लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाला के चौथे मामले में 14 साल की सजा

171
0
SHARE

रांची – चारा घोटाला के चौथे मामले दुमका कोषागार मामले में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को सीबीआई के विशेष जज शिवपाल सिंह ने RC 38A/96 Ipc के तहत 7 साल और pc एक्ट के तहत 7 साल की सजा और 30-30 लाख रूपये की जुर्माना सुनाई. गत 19 मार्च को सीबीआई कोर्ट ने लालू समेत 19 आरोपियों को दोषी करार दिया था. अदालत ने दोषियों के खिलाफ सजा के बिंदु पर सुनवाई के लिए 21 से 23 मार्च की तिथि निर्धारित की थी. लालू की सजा पर सबकी निगाहें टिंकी थी. अबतक की उन्हें सबसे बड़ी सजा सुनाई गई है.

बता दें कि लालू इसके पूर्व तीन मामलों में दोषी करार दिए जा चुके हैं. यह मामला दुमका कोषागार से अवैध निकासी का है, जिसमें उन्हें सात साल की सजा सुनाई गयी. देवघर मामले में साढ़े तीन साल और चाईबासा मामले में पांच साल की सजा सुनाई जा चुकी है. फ़िलहाल लालू रांची के होटवार जेल में सजा काट रहे हैं.

गौरतलब है कि सभी दोषियों के सजा के बिंदु पर बहस पूरी करने के दौरान हर दोषी को बचाव पक्ष की तरफ से बीमार बताया गया. हालांकि सीबीआई के अधिवक्ताओं ने इसका विरोध करते हुए कहा कि अब जेल में भी काफी अच्छी सुविधाएं मिल रही है और वहां इसके लिए उन्हें कोई खर्च भी नहीं देना पड़ता है तो जेल में रहना उचित होगा. इस ग्राउंड पर किसी की भी सजा कम ना की जाए.