लखीसराय में बेखौफ हुए अपराधी

459
0
SHARE

लखीसराय- जिले में अपराध का ग्राफ थमने का नाम नहीं ले रहा है। जिले में हत्याओं का दौर लगातार जारी है। लगातार हो रही हत्याओं के कारण लोगों में दहशत का माहौल बना हुआ है। पुलिस कई जिम्मेवार लोगों की हत्याकांड का उद्भेदन कर पाने में सफल नहीं हो पा रही है। पिछले 56 दिन में 07 लोगों की हत्याएं हो चुकी है। यानि की प्रति सप्ताह औसतन एक की हत्या।

लगातार हो रही घटनाएं पुलिस के गिरते इकबाल की ओर इशारा कर रही है। जिले के अमन पसंद लोग यह पूछने लगे हैं, कि अाखिर ये क्या हो रहा है? पुलिस क्या कर रही है? पुलिस घटना के किसी भी कारणों का सही तरीके से उद्भेदन करने में सफल नहीं हो पाई है। लोगों के बीच भय की स्थिति बन गई है। जिस किसी के परिवार के सदस्य घर से बाहर रहते हैं। उनके मन हमेशा भय बना रहता है कि कहीं कोई अप्रिय घटना की सूचना तो नहीं मिल जाएगी। परिवार के सदस्य के सकुशल घर पहुंचने के बाद ही मन को तसल्ली मिलती है कि भगवान का लाख-लाख शुक्र है की परिवार के सदस्य सुरक्षित घर में हैं। रविवार की रात टाऊन थाना क्षेत्र के पश्चिमी कार्यानंदनगर निवासी पेपर एजेंट रमेश कुमार सिंह की मुरघटी बहियार में चाकू से गोद कर हत्या कर दी गई।

56 दिन में सात लोगों की हुई हत्या जनवरी और फरवरी माह में अपराधियों ने 56 दिन में सात की हत्या की घटना को अंजाम दिया है।

01 जनवरी 2018- बभनगामा गांव में पप्पू सिंह की गोली मारकर हत्या

07 जनवरी 2018 इंगलिश मुहल्ला निवासी सन्नी कुमार का किऊल स्टेशन की आेर जाने वाली रोड से शव बरामद, बहन ने अज्ञात पर लगाया हत्या का आरोप।

09 जनवरी 2018 पोखरामा ग्रामवासी पवन सिंह की दिनदहाड़े चितरंजन रोड में हत्या।

27 जनवरी 2018- टाऊन थाना क्षेत्र के खगौर गांव में रिटायर्ड फौजी रामविलास यादव की गोली मारकर हत्या।

07 फरवरी 2018- बड़हिया थाना क्षेत्र के पहाड़पुर गांव में 65 वर्षीय जगदीश शर्मा की पीट-पीट एवं गला दबाकर हत्या।

16 फरवरी 2018- चानन थाना क्षेत्र के हनुमानगढ़ी गांव में युवक की टांगी से काटकर हत्या।

26 फरवरी 2018- रविवार की देर रात पेपर एजेंट रमेश कुमार सिंह की मुरघटी बहियार में चाकू से गोद कर हत्या।

पड़ताल: अवैध तरीके से संचालित हो रहे हैं लखीसराय में कई निजी नर्सिंग होम

-अब तक सिर्फ 13 ने ही कराया औपबंधिक रजिस्ट्रेशन।

-बगैर लाइसेंस धड़ल्ले से खोल रहे हॉस्पिटल व किलीनिक।

-नियम का उल्लंघन होने के बाद भी नहीं हो रही है कोई कार्रवाई।