लखीसराय की खबरें

139
0
SHARE

जमीन विवाद में ट्रिपल हत्याकांड के बाद दहशत के साए में जी रहे परिजन

लगभग एक सप्ताह पूर्व कजरा थाना क्षेत्र के पोखरामा गांव में जमीनी विवाद में ट्रिपल हत्या कांड के खौफ से परिजन व पोखरामा के ग्रामीण सप्ताह बीत जाने के बाद भी दहशत के बीच जीने को विवश है। जमीनी विवाद में ट्रिपल हत्या होने की खबर जैसे जैसे मंत्री व नेताओं को मिल रही है। वैसे- वैसे परिजनों को सांत्वना देने पोखरामा गांव पहुंच कर सभी मंत्री व नेताओं ने नामजद अभियुक्तों को शीघ्र गिरफ्तारी करने का दावा व न्याय दिलाने का
झूठा सांत्वना देकर जा रहे हैं। सप्ताह बीत जाने के बाद भी नामजद अपराधी पुलिस प्रशासन को खुली चुनौती देकर पुलिस हत्थे से बाहर है। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि पुलिस प्रशासन हत्यारों को गिरफ्तार करने के प्रति कितना सजग है। ट्रिपल हत्या के बाद से ही गांव के दुर्गा स्थान के निकट शाम ढ़लते ही गांव के चौक-चौराहों पर सन्नाटा फैल जाता है। हालांकी तत्काल परिजनों के गुहार पर पुलिस कप्तान के निर्देश पर परिजनों के घर पर पुलिस का पहरा लगा दिया गया है। बावजूद एक ही परिवार के तीन सदस्यों की हत्या के बाद परिजन सहमे है। परिजन हर हमेशा दहशत के साए में जीने को विवश है।

रेलयात्री दुर्घटना के बाद भी सबक नहीं ले रहे

दुर्घटनाओं के बावजूद भी पटरी क्रांस करने से बाज नहीं आ रहे है रेलयात्री। भले ही रेलवे द्वारा प्रत्येक रेल स्टेशन पर बड़े-बड़े हार्डिंग एवं बैनर लगाकर यात्रियों को चेतावनी दिया जाता है कि पटरी क्रांस करना यानी मौत को आमंत्रण देना है। इसके बावजूद भी जल्दबाजी में शार्टकट का सहारा लेकर रेल यात्री अपने जान जोखिम में डालने से बाज नहीं आ रहे हैं। पूर्व मध्य रेलवे के दानापुर डीवीजन अन्तर्गत मननपुर भलूई वंशीपुर स्टेशन पर ट्रेन रुकने के साथ पटरी क्रांस करने का नजारा सहज रूप से देखा जा सकता है। ओवर ब्रिज रहने के बावजूद यात्री पटरी क्रांस कर प्लेटफार्म पर आते जाते है। कई बार हो चुकी है दुर्घटना शार्ट कट के चक्कर में मननपुर भलूई एवं बंशीपुर में अक्सर दुर्घटना की आशंका बनी रहती है। खासकर मननपुर रेलवे स्टेशन पर ओवर ब्रीज रहने के बावजूद यात्री पटरी पार करते है जिस कारण आए दिन दुर्घटना होते रहती है। पिछले वर्षों में खासकर मननपुर रेलवे स्टेशन पर तीन लोगो की मौत थोड़ी सी असावधानी बरतने के कारण हो गया । बिडम्बना तो इस बात की है कि मननपुर से सटे मानव रहित फाटक पर भी जल्द बाजी में दो पहिए वाहन वाले नियम कायदा को हाथ में लेकर पटरी क्रांस कर जाते है। इस संबंध में मननपुर स्टेशन प्रबंधक मनोज कुमार से पूछे जाने पर बताया कि रेल पटरी क्रांस नहीं करने की बात हमेंशा रेल कर्मियों द्वारा ध्वनी विस्तारक यंत्र से ओवर ब्रिज का इस्तेमाल करने का हिदायत दिया जाता है। खासकर ट्रेन रूकने के साथ ही यात्रियों को उपरी पुल का प्रयोग करने की सलाह दी जाती है ।

सूचना अधिकार अधिनियम के तहत सूचना की मांग

सूर्यगढ़ा प्रखंड अंतर्गत अरमा पंचायत में मनरेगा योजना अंतर्गत वितिय वर्ष 2016-17 एवं 2017-18 में चल रहे योजनाओं के सभी अभिलेख का स्वअभिप्रमाणित दस्तावेज की मांग बिहार सूचना का अधिकार नियमावली 2006 के तहत माधोपुर निवासी पप्पू सम्राट ने प्रखंड कार्यक्रम पदाधिकारी, सूर्यगढ़ा से किया था। परंतु माह बीत जाने के बाद भी प्रखंड कार्यक्रम पदाधिकारी, सूर्यगढ़ा द्वारा सूचना उपलब्ध नहीं कराए जाने के उपरांत आवेदक
पप्पू सम्राट ने प्रथम अपीलीय पदाधिकारी सह उप विकास आयुक्त, लखीसराय से सूचना उपलब्ध कराने की मांग की है।

वर्षों बाद भी नहीं बदली कजरा की तस्वीर

सूर्यगढ़ा प्रखंड का कजरा बाजार सबसे अधिक गरीब व सुदुरवर्ती क्षेत्र है। कजरा आदिवासी, अतिपिछड़ा व अल्पसंख्यक बाहुल्य क्षेत्र के साथ साथ कजरा
बाजार तीन जिला पार्षद क्षेत्र से जुड़ा है। कजरा क्षेत्र में लगभग 25-30 गांव के लोग अपनी दैनिक उपयोग की वस्तुएं खरीददारी करने के लिए कजरा
बाजार आते हैं। बावजूद कजरा बाजार आज भी अपनी बदहाली पर आंसू बहाने को विवश है। आज तक कजरा बाजार की तस्वीर नहीं बदली। कई जिला परिषद सदस्य का कमान सभालें परंतु कजरा बाजार की बुनियादी असुविधाओं को लेकर एक बार नही जिला पदाधिकारी से अवगत नहीं करा सके नतीजतन यह है कि कजरा क्षेत्र के लाखों जनता को कजरा का पिछड़ेपन का टीस मार रहा है। कजरा क्षेत्र के दर्जनों गांवों की लोगों का विश्वास प्रशासन एवं जनप्रनिधियों के प्रति धीरे धीरे उठ रहा है। कजरा की जनता के लिए ज्वलंत समस्या पानी और शौचालय वर्षों से बना है। प्रशासन एवं जनप्रतिनिधियों की उपेक्षा से कजरा की तस्वीर नहीं बदल पाई है जो आज के समय में कजरा बाजार की असुविधा प्रशासन एवं जनप्रतिनिधियों के मुंह बायें खड़ी है।