राज्य में बीज की गुणवत्ता सुनिश्चित कराने हेतु पदाधिकारियों का किया जा रहा क्षमतासम्बर्द्धन – डाॅ॰ प्रेम कुमार

192
0
SHARE

पटना- कृषि मंत्री डाॅ॰ प्रेम कुमार ने कहा कि फसलों के उत्पादन एवं उत्पादकता बढ़ाने में बीज का महत्त्वपूर्ण योगदान होता है। राज्य के किसानों को गुणवत्तापूर्ण बीज उपलब्ध कराना सरकार की प्राथमिकता है। किसानों को गुणवत्तायुक्त बीज उपलब्ध कराने के लिए बीज विश्लेषण प्रयोगशाला में कार्यरत पदाधिकारियों एवं कर्मियों को बीज विश्लेषण में अपनाई जाने वाली विभिन्न पद्धतियों, सावधानियाँ एवं आधुनिक तकनीकों के बारे में जानकारी होना अति आवश्यक है, ताकि बीज नमूनों का सही ढंग से विश्लेषण कर मानक एवं अमानक बीजों की ठीक ढंग से पहचान की जा सके। बीज विश्लेषण, प्रयोगशालाओं में बीज जाॅच से जुडे तकनीकी पदाधिकारियों के लिए भारत सरकार के राष्ट्रीय बीज अनुसंधान एवं प्रशिक्षण केन्द्र, वाराणसी, उत्तर प्रदेश के सहयोग से तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन रसायन भवन, कृषि प्रक्षेत्र मीठापुर, पटना में किया गया।

डाॅ॰ कुमार ने बताया कि इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में राज्यस्तरीय बीज विश्लेषण प्रयोगशाला, पटना सहित छः क्षेत्रीय बीज विश्लेषण प्रयोगशाला के कर्मियों एवं बिहार राज्य बीज एवं जैविक प्रमाणन एजेन्सी, पटना के निरीक्षकों को प्रशिक्षित किया गया। प्रशिक्षक के रूप में राष्ट्रीय बीज अनुसंधान एवं प्रशिक्षण केन्द्र, वाराणसी के वरिष्ठ बीज विश्लेषक डाॅ० महेन्द्र प्रताप यादव, डाॅ० ए० के० वर्मा, कृषि विज्ञान केन्द्र, आरा के कार्यक्रम समन्वयक डाॅ० पी० के० द्विवेदी द्वारा प्रशिक्षणार्थियों को बीज विश्लेषण के सही तरीके से संग्रहण, नियमानुसार जाँच परीक्षण एवं जाँच रिपोर्ट का ससमय प्रेषण से संबंधित बिन्दुओं पर विस्तार से प्रशिक्षण दिया गया। साथ ही, प्रशिक्षणार्थियों को बीज अधिनियम के बारे में विस्तार में बताया गया।

मंत्री ने बताया कि इस प्रशिक्षण से राज्य के बीज विश्लेषण प्रयोगशालाओं तथा बिहार राज्य बीज एवं जैविक प्रमाणन एजेन्सी, पटना में कार्यरत कर्मियों को बीज अधिनियम, 1966 के अनुसार बीज नमूनों की भौतिक शुद्धता, नमी तथा अंकुरण प्रतिशत आदि को विश्लेषित करने की नवीनत्तम तकनीकों का सैद्धांतिक एवं व्यावहारिक रूप से प्रशिक्षण प्राप्त कर जिलावार बीज नमूनों की जाँच बेहतर ढंग से कर सकेंगे।