राष्ट्रीय दुसाध महासभा द्वारा स्व0 भोला पासवान शास्त्री की प्रतिमा लगाने की मांग को लेकर 2 सितम्बर को धरना प्रदर्शन

374
0
SHARE

पटना – आगामी 21 सितम्बर 2018 को अवर अभियंता भवन हाॅल पटना में राष्ट्रीय दुसाध महासभा की ओर से बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री स्व0 भोला पासवान शास्त्री की 104वीं जयन्ती समारोह धूमधाम से मनायेगी। उक्त जानकारी महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष सत्येन्द्र पासवान ने अपने एक प्रेस विज्ञप्ति में देते हुए बताया कि स्व0 शास्त्री बिहार-झारखंड के संयुक्त प्रदेश में तीन बार मुख्यमंत्री रहें। वे एक स्तंत्रता सेनानी के साथ-साथ कुशल नेतृत्व व ईमानदार थे। वह अपने व्यवहार एवं संघर्ष के मिशाल रहे। वे व्यक्तित्व के धनी एवं कुशल व्यवहार से बिहार के गरीबों-शोषितों, दलितों, पिछड़ों, अतिपिछड़ों व अल्पसंख्यक समाज के अलावा वे सवर्ण समाज के प्रगतिशील विचार रखने वाले लोगों के बीच भी काफी लोकप्रिय रहे।

आगे पासवान ने अपने प्रेस विज्ञप्ति में बताया कि स्व0 शास्त्री की आदमकद प्रतिमा बिहार विधान सभा परिसर या सचिवालय के इर्द-गिर्द राज्य सरकार द्वारा नहीं लगायी गई है और न ही उनके नाम से दारोगा प्रसाद राय पथ पटना में भूखंड ही आवंटन किया गया है। स्व0 शास्त्री दलित समाज के लोकप्रिय नेता रहे किन्तु आज तक उनकी घोर उपेक्षा की गयी है जबकि एक बार रहे मुख्यमंत्रियों एवं स्वतंत्रता सेनानियों की प्रतिमा स्थापित किये जा चुके हैं। स्व0 शास्त्री की उपेक्षा बिहार के तमाम दलितों की उपेक्षा है।

आगे उन्होंने कहा कि स्व0 शास्त्री की घोर उपेक्षा के विरोध में आगामी 02 सितम्बर, 2018 को 11 बजे दिन से राष्ट्रीय दुसाध महासभा द्वारा स्व0 भोला पासवान शास्त्री की प्रतिमा लगाने की मांग एवं सासाराम के लोधी ग्राम में कामेश्वर पासवान के बच्ची निरन्ती कुमारी की निर्मम हत्या एवं बिहार में हो रहे दलितों की हत्या के खिलाफ एक दिवसीय विशाल धरना का आयोजन पटना के गर्दनीबाग में किया गया है।