राष्ट्रीय पोषण माह सेमिनार का हुआ आयोजन

194
0
SHARE

पटना – जिला पदाधिकारी कुमार रवि की अध्यक्षता में समाहरणालय सभागार में राष्ट्रीय पोषण माह सेमिनार का आयोजन किया गया. कार्यक्रम में जिला पदाधिकारी ने कहा कि इस वर्ष पोषण माह की थीम ” पोषण त्यौहार से व्यव हार ” है जिसमें विभिन्न विभागों के समन्वय से निश्चित समय सीमा के भीतर बच्चों में पोषण में कुपोषण की कमी को दूर करना है.

उन्होंने यह भी बताया की वर्ष 2018-19 में राष्ट्रीय पोषण अभियान में सर्व श्रेष्ठ पुरस्कार पटना जिला को मिला था जिसमे सभी विभाग का बराबर सहयोग था. पोषण हमारी प्राथमिकताओं में सबसे ऊपर है एवं तात्कालिक रूप से शिक्षा स्वास्थ्य और पोषण में प्राथमिकता आगे भी रहेगी. पोषण केवल 6 वर्ष तक के बच्चे ही नहीं बल्कि इसमें किशोर-किशोरियों, गर्भवती महिलाओं का भी पोषण शामिल है. कुपोषित बच्चों पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है.

उन्होंने सभी सीडीपीओ को निर्देशित किया कि आंगनबाड़ी केंद्रों से कुपोषित बच्चों की लिस्ट बनाए और उन्हें स्वस्थ करने का प्रयास करें साथ हीं आवश्यकता पड़ने पर उन्हें अस्पताल में भर्ती करें एवं उनका समुचित इलाज कराएं. पोषण के इस माह को सफल बनाने के लिए सभी सरकारी एवं गैर सरकारी संस्थाएं मिलकर सहयोग करें. उन्होंने कहा कि पोषण को एक अभियान के रूप में लेना होगा. साथ हीं उन्होंने इसके लिए कुछ दिशा निर्देश भी दिए कि आंगनवाड़ी केंद्रों पर प्रतिदिन हाथ धुलाई के बारे में 5 मिनट बताना चाहिए. जिससे सफाई के बारे में बच्चे जागरूक हो जाएंगे जो हमेशा उन्हें स्वस्थ रखेगा.

बताए पोषण के 5 सूत्र :-

1.पहले सुनहरे 1000 दिन जो गर्भावस्था से 2 वर्ष तक होता है
2. पौष्टिक आहार
3. एनीमिया से रोकथाम व आयरन युक्त आहार
4. डायरिया से बचाव
5. घर, आहार एवं पानी सभी की स्वच्छता एवं साफ सफाई

ली गयी शपथ: कार्य शाला में जिला पदाधिकारी तथा अन्य अधिकारियों द्वारा शपथ ली गयी कि भारत के बच्चों,किशोरों और महिलाओं को कुपोषण मुक्त, स्वस्थ और मजबूत बनाना है. राष्ट्रीय पोषण माह के दौरान हर घर तक सही पोषण का संदेश पहुंचाना एवं पौष्टिक आहार, साफ पानी और सभी प्रथाओं की जानकारी देनी है. पोषण अभियान को एक देशव्यापी जन आंदोलन बनाने का संकल्प भी सभी पदाधिकारियों द्वारा लिया गया.

इस सेमिनार में जिला कार्यक्रम पदाधिकारी आई सी डी एस भारती प्रियंबदा, सिविल सर्जन डॉ राज किशोर चौधरी जिला शिक्षा पदाधिकारी, जिला कृषि पदाधिकारी,सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी स्वस्थ भारत उत्प्रेरक आईसीडीएस के सभी सीडीपीओ एवं अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे.