लखीसराय की खबरें

289
0
SHARE

बालू ढो रहे बालू माफिया एवं ग्रामीण के बीच घंटो हुई पत्थरबाजी

लखीसराय- शनिवार की सुबह 5 बजे लखीसराय थाना क्षेत्र के महिसोना गांव में बालूघाट के रास्ता पर अबैद्य रूप से बालू ढो रहे बालू माफिया एवं ग्रामीण रामदेव सिंह के बीच जमकर हंगामा हुआ। घंटो दोनो पक्षों की ओर से ईंट-पत्थर बाजी हुई। वहीं प्रत्यक्षदर्शीयों ने बताया कि दो राउंड गोलीबारी भी हुई। घटना पर काफी बवाल के बाद टाउन थाना पुलिस घटनास्थल पर पहुंचकर मामले को शांत करवाया।

अवैध बालू उठाव को लेकर कभी भी घट सकती है बड़ी घटना महिसोना, शर्मा, नोनगढ़ गांव चानन थाना क्षेत्र के लाखोचक गांव से लेकर जनकीडीह, स्थित मुख्य सड़क पर पुलिस की मिलीभगत से रात्रि 8 बजे से लेकर सुबह 5 बजे तक अवैध बालू का उठाव किया जाता है। लगभग रात भर तकरीबन एक हजार ट्रैक्टर से बालू का ढुलाई किया जाता है और बड़ी वाहन ट्रक में लोड कर बेचा जा रहा है।

जिससे तकरीबन रोजाना चानन थाना क्षेत्र से लगभग 30 लाख रुपये बालू की राजस्व की चोरी कर बालू बेचा जा रहा है। पुलिस की मिलीभगत से रोजाना हो रही है। 20 लाख रुपये की बालू की चोरी क्षेत्रीय सांसद वीणा देवी ने बताया कि लखीसराय टाउन थाना क्षेत्र स्थित महिसोना गांव, शर्मा गांव एवं चानन थाना क्षेत्र के लाखोचक गांव से लेकर जनकीडीह में भी पुलिस की मिलीभगत से रोजाना 20 लाख रुपये की बालू की चोरी की जा रही है।

यदि वरीय पदाधिकारी इस इलाके में रात्रि में खुद जांच करे तो सरकार की राजस्व को चोरी होने से रोका जा सकता है। जब कि इस इलाके में पुलिस कप्तान सिर्फ नक्सली की बात कही जाती है। लेकिन जिस इलाके से बालू उठाव किया जा रहा है। जब कि यह इलाका बिल्कुल भी नक्सली क्षेत्र नही है और इसी लाखोचक और जनकीडीह के बीच सीआरपीएफ कैम्प है। अवैध बालू उठाव को लेकर कभी भी बड़ी घटना घट सकती है।

एसपी अरविंद ठाकुर से जब इस संदर्भ में बात पूछी गई तो उन्होंने आपसी मामला को लेकर लड़ाई झगड़ा होने की सूचना है। वहीं लाखोचक गांव से लेकर जनकीडीह गांव के बारे उन्होने अपना पल्ला झाड़ लिया और नक्सली क्षेत्र होने का हवाला दे दिया। पुलिस अपने स्तर से वहां कार्य कर रही है।

ई-वे चालान सिस्टम लागू करने में हुई तकनिकी प्रोब्लम

लखीसराय- वाणिज्यकर विभाग ने 50 हजार से अधिक कीमत के माल लाने व ले जाने के लिए ई-वे चलान सिस्टम लागू कर देने से व्यववसायीयों के बीच हड़कम्प मच है। एक फरवरी तक यह ट्रायल में चालु किया गया था। उसके बाद इसे अनिवार्य करने के लिए वाणिज्य कर विभाग ने बिना ई-वे चालान के माल के आयात-निर्यात पर करने पर कार्रवाई करने की एलान किया था। वहीं विभाग ने 50 हजार रुपये तक के माल के आयात – निर्यात ई-वे चालान से मुक्तकर छोटे व्यापारियों को राहत दी है। वहीं बड़े व्यापारीयों के लिए मुश्किल बन गया था।

क्या था ई-वे चालान

ई-वे चालान के लिए व्यवसायी ऑनलाईन वाणिज्यकर विभाग के बेवसाईट पर आवेदन करेगें। इसमें जीएसटी नंबर, समान की राशि, समान का डिटेल, डिस्पैच डेट आदि की दर्ज होगा। ऑनलाईन आवेदन करने के बाद व्यवयायियों को ई-वे चालान मिलेगा। जिसके आधार पर समान का आयात-निर्यात कर सकेंगे।

ई-बे बिल चलान यानी रोड परमिट बनाने की सरकार का आदेश औरंगजेबी हुक्म

जिला ट्रक एशोसिएसन के जिलाध्यक्ष मंटु नटराज ने बताया कि सरकार की इस व्यवस्था सें वाहन मालिकों को माल मिलना बंद हो गया था। 50 हजार से ज्यादा के अंतर राज्य मार्ग परिवहन पर ऑप्शनल रूप में ई-बे बिल चलान यानी रोड परमिट बनाने की सरकार का आदेश औरंगजेबी हुक्म है। फरवरी माह से अनिवार्य रुप से रोड परमिट बनाने को लेकर चर्चा की गई जिससे ई-बे बिल चलान को अनिवार्य करने से सरकार को 20 फ़ीसदी में बढ़ोतरी कर दिया था।

जिससे व्यापारीयों ने माल देना बंद कर दिया। हमलोग सरकार के इस रवैया से परेशान है। तत्काल नियमों को लागू करने पर लगी रोक
वाणिज्यकर विभाग ने ई-वे चालान सिस्टम से व्यवसायियों कोपरेशानी में डाल दिया था। बड़े व्यवसायीयों को रोड परमिट में किसी प्रकार की छूट नहीं है। मार्च तक जीएसटी को लेकर तकनीकी परेशानी रहेगी जिसके लिए व्यवसाय मानसिक परेशान रहें। इस संदर्भ में व्यापारीयों ने सरकार से मिलकर परेशानी को अवगत करवाया। सरकार ने तकनिकी प्रोब्लम के कारण इसे तत्काल नियमों को लागू करने पर रोक लगा दिया है।

कोट- ई-वे चालान के लिए व्यवसायियों को दिया गया प्रशिक्षण

समान को लाने व ले जाने के लिए ई-वे चालान सिस्टम ट्रायल के रूप में 1 फरवरी से लागु करना था। लेकिन राज्य वाणिज्यकर विभाग के सिस्टम में तकनिकी प्रोब्लम के कारण उसे तत्काल नियमों को लागू करने पर रोक लगा दिया गया है। फिलवक्त ई-वे चालान भरने के लिए सभी व्यवसायियों को परेशान होने की जरूरत नहीं है। अगले आदेश के तक ई-वे चालान सिस्टम को रोका गया।

लखीसराय में फिनो पेमेंट्स बैंक की शाखा का शुभारंभ


लखीसराय- शनिवार को लखीसराय में फिनो पेमेंट्स बैंक की शाखा का मुख्य अतिथि फिनो पेमेंट बैंक के एरिया क्लस्टर हेड संजय कुमार सिंह, देवनंदन साह, लक्ष्मण साह एवं ज़िला काँग्रेस उपाध्यक्ष अरबिन्द कुमार के द्वारा संयुक्त रूप से दीपप्रज्वलित कर विधिवत शुभारंभ किया गया। इसके साथ ही फिनो पेमेंट्स बैंक के द्वारा क्षेत्र में बैंकिंग जागरूकता अभियान चलाया गया। जागरुक जागरूकता वाहन के माध्यम से लखीसराय के अलग-अलग जगहों पर लोगों को बैंकिंग की जानकारी दी गई। साथ ही केवल 4 मिनट में बैंक अकाउंट खोलने की प्रक्रिया से लोगों को रूबरू करवाया गया। फिनो पेमेंट्स बैंक पेपरलेस और डिजिटल बैंकिंग प्रणाली लेकर आई है। जिसे लखीसराय के लोग रूबरू हुए ।

फिनो पेमेंट बैंक के एरिया क्लस्टर हेड संजय कुमार सिंह ने कहा कि-बिहार के विभिन्न जिलों में एक अभियान के तहत फिनो पेमेंट बैंक लोगों को बैंकिंग प्रणाली की इस नई व्यवस्था “चुटकी में खाता खोलने” तथा “पेपरलेस बैंकिंग ” से आवाम को जागरुक कर रही है। 1 फरवरी 2018 से शुरू की गई अभियान 16 मार्च तक बिहार के विभिन्न जिलों में चलाया जाएगा। फिनो पेमेंट बैंक की बिहार में सभी 53 बैंक शाखाओं से जुड़े 27 जिलों में यह जागरुकता अभियान जागरूकता जारी रहेगा।

