅ॰ माइकल फेनर को सबसे प्राचीनतम गणतंत्र की धरती वैशाली के बारे में बताया

112
0
SHARE

पटना – राज्यपाल सत्य पाल मलिक से संघीय गणराज्य जर्मनी के काउंसिल जनरल डाॅ॰ माइकल फेनर ने राजभवन पहुँचकर शिष्टाचार मुलाकात की। राज्यपाल मलिक ने डाॅ॰ माइकल फेनर को बिहार की गौरवमय ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक विरासत से अवगत कराया तथा कहा कि बिहारवासी परिश्रमी और प्रतिभावान होते हैं। राज्यपाल ने उन्हें बिहार के महत्वपूर्ण स्थलों, यथा-बोधगया, नालंदा, राजगीर, विक्रमशिला, वैशाली आदि के गौरवमय इतिहास की जानकारी दी।

राज्यपाल ने कहा कि भगवान बुद्ध, भगवान महावीर, माता जानकी एवं दशमेश गुरू गोविन्द सिंह जी महाराज की जन्मभूमि और कर्मभूमि बिहार की धरती शांति एवं सदभावना की धरती है। राज्यपाल ने बताया कि विश्व के सबसे प्राचीनतम गणतंत्र की धरती वैशाली बिहार में ही है। उन्होंने काउंसिल जनरल को बताया कि वैशाली के ‘पुष्करिणी’ सरोवर का पावन जल हाथों में लेकर ही वहाँ के तत्कालीन गणराज्य के जनप्रतिनिधि शपथ लेते थे। राज्यपाल ने शिक्षा जगत में विश्वप्रसिद्ध नालंदा विश्वविद्यालय एवं विक्रमशिला महाविहार के गौरवमय ऐतिहासिक एवं वैश्विक योगदान से भी डाॅ॰ माइकल को अवगत कराया। उन्होंने कहा कि बिहार की धरती कृषि के लिहाजन काफी उपजाऊ है। उन्होंने राज्य सरकार के ‘तीसरे कृषि रोड मैप’ की जानकारी देते हुए बताया कि गंगा नदी के दोनों किनारे ‘जैविक खेती’ के लिए राज्य सरकार कृषकों को प्रोत्साहित कर रही है।

राज्यपाल ने राज्य में भूमि-सुधार की दृृष्टि से राज्य सरकार द्वारा किये जा रहे प्रयासों की भी जानकारी जर्मनी के काउंसिल जनरल को दी। मलिक ने उन्हें बताया कि राज्य सरकार सामाजिक सुधार के कार्यक्रमों, यथा-शराबबंदी, दहेज-उन्मूलन, बालविवाह-नियंत्रण आदि को काफी गंभीरता से कार्यान्वित कर रही है, जिसके अत्यंत सकारात्मक और सार्थक नतीजे समाज के हर वर्ग में देखने को मिल रहे हैं।

काउंसिल जनरल डाॅ॰ माइकल फेनर ने राज्यपाल को बताया कि उनका देश भारत के साथ मैत्री में भरपूर विश्वास करता है। उन्होंने कहा कि कृषि एवं उच्च-शिक्षा के क्षेत्र में उनका देश बिहार के विकास में सहयोग को इच्छुक है। डाॅ॰ माइकल ने जर्मनी में रह रहे बिहार मूल के लोगों की शांतिप्रियता और जर्मनी के विकास में उनके योगदान से राज्यपाल को अवगत कराया। राज्यपाल ने काॅन्सूल जेनरल डाॅ॰ माइकल फेनर को स्मृृति-चिह्न के रूप में ‘बुद्ध प्रतिमा’, अंगवस्त्रम् एवं राजभवन का ‘काॅफी टेबुल बुक’ प्रदान किया। इस शिष्टाचार- मुलाकात के समय राज्यपाल के प्रधान सचिव विवेक कुमार सिंह भी उपस्थित थे।