सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने वालो पर प्रशासनिक शिकंजा कसा, स्थिति नियंत्रण में

265
0
SHARE

आदित्यानंद आर्य की रिपोर्ट

सीतामढ़ी: धार्मिक जुलुस की आड़ में जिले की शांति व्यवस्था भंग करने वालों पर प्रशासनिक शिकंजा कसता जा रहा है। पुलिस ने अब तक सैकड़ो लोगो को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है। हांलाकि सडकों पर लोगो और गाडियों का परिचालन निरंतर जारी है। इधर पड़ोसी जिलों से भारी संख्या में पुलिस बलों को मंगवाया लिया गया है। जिले के चप्पे चप्पे, गली-मोहल्ले में पुलिस बल पैदल व फ्लैग मार्च कर रही है। तो वहीं जिलाधिकारी राजीव रौशन, एसपी हरी प्रसाथ एस, एएसपी अभियान संदीप कुमार नीरज, डीएसपी डॉ कुमार वीर धीरेंद्र, समेत जिले के सभी पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी समेत विभिन्न थाना पुलिस भाड़ी संख्या में सशत्र बलों के साथ सभी जगह जगह फ्लैग मार्च निकाल रहे है. वही उपद्वियो को चिन्हित कर क़ानूनी करवाई कर रहे है। इधर सोशल मीडिया पर लगातार फ़ैल रही अफवा को देखते हुए जिला प्रशासन द्वारा तीन दिनों तक जिले की नेटसेवा को पूर्णत बंद कर दिया गया है। 

 आपको बता दे की बीते दिन और आज सोमवार को सीतामढ़ी में धार्मिक जुलूस के दौरान भीड़ में शामिल असामाजिक तत्वों ने शहर के जानकी स्थान, बाजपट्टी, परिहार व बैरगनिया क्षेत्रों में न सिर्फ बवाल काटा, बल्कि सामाजिक सदभाव को तोड़ने की कोशिश भी की थी। सोमवार को शहर स्थित जानकी स्थान के समीप एक पक्ष निकले गए जुलुस के दौरान कुछ उपद्रवियों द्वारा देश विरोधी नारेबाजी किये जाने के कारन दो पक्षों के बीच तनाव उत्पन्न हो गया। जो देखते देखते हिंसक पत्थरबाजी में तब्दील हो गया। जिसके बाद पहुंचे डीएम, एसपी समेत जिले के वारिये अधिकारियो के और भाड़ी संख्या में पुलिस बल के पहुचने के बाद स्थिति पर नियत्रण पाया जा सका. इस दौरान पुलिस को हल्का बल प्रयोग करना पड़ा. वही घटना स्थल से दर्जनों लोगो की गिरफ़्तारी की गई.

वही बीते रविवार को बाजपट्टी प्रखंड के मधुबन बाजार में दो गुटों के बीच हिंसक झड़प के बीच जमकर पथराव हुआ. इस दौरान उपद्रवियों ने दर्जनों घर-दुकानें को तोड़ लूटपाट की घटना को भी अंजाम दिया. इस दौरान असामाजिक तत्वों ने दो बाइको में भी आग लगा दी. वही मौके पर पहुंची पुलिस-प्रशासन की टीम पर भी हमला कर दिया. जिसमे बाजपट्टी के अंचलाधिकारी शशि रंजन यादव और हवलदार जितेंद्र ठाकुर का सिर फट गया. साथ ही बीडीओ मुकेश कुमार समेत आधा दर्जन पुलिसकर्मी चोटिल हो गये। बाद में डीएम राजीव रोशन, एसपी हरी प्रसाथ एस व एएसपी अभियानसंदीप कुमार नीरज ने मौके पर पहुंच खुद डंडा संभालते हुए स्थिति पर काबू पाया। इस दौरानस्थिति पर नियंत्रित करने के लिए पुलिस टीम को लाठीचार्ज व चार राउंड हवाई फायरिंग भी करनी पड़ी। पुलिस ने शक के आधार पर दो दर्जन लोगों को हिरासत मेंलिया है। गिरफ्तार लोगों से पूछताछ जा रही है। डीएम-एसपी समेत अधिकारियों की टीम गांव में कैंप कर रहे थे।

इधर जिले परिहार प्रखंड के बेला थाना क्षेत्र के मच्छपकौनी में एक धार्मिक जुलूस पर असामाजिक तत्वों के पथराव के बाद हिंसकझड़प हो गयी। इसमें दो दर्जन से अधिक लोग जख्मी हो गए। उन्हें इलाज के लिए निजी क्लिनिक में भरती कराया गया है. घटना के बाद कार्यपालक दंडाधिकारी शीलानाथ सिन्हा के नेतृत्व में पुलिस प्रशासन की टीम इलाके में कैंप कर रही है।

वही बैरगनिया थाना के जमुआ टोले में विसर्जन जुलूस रोके जाने व निर्धारित रूट की सीमा पर सड़क जाम से नाराज लोगों ने पुलिस पर पथराव कर दिया। वही बीडीओ व थानाध्यक्ष के वाहन को पलट कर क्षतिग्रस्त कर दिया। इस दौरान जहां पांच जवान जख्मी हो गए, वहीं बीडीओ आशुतोष आनंद और थानाध्यक्ष सुजीत कुमारचोटिल हो गये। बाद में पुलिस ने लाठीचार्ज कर स्थिति को नियंत्रित किया गया। लाठीचार्ज में सात लोग जख्मी हो गये। घटना के बाद इलाके में बड़ी संख्या में सशस्त्र बल तैनात कर दिया गया है। वहीं,डीएसपी मुख्यालय राकेश कुमार के नेतृत्व में पुलिस-प्रशासन की टीम इलाके में कैंप कर रही है।

जिलाधिकारी राजीव रौशन ने बताया कि असामाजिक तत्वों ने इस तरह की घटना को अंजाम से समाज को बांटने की कोशिश की है। लेकिन प्रशासन ने उनलोगों की मनसा को नाकामयाब कर दिया है फिहाल स्थिति नियंत्रन में है। वही एसपी हरी प्रसाथ एस ने बताया की घटना स्थल से कुछ लोगों को हिरासत में लिया गया है। बेगुनाहों को जाँच के बाद मुक्त कर दिया जायेगा। वही सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने वालो के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जायेगी,