सहरसा मंडल कारा के बाहर अपराधियों की बढ़ती गतिविधी से जेल प्रशासन चौकस

453
0
SHARE

सहरसा/संवाददाता-

सहरसा मंडल कारा में अब जेल ब्रेकिंग की घटना भी अवश्यंभावी नजर आने लगी है । घटना को अंजाम देने के लिए अपराधियों द्वारा रणनीति भी बनायी जाने लगी है । शनिवार की शाम जेल के बाहर स्थित बगान में छिपकर बाहर के अपराधियों ने दो मोबाइल व तीन नशीली पेय पदार्थ को जेल के अंदर फेककर बनायी जा रही रणनीति का खुलासा भी कर दिया है । हांलाकि जेल के अंदर ड्यूटी पर तैनात संतरी द्वारा अपराधी को मौके ए वारदात से देख लेने के बाद जेल के सुरक्षा कर्मीयों ने उसे रंगेहाथ गिरफ्तार कर लिया । लेकिन गिरफ्तार अपराधी द्वारा पिछले तीन-चार दिनों से जेल के बाहर मटरगश्ती कर इस घटना को अंजाम देने की हरकत के बाद तो जेल प्रशासन की बेचैनी भी बढ़ गयी है । कारा अधीक्षक सुरेन्द्र कुमार ने गिरफ्तार अपराधी को शनिवार की रात सदर थाना पुलिस के हवाले करते हुए मामला भी दर्ज कराया है । कारा अधीक्षक कुमार ने सदर थाना में आवेदन देकर कहा कि 6 मई की शाम पेरीमीटर दीवार के बाहर स्थित बगान में गुमटी नं. तीन के पास से हटियागाछी मोहल्ले में रहने वाले महेश्वरी चौधरी के पुत्र मनीष कुमार दो मोबाईल एवं तीन डाईलेक्स डी.सी कफ शिरप कारा के अंदर फेंक रहा था। लेकिन सुरक्षा कार्ड कक्षपाल रविश चन्द्र ने उसे रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। मनीष कुमार पिछले तीन-चार दिनों से अपने उद्देश्यों की पूर्ति करने के लिए कारा बगान के आस-पास घूम रहा था। लेकिन उसकी गतिविधि को देख जेल के सुरक्षा प्रहरी उसपर नजरें गड़ा रखी थी। शनिवार की शाम जब वह अपने उद्देश्य को पूरा करने की कोशिश में जुटा तत्क्षण दबोच लिया गया। जेल पुलिस ने बगान से उसकी मोटर साईकिल भी जप्त कर लिया । जबकि गिरफ्तार अपराधी द्वारा जेल के अंदर फेके जा रहे जियोनी मोबाईल तथा नोकिया मोबाईल को भी जप्त कर लिया गया है । इस संबंध में संपर्क करने पर कारा अधीक्षक सुरेन्द्र कुमार ने रविवार को मामले की पुष्टि की। जबकि सदर थानाध्यक्ष भाई भरत ने बताया कि जेल अधीक्षक के आवेदन के आलोक में प्राथमिकी दर्ज करने की कार्रवाई की जा रही है। थाना पुलिस मामले की जांच में जुट गयी है। मंडल कारा के बाहरी भाग से मोबाईल व नशीली पेय पदार्थों को जेल के अंदर फेकने की घटना तो यह सिद्ध करता है कि जेल के अंदर बंद बंदी और बाहर घूम रहे उसके गुर्गे के बीच बिना संपर्क स्थापित हुए इस तरह की घटना को अंजाम देना कभी भी संभव नहीं है । गिरफ्तार अपराधी मनीष ने इन बातों की पुष्टि भी कर दिया है । उसने थाना पुलिस के समक्ष कहा कि जेल में बंद छोटू मिश्रा द्वारा मोबाईल पर संपर्क साधकर मोबाईल व नशीली पेय पदार्थ की मांग की गयी थी । पुलिस ने गिरफ्तार अपराधी की निशानदेही पर शहर के एक होटल परिसर स्थित दवा दुकान के संचालक आनंद कुमार को भी हिरासत में लेकर पुछताछ शुरू कर दी है । अपराधी मनीष ने उस दवा दुकान के संचालक से नशीली पेय पदार्थ खरीदा था । ज्ञात हो सहरसा मंडल कारा में बंद डीएम हत्याकांड के सजायाप्ता बंदी पूर्व सांसद आनंद मोहन ने पिछले जनवरी माह में बिहार के मुख्यमंत्री को पत्र प्रेषित कर कहा था कि सहरसा मंडल कारा में कभी भी बम विस्फोट की घटना हो सकती है। जेल के बाहरी भाग से अपराधियों द्वारा जेल के अंदर बंद शातिर अपराधियों तक अवैध सामान फेक कर भेजे जा रहे हैं। लेकिन ड्यूटी पर तैनात संतरी बाहर व अंदर के उन अपराधियों पर कोई कार्रवाई नहीं करती । जेल प्रशासन भी चुप्पी साधना ही बेहतर मानते हैं । ऐसे में यहां कभी भी बम विस्फोट की घटना हो जाए तो कोई बड़ी बात नहीं ।