सरकार के खाद्य आपूर्ति योजना के लाभ से वंचित परिवार

277
0
SHARE

दिलीप कुमार

कैमूर – जिले के कुदरा प्रखंड का आपूर्ति कार्यालय सरकार की योजनाओं का लाभ आम जन तक पहुंचाने में अक्षम साबित हो रहा है। हद तो तब हो जाती है जब जन वितरण प्रणाली के दुकानदारों से पीड़ित ग्रामीण कार्यालय पहुंचते हैं तो कार्यालय भी बंद रहता है। कुदरा प्रखंड कार्यालय में कई माह से कोई भी आपूर्ति पदाधिकारी कार्यालय में झांकने तक नहीं आता है। ऐसा नहीं है कि विभाग द्वारा किसी की पोस्टिंग नहीं हुई है, लेकिन वर्तमान आपूर्ति पदाधिकारी छुट्टी पर है और उनके जगह कोई दूसरा प्रभारी आपूर्ति पदाधिकारी जब से प्रभार में हैं तब से एक दिन भी वह कार्यालय में झांकने तक नहीं आए हैं, जिससे जन वितरण प्रणाली के दुकानदारों पर से उनका कंट्रोल पूरी तरह से हट चुका है और वह दुकानदार मनमाने तरीके से वैसे परिवारों को प्रताड़ित करते हैं जो मेहनत मजदूरी कर किसी तरह से अपना गुजारा करते हैं।

सबसे ज्यादा जन वितरण प्रणाली दुकानदारों का शिकार वैसे महादलित परिवार आते हैं जो पूरी तरह से अनपढ़ होते हैं और मेहनत मजदूरी पर ही उनकी जीविका चलती है। ऐसे लोगों को बरगला कर जन वितरण प्रणाली दुकानदार उनका राशन कालाबाजारी कर देते हैं और उन परिवारों को सरकार की योजना चालू होने के बावजूद लाभ नहीं मिलता और वह महंगे दामों पर उस राशन को खरीदने पर मजबूर होते हैं।
कूदरा प्रखंड के चिलबिली पंचायत के लालापुर अकोढ़ी गांव में
40 परिवारों का बस्ती है जहां सिर्फ महादलित परिवार के लोग ही रहते हैं। लेकिन इन परिवारों को सरकार के खाद्य आपूर्ति योजना का लाभ नहीं मिल रहा है। परिवार वाले मेहनत मजदूरी करके अपने परिवार वालों का भरण पोषण करते हैं।

ग्रामीण महिला बताती हैं कि हम लोगों को पहले राशन मिलता था लेकिन विगत दो वर्षों से राशन और किरासन कुछ भी नहीं मिल पा रहा है। हम लोग मजदूरी करके अपने परिवार का भरण पोषण करते हैं। सरकार का यह योजना सिर्फ अमीरों के लिए रह गया है या वैसे परिवार के लिए रह गया है जो अधिकारियों के प्यारे होते हैं। लेकिन हम महादलित परिवार के लोगों के लिए कोई फायदा नहीं है।

उन्होंने कहा कि कई बार ब्लॉक जाकर बीडियो से भी बोले लेकिन हम लोगों का कोई सुनने वाला नहीं है। बीडियो कहते हैं कि राशन मिलेगा यह कह कर सिर्फ आश्वासन देकर लोग वहां से हटा देते हैं, लेकिन मिलता नहीं है। घर वाले दिन भर मेहनत मजदूरी करते हैं तब जाकर सुबह और शाम का खाना का जुगाड़ हो पाता है।

वहीं जिलाधिकारी डॉ. नवल किशोर चौधरी ने बताया कि शिकायत मुझे मिली है स्पष्टीकरण मांगा गया है जांच कर कार्रवाई की जाएगी।