शराबबंदी से क्यों चिढ़ गए हैं राहुल- नीरज

1435
0
SHARE

पटना- जनता दल (युनाइटेड) के प्रवक्ता और विधान पार्षद नीरज कुमार ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पहचान ‘पॉलिटिक्स विथ टिफरेंस’ के लिए जबकि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की पहचान ’पॉलिटिक्स विथ कंपरमाईज’ के रूप में की जाती है। मुजफ्फरपुर सड़क हादसे पर राहुल गांधी के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए नीरज कुमार ने कहा कि शराब पिलाकर राष्ट्रनिर्माण हो सकता है यह राहुल गांधी का नजरिया हो सकता है, जद (यू) का यह नजरिया नहीं है। मुजफ्फरपुर की घटना दुखद घटना है और विपक्ष को मुद्दे तय करने का अधिकार है परंतु राहुल जी नीतीश की सरकार का 12 साल का ट्रैक रिकॉर्ड है कि सरकार न किसी को बचाती है और न किसी को फंसाती है।

राहुल गांधी आपके सरनेम में ’गांधी’ लगा हुआ है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने शराबबंदी के पक्ष में वकालत की थी और इसी वकालत के तहत बिहार में शराबबंदी की गई, जिससे बिहार के खेत-खलिहानों तक में सामाजिक सौहार्द का निर्माण हुआ है। राहुल गांधी आपकी आत्मा अपराधियों और भ्रष्टाचारियों के साथ हो गई है, आपके सहयोगी लालू प्रसाद जेल में हैं। आपको यह भी मालूम होना चाहिए की दुष्कर्म के आरोपी विधायक राजवल्लभ यादव से लालू रात के अंधेरे में मिलते हैं। ऐसे में आपको शराबबंदी से चिढ़ होगी ही।

 ट्वीट

‘’राजनीति का एजेंडा द्वेष व ईर्ष्या से नही चलती, विपक्ष की राजनीति सकरात्मक होनी चाहिए, विपक्ष के नेता होने के नाते आरोपी को जल्द से जल्द जेल भेजने की मांग होनी चाहिए , परन्तु  अबोध बच्चे जिन्हें काल ने असमय हमलोगों से छीन लिया, उस पर राजनीति नही करनी चाहिए..!!’’

राहुल जी, शराबबंदी से चिढ़ क्यों? गाँधी जी की बात तो करते है,तो किसी गांधीवादी से पूछ लें,शराबबंदी से आर्थिक स्वावलंबन की संख्या में वृद्धि हुई है।आरोपी नशे में धुतथा,अगर आपके पास प्रमाण है तो पुलिस को दें, कार्रवाई तय, अपने मित्रों से पूछिए, शहाबुद्दीन और राजबल्लभ की क्या हाल है ?

राहुल गाँधी जी कहा जाता है कि दामाद की सेवा दरभंगा के लोगों से सीखिये परन्तु अब दामाद की सेवा कोई /कांग्रेस से सीखेगा। इसका तो जवाब दे दीजिए कांग्रेस के ऑफिसियल ट्वीटर हैंडल  से एक बैंक घोटाले का टवीट डिलीट क्यों हुआ ?