सदर अस्पताल में इलाज के दौरान छात्र की हुई मौत

389
0
SHARE

मधेपुरा- इंजीनियरिंग के छात्र की सदर अस्पताल में इलाज के दौरान हुई मौत को लेकर छात्रों ने किया जमकर हंगामा।छात्रों का आरोप है अस्पताल में इलाज में लापरवाही के कारण हुई छात्र की मौत। मृतक छात्र सत्यम कुमार मधुबनी ज़िले के फुलपरास का रहने वाला थाऔर मधेपुरा के बीपी मंडल इंजीनियरिंग कॉलेज के प्रथम वर्ष का छात्र था। मौत की खबर सुनते ही कॉलेज के सभी छात्रों ने अस्पताल गेट के सामने रोड को जाम कर उग्र प्रदर्शन व आगजनी कर अस्पताल प्रबंधन के विरोध में जमकर नारे लगाये।

मिली जानकारी अनुसार मधेपुरा के गवर्नमेंट बीपी मंडल इंजीनियरिंग के प्रथम वर्ष के छात्र सत्यम की तबियत खराब होने पर उसके साथी छात्रों ने कल सदर अस्पताल में भर्ती कराया था। लेकिन अस्पताल की लचर स्वाथ्य व्यवस्था व चिकित्सकों की लापरवाही के कारण साधारण तबियत खराब रहने के बाद भी सत्यम को नहीं बचाया जा सका। छात्र की मौत आज सुबह के 3 बजे हो गई। मौत की जानकारी मिलते ही इंजीनियरिंग कॉलेज के सभी छात्र अस्पताल पहुँचकर हंगामा करने लगे।

उग्र छात्रों को देखकर अस्पताल कर्मी और चिकित्सक भाग खड़े हुए। देखते ही देखते आक्रोशित छात्रों ने अस्पताल गेट के सामने मुख्य सड़क को जाम कर आगजनी व प्रशासन विरोधी नारे लगाने लगे। सूचना मिलते ही मधेपुरा के एएसपी राजेश कुमार दल बल के साथ अस्पताल पहुँचकर छात्रों को समझाना चाहा लेकिन अपने साथी को खोने बाले छात्र कुछ भी सुनने को तैयार नहीं थे।

छात्र जिलाधिकारी के आने व दोषी चिकित्सक और कर्मी पर कार्रवाई की मांग को लेकर अड़े रहे। मौके पर जिलाधिकारी मो सोहैल व एसपी विकास कुमार पहुंच कर छात्रों को शांत करने का प्रयास किये। छात्रों का कहना है कि 27 जनवरी को दिन के 2 बजे तबियत खराब होने के बाद सत्यम को भर्ती कराये थे। लेकिन चिकित्सक व कर्मी इलाज के प्रति गंभीरता नहीं दिखाये। जिसके चलते सत्यम की मौत हो गई। अगर सही तरीके से इलाज व देखभाल होता तो सत्यम की जान बच सकती थी। छात्र की मौत से स्थानीय लोग भी काफी आक्रोशित हैं और स्वाथ्य सेवा को जिम्मेवार बता रहे हैं।