एरिया हेड कृष्णा गोपाल ने बताया कि फिनो पेमेंट बैंक में केवल 4 मिनट में ग्राहक अपना खाता खुलवा सकते हैं। जबकि महज 10 मिनट में खाता खोलने से लेकर एटीएम डेबिट कार्ड जारी करने तथा उसे एक्टिवेट करने की पूरी प्रक्रिया संपन्न करा सकते हैं। फिनो पेमेंट बैंक के खाताधारी को प्रदत्त एटीएम या डेबिट कार्ड के साथ एक दो लाख तक का दुर्घटना बीमा भी मुफ्त दिया जाता है। खाताधारी की दुर्घटना में मृत्यु हो अथवा अस्थाई रूप से अशक्त होने की अवस्था में बैंक खाताधारी के आश्रित को इस दुर्घटना बीमा का लाभ देती है। मौजूदा बैंकिंग व्यवस्था में फिनो पेमेंट बैंक की कार्यप्रणाली बैंकिंग क्रांति से कम नहीं है। जहां ग्राहक को उनकी बैंकिंग की जरूरत उनके दरवाजे/घर/दुकान. पर ही पूरा करना फिनो पेमेंट बैंक की कार्यप्रणाली में शामिल है। इस मौके पर फिनो पेमेंट्स बैंक के एरिया क्लस्टर हेड संजय सिंह. एवं एरिया हेड कृष्णा गोपाल, लेबिलिटी मैनेजर अमन कुमार एवं फिनो पेमेंट बैंक के सैकड़ों ग्राहक मौजूद थे।

मानवाधिकार संरक्षण प्रतिष्ठान के महासचिव नेपाल झा की असामयिक निधन

लखीसराय- शहर के जाने-माने समाजसेवी सह मानवाधिकार संरक्षण प्रतिष्ठान के महासचिव नेपाल झा का लखीसराय के एक निजी अस्पताल में इलाज के दौरान हार्ट अटैक आने से अचानक निधन हो गया। असामयिक निधन की खबर सुनते ही जिले भर में शोक की लहर फैल गया है। इनकी निधन की खबर सुनते भारी संख्या में लोगों का इनके आवास धर्मरायचक पर पहुंच गए।

नेपाल झा लगभग 65 वर्ष के थे। वो अपने पीछे एकलौता पुत्र मधुकर कुमार सहित बहु एवं तीन बेटी और दामाद को छोड़कर चले गए । जबकि सभी दामाद एवं बेटी नौकरी कर रहें हैं। पत्नी शांति देवी भी सरकारी स्कूल की टीचर हैं। सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री डा0 जगन्नाथ मिश्रा के बेहद करीबी माने जाते थे ।

सदर अस्पाताल में एक्स-रे का हुआ पुन: शुभारंभ

लखीसराय- सदर अस्पाताल में लगातार हो रही स्वास्थ्य सेवाओं में अनियमिता को लेकर खासकर एक्स-रे बंद होने पर रोगी काफी परेशान थे। अल्ट्रासाउंड एवं एक्स-रे को चालू करने के लिए कार्यप्रणाली में सुधार लाने के लिए सदर अस्पाताल स्थित सिविल सर्जन के कार्यालय में विगत 5 फरवरी को जिला रोगी कल्याण समिति की बैठक की गई थी।

जिसमें रोगी कल्याण समिति के अध्यक्ष सह सिविल सर्जन डा. राजकिशोर प्रसाद की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में रोगी को उपलब्ध कराई जाने वाली सुविधाओं एवं अस्पताल में व्याप्त असुविधाओं पर विशेष रूप से परिचर्चा की गई। और तत्काल एक्सरे का शुभारंभ करने के लिए दिशा-निर्देश दिया था। दो दिनों के अंदर सदर अस्पाताल में एक्स-रे चालू करने की बात पर मुहर लग गई। और विधिवत 8 फरवरी को पुन: एक्सरे का शुभारंभ कर दिया गया।

तीन दिन में 85 रोगीयों ने कराएं एक्स-रे

सदर अस्पाताल में एक्स-रे का शुभारंभ होते ही हड‌्डी रोग से पीडित मरीजों ने राहत की सांस ली है। 8 फरवरी को 28 मरीज, 9 फरवरी को 32 मरीज, एवं 10 फरवरी को 25 मरीजों ने एक्स-रे करवाये। तीन दिन के अंदर कुल 85 हड‌्डी रोग से पीडित रोगीयों ने एक्स-रे करवाया।

