श्री इन्द्रदमनेश्वर महादेव मंदिर अशोक धाम में धूमधाम से हुआ श्रावणी मेला का उद्घाटन

164
0
SHARE

बिहार के देवघर के नाम से प्रसिद्ध श्री इन्द्रदमनेश्वर महादेव मंदिर अशोक धाम लखीसराय में बुधवार को श्रावणी मेला का विधिवत उद्घाटन बिहार के श्रम संसाधन मंत्री सह क्षेत्रीय विधायक विजय कुमार सिन्हा, डीएम शोभेन्द्र कुमार चौधरी ने संयुक्त रूप से नारियल फोड़कर एवं फीता काटकर किया।

मंदिर के गर्भगृह मे विद्वान पंडितों के द्वारा वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ हर हर महादेव व बोल बम के नारों के साथ भगवान शिव की पूजा की। प्रसिद्ध इंद्रदमनेश्वर महादेव मंदिर अशोक धाम में सुबह से शिव भक्तों का सैलाब उमड़ पड़ा। आज श्रावणी मेला के पहले दिन 5 हजार से अधिक शिवभक्तों ने शिवलिंग पर जलाभिषेक किया। इससे पूर्व मंदिर परिसर में श्रम संसाधन मंत्री विजय कुमार सिन्हा, डीएम शोभेन्द्र कुमार चौधरी, एसपी सुशील कुमार, एसडीओ मुरली प्रसाद सिंह, डीसीएलआर नीरज कुमार, मंदिर ट्रस्ट के सचिव डॉ. श्याम सुंदर प्रसाद सिंह, कोषाध्यक्ष राजेन्द्र सिंधानिया ने मंत्रोच्चारण के बीच शिवलिंग पर जलाभिषेक किया।

काविरयों को सुखद अनुभूति के लिए प्रशासनिक स्तर पर पुरी तैयारियां की गई है। यहां आने वाले श्रद्धालुओं को बेहतर से बेहतर सुविधाएं मिले यह प्राथमिकता में है। विधि-व्यवस्था के मद्देनजर भी श्रद्धालुओं के लिए पुख्ता इंतजाम किया गया है। विधि-व्यवस्था को दुरुस्त बनाए रखने के लिए 24 घंटे आइएमसीआर में स्थापित कंट्रोल रूम मुस्तैद रहेगा। मेले के दौरान होटल व ढाबों पर प्रशासन की पैनी निगाह होगी। साथ ही मेला क्षेत्र में मांस-मदिरा के सेवन पर प्रतिबंध रहेगा। मेला क्षेत्र को स्वच्छ बनाए रखने के लिए पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।

इस पूजा अर्चना मे बिहार के श्रम संसाधन मंत्री सह क्षेत्रीय विधायक विजय कुमार सिन्हा, डीएम शोभेन्द्र कुमार चौधरी, एसपी सुशील कुमार, एसडीएम मुरली प्रसाद सिंह, डीसीएलआर नीरज कुमार, मंदिर ट्रस्ट सचिव श्याम सुंदर प्रसाद सिंह, राजेंद्र सिंघानिया, डा.प्रविण कुमार सिन्हा सहित अन्य गणमान्य नागरिक मौजूद थे।

श्री इन्द्रदमनेश्वर महादेव मंदिर अशोक धाम ट्रस्ट के अध्यक्ष सह जिलाधिकारी शौभेन्द्र कुमार चौधरी ने बताया कि आज से नारियल फोड़ एवं फीता काटकर श्रावणी मेला का विधिवत शुभारंभ किया गया है।
हर साल की भांति इस साल भी मंदिर परिसर में सुरक्षा के लिए दंडाधिकारी व पुलिस पदाधिकारी की तैनाती की गई है। सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गये हैं। भारी मात्रा में महिला- पुरूष पुलिस बल की भी तैनाती की गई है। सीसीटीवी कैमरा से मंदिर प्रागंण की निगरानी रखी जायेगी।

बिहार सरकार के श्रम संसाधन मंत्री सह क्षेत्रीय विधायक विजय कुमार सिन्हा ने कहा कि अशोक धाम बिहार के लिए गौरव है। जिस तरह से पूरी व्यवस्था बनी है। भगवान शिव का स्वयं भू मंदिर है। जगत जननी जगदंबा का मंदिर है, बगल मे माँ त्रिपुर बाला सुंदरी का मंदिर है। त्रेतायुगीन श्रृंगी ऋषि आश्रम मे शिव मंदिर है कुल मिलाकर यहाँ एक अद्भुत संयोग है जो एक पूरा पर्यटक स्थल है। आज से एक महिने के लिए लगातार चलने वाली श्रावणी मेला का शुभारंभ किया गया है। यह बिहार का मिनी देवघर है यहाँ सभी शिवभक्त आऐ और शान्ति स्नेह और सद्भाव के साथ पूजा अर्चना करे यही शुभकामनाएं है।

नगर परिषद क्षेत्र में मुख्यालय से सड़क मार्ग से लगभग पांच किमी दूर अशोक धाम मंदिर है। यह स्थान भव्य मंदिर एवं विशाल शिवलिंग के लिए जाना जाता है। बिहार से झारखंड के अलग होने के बाद यह स्थान बाबाधाम के रूप में प्रसिद्ध है। मंदिर परिसर में ही अन्य कई मंदिर बनाए गए हैं। यहां शादी संस्कार भी कराए जाते हैं। इसके लिए मंदिर प्रबंधन ने कई धर्मशाला का निर्माण भी कराया है। बिहार राज्य मेला प्राधिकार द्वारा श्रावण में यहां श्रावणी मेला लगाया जाता है जो पूरे एक माह तक चलता है। पदेन जिलाधिकारी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष होते हैं।

मंदिर का इतिहास

नगर परिषद लखीसराय वार्ड नंबर एक रजौना चौकी गांव में 7 अप्रैल 1977 को अशोक यादव एवं गजानन साव नामक दो चरवाहे द्वारा खेलने के दौरान एक काले पत्थर का विशाल प्राचीन शिवलिंग का उदय हुआ। इस स्थल का नाम श्री इंद्रदमनेश्वर महादेव मंदिर अशोकधाम पड़ा। 11 फरवरी 1993 को जगन्नाथपुरी के शंकराचार्य स्वामी निश्चालानंद द्वारा मंदिर निर्माण का शिलान्यास किया गया।

2001 में मंदिर ट्रस्ट का निर्माण कर 111 कट्ठा भूमि मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट को दी गई। इसके बाद एक भव्य मंदिर का निर्माण कराया गया। जिसकी भव्यता व दिव्यता आज बिहार वासियों के लिए आस्था का मंदिर बन चुका है। मंदिर ट्रस्ट द्वारा प्रत्येक वर्ष सामूहिक विवाह का आयोजन किया जाता है। प्रत्येक सावन महीना के पवित्र मौके पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु यहां विशाल शिवलिंग का दर्शन करने आते हैं।