शिलान्यास के मौके पर बीजेपी के पूर्व जिलाध्यक्ष ने काटा बवाल

348
0
SHARE

सुपौल – रेलवे परिसर में आज सुपौल -अररिया रेल खंड के शिलान्यास के मौके पर राजनीतिक द्वेष उस समय खुल कर सामने आ गयी, जब शिलान्यास कार्यक्रम के दौरान सुपौल जिलाधिकारी बैद्यनाथ यादव मंच से लोगो को संबोधन करने जा रहे थे। तभी बीजेपी के पूर्व जिलाध्यक्ष संतोष प्रधान ने अपनी सीट से उठकर विरोध करने लगे। विरोध का सुर हर कोने से उठता देख मौके पर स्थानीय प्रशासन एवं रेल प्रशासन ने नाराज पूर्व जिलाध्यक्ष की बात मानी और जिलाधिकारी को वापस अपने सीट पर जाकर बैठना पड़ा।

दरअसल इस नई रेल परियोजना को लाने का राजनैतिक श्रेय सभी राजनीतिक पार्टी लेना चाह रही थी, जहाँ मंच से स्थानीय कांग्रेस सांसद रंजीत रंजन, अररिया के राजद सांसद सरफ़राज़ आलम, पिपरा के राजद विधायक यदुबंश कुमार यादव, त्रिवेणीगंज के जेडीयू विधायक विणा भारती, सुपौल जिलाधिकारी बैद्यनाथ यादव सभा को संबोधित कर रहे थे। मंच से महागठबंधन के नेताओ द्वारा इसे अपने राजनीतिक लाभ लेने के लिये अपने पक्ष में भुना रहे थे जो बीजेपी के पूर्व जिलाध्यक्ष को नागवार गुजरा, अपनी नाराजगी जताते हुये मंच के कार्यक्रम को बंद करने पर अड़ गये। कहा कि हमलोग पटना से रेल मंत्री पीयूष गोयल, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के द्वारा शिलान्यास कार्यक्रम को देखने आये है, न कि स्थानीय नेता का भाषण सुनने आये है।

वहीं दूसरी ओर राजद के अजय कुमार अजनबी भी संतोष प्रधान के विरोध में उतर गये कि मंच का कार्यक्रम बंद नहीं होगा। बाद सर्व दलीय नेताओ की पहल पर मामला शांत हुआ। वहीँ संतोष प्रधान ने इसे रेल पदाधिकरियों की साजिश बतलाते हुये कार्रवाई की माँग की।