राम की जन्‍मस्‍थली पर राजनीति करने वालों को क्‍यों उनकी ज्ञानस्‍थली की चिंता नहीं : अनिल कुमार

546
0
SHARE

बक्‍सर – जदयू, भाजपा, कांग्रेस, लोजपा, बसपा, वीआईपी आदि पार्टियों को छोड़ कर आज कई नेताओं ने बक्‍सर में जनतांत्रिक विकास पार्टी की सदस्‍यता ग्रहण की। इन नेताओं को जनतांत्रिक विकास पार्टी के अध्‍यक्ष सह बक्‍सर लोकसभा क्षेत्र से उम्‍मीदवार अनिल कुमार ने पार्टी की सदस्‍यता ग्रहण कराई। इस मौके पर उन्‍होंने तमाम नेताओं का स्‍वागत करते हुए कहा कि बाबा और बाबू के खेल में बक्‍सर विकास से दूर हुआ है। ऐसे में आज विभिन्‍न दलों के नेताओं ने बक्‍सर के विकास और जनतांत्रिक विकास पार्टी की विचारधारा से प्रभावित होकर हमारे साथ आये हैं। और सबों ने पार्टी की जनवादी विचारधारा पर चलकर बक्‍सर के विकास के लिए संकल्‍प लिया है। यह चुनाव लोकसभा का है और पार्टी के सभी लोगों का फोकस इस चुनाव पर हैं। पार्टी से जुडे नए साथी भी इस दिशा में काम करेंगे।

गौरतलब है कि सरोज राजभर (प्रदेश महासचिव,बीएसपी), हीरालाल निषाद (प्रदेश उपाध्यक्ष, वीआईपी पार्टी) एवं राजकुमार निषाद ( प्रदेश महासचीव, जदयू, अति पिछड़ा प्रकोष्ठ) के नेतृत्व में सैकड़ों नेता बक्‍सर में जनतांत्रिक विकास पार्टी के कार्यालय में आयोजित मिलन समारोह के दौरान शामिल हुए।

यह सब हुए शामिल : सुरेंद्र भारती(जिला महासचिव, बीएसपी), रमेश राजभर( महासचिव, बक्सर विधानसभा), सुदर्शन बिंद( जिला उपाध्यक्ष वीआईपी पार्टी, बक्सर), सोनू खरवार(जिला अध्यक्ष, खरवार समाज), रामशंकर निषाद, मान सिंह भर्ती, कलिका यादव, रामदेश्वर राजभर, बच्चन जी निषाद, रमाकांत खरवार, राजनारायण निषाद, राहुल कुँवर, कन्हैया जी निषाद, किस्मत राय, विजय बिंद, कैलाश चौधरी, लक्षमण निषाद, मु0 हासिम शाह, दशरथ बिंद, सुरेंद्र राम, सोहन बिंद निषाद, सुनील राय, शिवजी पासवान, विनोद राम, विलारी यादव के साथ सैकड़ों लोग भी शामिल हुए।

बाद में पत्रकारों से बात करते हुए अनिल कुमार ने एनडीए और महागठबंधन पर जमकर निशाना साधा। साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बक्‍सर दौरे पर सवाल खड़े किये। उन्‍होंने कहा कि प्रधानमंत्री को विपक्ष की टिप्‍पणी गाली लगती है, जबकि‍ वे खुद एक पक्षीय बयान देते हैं। वैसे बक्‍सर में उनके आने से जनता पर कोई प्रभाव नहीं पड़ने वाला है। बक्‍सर की जनता ने अब विकास के लिए बक्‍सर के बेटे को चुनने का मन बना लिया है। अनिल कुमार ने पीएम मोदी समेत भाजपा नेताओं द्वारा खुद को चौकीदार बताने पर आपत्ति जताई। उन्‍होंने कहा कि यह हमारे गरीब चौकीदार भाईयों का अपमान है, क्‍योंकि चौकीदार कभी चोर नहीं होते। लेकिन भाजपा के लोग चोर हैं। दुर्भाग्‍यपूर्ण तो ये है कि हमारे वर्तमान सांसद भी खुद को चौकीदार कहते हैं और अपने कार्यकाल में सोलर लाइट समेत कई चोरियां भी करवाई। सबसे बड़ी चोरी तो बक्‍सर को मिलने वाली एम्‍स मामले में है, जिसे वे अपने गृह नगर लेकर चले गए।

अनिल कुमार ने कहा कि भगवान राम की जन्‍म स्‍थली की चिंता तो सबको है, लेकिन उनकी ज्ञानस्‍थली बक्‍सर की चिंता किसी को नहीं है। आखिर क्‍यों जहां भगवान राम ने ज्ञान प्राप्‍त किया, आज वहां एक भी ढ़ंग का यूनिवर्सिटी नहीं है और न ही एक भी महिला कॉलेज है। उन्‍होंने कहा कि यह चुनाव सांसद का है। लेकिन वर्तमान सांसद कहते हैं मोदी को वोट दो, तो पूर्व सांसद कहते हैं लालू को वोट दो। ये समझने वाली बात है कि बक्‍सर संसदीय क्षेत्र से चुनाव मैदान में उतरे 15 उम्‍मीदवारों में नरेंद्र मोदी का नाम है क्‍या? और पूर्व सांसद लालू प्रसाद का नेता मानकर वोट मांग रहे हैं, जो जेल में हैं। ऐसे में क्‍या बक्‍सर की जनता को जेल में बंद हो जाना चाहिए। इसलिए आज जरूरत है बक्‍सर में सामंतवादी व्‍यवस्‍था को उखाड़ फेंक कर अंबेडकरवादी व्‍यवस्‍था को बहाल करने की, जिसके लिए बक्‍सर का बेटा चुनाव मैदान में है और इसे समर्थन देने के लिए विभिन्‍न दलों से लोग आज हमारे साथ आये हैं।