सड़क सुरक्षा व शिक्षा जागरूकता अभियान के लिए पहले नौकरी छोड़ दी इंजीनियर की अब ग्रेटर नोएडा में बेच डाली जमीन

262
0
SHARE

दया नन्द तिवारी

रोहतास – सड़क सुरक्षा जागरूकता अभियान को गति देने के लिए राघवेंद्र ने पहले सॉफ्टवेयर इंजीनियर की नौकरी छोड़ दी और अब ग्रेटर नोएडा में बेच दी अपनी जमीन। जी हां, इस शख्स को अब हेलमेट मैन के नाम से जाना जाता है।

कहा जाता है कि व्यक्ति के जीवन में अचानक आयी बाधाएं से भी अनुभव होते रहे हैं और ऐसा ही कुछ राघवेंद्र के साथ हुआ। दोस्त से बिछड़ने की गम ने राघवेंद्र को झकझोर दिया और राघवेंद्र ने उसी वक्त से इंडिया के टोल प्लाजाओं से गुजरने वाले बिना हेलमेट बाइक सवारों को निशुल्क हेलमेट वितरण कर सड़क सुरक्षा जागरूकता अभियान शुरू कर दी।

राघवेंद्र बताते हैं कि वर्ष 2014 में से यह अभियान शुरू किया। उन्होंने बताया कि सड़क दुर्घटना में बिना हेलमेट बाईक सवार उनके एक मित्र की मौत हो गई। उनका मानना है कि अगर उनके दोस्त हेलमेट पहने रहते तो शायद जान नहीं जाती। दोस्त से बिछड़ने के बाद राघवेंद्र ने पहले सॉफ्टवेयर इंजीनियर की नौकरी छोड़ी और सड़क सुरक्षा जागरूकता अभियान में पैसे की कमी महसूस हुई तो ग्रेटर नोएडा में जमीन बेच दी।

उन्होंने कहा कि सड़क सुरक्षा जागरूकता अभियान को गति देने में जुटे है और यह अभियान चलते रहेगा। बिहार के कैमूर जिला के रहने वाले राघवेंद्र ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकार को टोल प्लाजाओं से यह कानून बहाल करनी चाहिए कि बिना हेलमेट के बाईक सवार नहीं पार करे, क्योंकि अधिकांश घटनाएं टोल प्लाजाओं के 5 से 7 किलोमीटर के दायरे में घटते रहे हैं। राघवेंद्र ने हेलमेट के साथ ही जरूरतमंद बच्चों के बीच लोगों से ली गई किताबें भी वितरण करते हैं, यानी राघवेंद्र ने सड़क सुरक्षा जागरूकता अभियान के साथ ही शिक्षा के भी अलख जगाने की मुहिम छेड़ रखी है।

इस मुहिम में राघवेंद्र कुमार से लोगों का कारवां भी जुड़ता जा रहा है। गौरतलब है कि गांधी जयंती के अवसर पर राघवेंद्र कुमार ने सड़क सुरक्षा और शिक्षा जागरूकता अभियान को सासाराम टोल प्लाजा पर गति दे रहे थे, जहां पर रोहतास जिला करणी सेना के साथ सासाराम टोल प्लाजा के अधिकारी कर्मी और शिवसागर थाना की पुलिस भी मौजूद रहे।