सांसद की अध्यक्षता में हंगामेदार रहा अनुश्रवण एवं निगरानी समिति की बैठक

291
0
SHARE

लखीसराय- शनिवार को समाहरणालय के मंत्रणा के सभागार में मुंगेर की सांसद वीणा देवी की अध्यक्षता में जिलेभर के अन्तर्गत संचालित 28 केंद्र प्रायोजित योजनाओं की जिला स्तरीय अनुश्रवण एवं निगरानी समिति की बैठक आहूत की गई। इस दौरान एमजीएनआरईजीए, एनआरएलएम, डीडीयू-जीकेवाई, पीएमजीएसवाई, एनएसएपी, एसबीएम, एनआरडीडब्लूपी, एमडीएम, एनआरएलएमपी, अमृत, उदय, पीएमसीएसआईवाई सहित भारत सरकार की सभी योजनाओं की विभागवार समीक्षा की गई। बैठक की कार्रवाही पूर्व की अनुपालन प्रतिवेदन अवलोकन के साथ प्रारंभ की गई। इस दौरान सांसद वीणा देवी ने कहा कि विकास कार्यों में शिथिलता तनिक भी बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। उन्होंने विभागवार समीक्षा के दौरान सरकारी कार्यों में गड़बड़ी करने वालों के विरुद्ध जिलाधिकारी से सख्त कार्रवाई करने की हिदायतें दीं। सांसद को बताया गया है कि कार्यपालक अभियंता ग्रामीण कार्य प्रमंडल द्वारा बताया गया कि केन्द्र सरकार द्वारा पथो में कार्य प्रगति पर है।

बैठक के बीच में चाय का कप-प्लेट फेंककर उठ गई सांसद

बैठक के दौरान विगत कई बैठकों में लिए गए निर्णयों का अनुपालन नहीं किये जाने पर सांसद अधिकारियों पर बिफरते हुए जमकर फटकार लगाई। उन्होने कहा कि सूर्यगढ़ा प्रखंड के अंतर्गत बाकरचक-कोनीपार सड़क मरम्मतीकार्य के दरम्यान संवेदक द्वारा घाेर अनियमिता बरती गई। जिसे जिला प्रशासन से हमने संवेदक को कालीसुची में डालने की बात कहा था जो आज तक नहीं हो सका। यह बैठक के निर्णयों का सरासर उल्लंघन हुआ है। इतना कहते ही वो गुस्से में लाल हो गई और उन्होने टेबुल पर रखे चाय के कप-प्लेट को फेंककर बैठक से बाहर निकल गई।

अधिकारियों के द्वारा काफी मान मनौवल के बाद पुन: अनुश्रवण एवं निगरानी समिति की बैठक में सांसद वीणा देवी शामिल हुई

दूसरी बार पुन: बैठक शुरू हो गया। सभा हॉल में सांसद वीणा देवी ने कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना, पथ निर्माण, NHPC, शिक्षा विभाग, मध्यान भोजन की योजना विभाग, सर्व शिक्षा अभियान, साक्षरता अभियान, स्वास्थ्य विभाग, कृषि विभाग, मत्स्य विभाग, ग्रामीण विकास विभाग की योजना, नगर विकास विभाग की योजनाएं, राष्ट्रीय सामाजिक सहायता कार्यक्रम, आपूर्ति विभाग एवं राजस्व विभाग सहित लघु सिचाई, कल्याण योजना ,भू अर्जन विभाग, बिजली विभाग सहित कई विभागों की पूरा नहीं होने पर असंतोष जताया और कहा कि जिला प्रशासन द्वारा बैठक को खानापूर्ती के तौर पर लिया जा रहा है। बैठक के बाद सारी योजनाओं को कागज से बाहर धरातल पर नहीं उतारा जा रहा है। उन्होनें कहा कि इस तरह के बैठक करने से कोई फायदा नहीं है। विगत चार साल के अंदर केन्द्र प्रायोजित योजनाओं को धरातल पर उतारने में जिला प्रशासन ने रूची नहीं दिखाई है। समय पर आम जनता को बिजली, सड़क व पानी नहीं मिलेगी तो क्या जनता हमें बख्शेगी, लंबित कार्यो को पूरा करें वरना लोकसभा के सत्र में आवाज बुलंद करूँगी।

इस बार सूर्यगढ़ा के विधायक प्रहलाद यादव ने विद्युत विभाग के अधिकारियों पर समय से पोल नहीं गाड़ने पर आपति जताते हुए कहा कि जिलेभर के किसानों के लिए सरकार द्वारा एक सौ तीन करोड़ रूपया का फंड दिया गया है। ताकि किसानों के खेतों तक बिजली पहुंच सके और पम्पसेट के माध्यम से खेती करने में आसानी हो परन्तु विद्युत विभाग लापारवाह है। जिला परिषद अध्यक्ष राम शंकर शर्मा उर्फ नुनू बाबू ने कहा कि दियारा क्षेत्र के किसानों के लिए जो भी खेतों में पोल गाड़ा गया है उसे अभी तक लाईन नहीं खींचा गया है। जो दुभार्ग्य है। आखिर कब तक बिजली की समस्या से निदान मिलेगी। नगर परिषद सभापति अरविन्द पासवान ने विद्युत विभाग के अधिकारियों समय से बिजली देने एवं उसके ट्रांसफार्मर को नहीं बदलने की शिकायत की।

बैठक के दौरान लखीसराय सदर प्रखंड की प्रमुख लीला देवी ने सांसद को 6-सूत्री स्मार पत्र सौंपी। ग्रामीण जल आपूर्ति एवं स्वच्छता कार्यक्रम के तहत अध्यक्ष द्वारा ग्रामीण जल आपूर्ति एवं स्वच्छता कार्यक्रम की प्रगति की समीक्षा की गई । जिसमें लखीसराय प्रखंड के मोरमा, चानन प्रखंड में स्वास्थ्य उप-केन्द्र बनवाने, किउल नदी के किनारे बोल्डर पिचिंग करवाने, किऊल से रामनगर तक सड़क का निर्माण करवाने सहित कई अन्य मांगें भी शामिल है।

बैठक में ये लोग थे शामिल

बैठक में डीएम अमित कुमार, डीडीसी विनय कुमार मंडल, जिला परिषद अध्यक्ष राम शंकर शर्मा उर्फ नुनू बाबू, नगर परिषद सभापति अरविन्द पासवान, डीपीआरओ मंजू प्रसाद, डीआरडीए डायरेक्टर शमीम अख्तर, डीएलएओ राजेश कुमार, डीसीएलआर नीरज कुमार, जिला उप निर्वाचन पदाधिकारी अंगद प्रसाद लोहरा, नप कार्यपालक संतोष रजक, चानन प्रमुख प्रियंका कुमारी, लखीसराय प्रमुख लीला देवी सहित जिला पार्षद एवं वार्ड पार्षद बैठक में उपस्थित थे।