मरीजों की राय

बालगुदर निबासी प्रेम कुमार सिन्हा ने बताया कि मेरा हाथ टुट गया। मैं सदर अस्पाताल में डाक्टर से दिखाने के बाद एक्स-रे कराने के लिए पहुंचा हॅु। यहां एक्स-रे के लिए नॉमिनल फीस रखा गया है। मात्र 10 रूपया में एक्सरे करना आश्चर्य हो रहा है। बाजार से काफी राहत है।

हलसी प्रखंड के खुरियारी के अनील कुमार के छाती में दर्द होने पर सदर अस्पाताल में इलाज के बाद एक्स-रे करवाने पहुंचा। जहां एक्स-रे टेक्निशियन ने तुरंत एक्स-रे कर दिया। बाजार में एक्सरे का चार्ज 120 रूपये लग जाता। हम गरीब परिवर से है बहुत बड़ी बचत हुई है।

बोले सिविल सर्जन: एक्स-रे के लिए नॉमिनल फीस तय

सिविल सर्जन डा0 राजकिशोर प्रसाद ने बताया कि रोगी कल्याण समिति ने एक्स-रे एवं अल्ट्रासाउंड शीघ्र चालु करने के लिए बैठक में काफी सोच-विचार करने के बाद सदस्यों ने एक्स-रे एवं अल्ट्रासाउंड के लिए नॉमिनल फीस रखा गया है ताकि उससे आमद राशि को जीवन रक्षक दवाएं बाजार से उपलब्ध कराकर एमरजेन्सी मरीजों का इलाज में सहयोग मिल सके।

एक्स-रे के लिए गर्भवती महिलाएं, बीपीएल कार्डधारी, दिव्यांग एवं बुजूगों को छोड़कर सभी को नॉमिनल 10 रूपयें फीस लगेंगे। वहीं अल्ट्रासाउंड में भी गर्भवती महिलाएं, बीपीएल कार्डधारी, दिव्यांग एवं बुजूगों को छोड़कर सभी को नॉमिनल 50 रूपयें फीस लगेंगे यह सर्व सम्मति से निर्णय लिया गया। इसके लिए रोगी कल्याण समिति से रसीद मिलेगा। अब नियमित रूप से सदर अस्पाताल में एक्स-रे होगा।

पांचवे दिन 19 परीक्षा केंद्रों पर कुल 5 परीक्षार्थी निष्कासित

लखीसराय- इंटरमिडिएट परीक्षा के पांचवे दिन 19 परीक्षा केंद्रों पर जिला प्रशासन द्वारा पूरी सख्ती के साथ परीक्षा का संचालन किया गया। प्रथम पाली में भाषा विषय रसायन विज्ञान की परीक्षा में कुल 11501 परीक्षार्थी में 11306 उपस्थित हुए। जबकि 195 परीक्षार्थी ने परीक्षा छोड़ दी। परीक्षा केन्द्र पर जांच के दौरान पीबी हाई स्कूल परीक्षा भवन से कदाचार के आरोप में एक परीक्षार्थी जिसका रोल न0-18010756, पोलटैक्निक कॉलेज परीक्षा भवन से एक परीक्षार्थी जिसका रोल न0-18010263, संत जोसेफ स्कूल से एक परीक्षार्थी जिसका रोल न0-18010115, रामेश्वर सिंह उच्च विद्यालय बालगुदर से दो परीक्षार्थी जिसका रोल न0-18010416 एवं 18010593 को निष्कासित किया गया है।

दुसरी पाली में भाषा विषय (राजनिति शास्त्र) की परीक्षा में कुल 18024 परीक्षार्थी में 17081 उपस्थित हुए। जबकि 43 परीक्षार्थी ने परीक्षा छोड़ दी। सभी केंद्रों पर वीक्षकों व पुलिस बल द्वारा परीक्षार्थियों की गहन जांच के बाद प्रवेश कराया गया। इस मौके पर एसडीओ मुरली प्रसाद सिंह, डीईओ सुनयना कुमारी, एसडीपीओ पंकज कुमार, शिक्षा विभाग के डीपीओ रमेश पासवान, बीडीओ मंजुल मनोहर मधुप सहित अन्य पदाधिकारी ने केंद्रों का निरीक्षण किया।