सारण पुलिस को मिली कामयाबी ,मूर्ति तस्करो की हुई गिरफ्तरी

408
0
SHARE

सारण- पुलिस लगातर अपराध एवं अपराधकर्मियों पर नकेल कसने में कोई कसर छोड़ती नज़र नहीं आ रही है, अपराध छोटा हो या बड़ा अपराध ही होता है और किसी भी हाल में अपराधियों को बख्शा नहीं जाएगा ऐसी सोच रखने वाले एसपी हर किशोर राय ने अपनी पहली पोस्टिंग में ही अपनी योग्यता, कर्मठता एवं अनुभव का परिचय दिया है।

राय ने बताया कि जिले में विगत 2 माह से मूर्ति चोर की सक्रियता बढ़ी हुई थी, जिसे देखते हुए एसआईटी का गठन कर जांच शुरू की गई। गुप्त सूचना और टेक्निकल सर्विलांस के आधार पर चोरी की मूर्ति समेत लूटपाट करने वाले गिरोह को पकड़ा गया। मढ़ौरा थाना क्षेत्र से चोरी की हुई अष्टधातु की मूर्तियां बरामद की गई। जबकि रिविलगंज थाना क्षेत्र से अपराध की योजना बनाते हुए 6 अपराध कर्मियों को 2 देशी कट्टा, 9 मोबाइल और 2 जिन्दा कारतूस सहित गिरफ्तार किया गया।

गिरफ्तार किये गए अपराधकर्मियों में जवाहर राय,  मुना सिंह, अमिस कुमार उर्फ दीपक, रितेश कुमार, दीपक पासवान एवं मनीष कुमार शामिल है जो विभिन्न थाने क्षेत्र का निवासी है और सभी का आपराधिक इतिहास रहा है, अभी सभी आरोपित हाल ही में जेल से छूटे है तथा जेल में ही इन्होंने सीवान के पिपरहियां तथा छपरा के धरहरा गांव से गणेश की मूर्ति चोरी करने की योजना बना लिए थे। इनका नेटवर्क राष्ट्रीय लेवल तक है तथा इन्होंने ये भी स्वीकारा है कि ये लूटपाट की घटनाओं का भी अंजाम देते थे।

एसपी ने कहा कि गिरफ्तार जवाहर राय हत्या के मामले में 8 वर्ष जेल में भी रह चुका है, उसी के निशानदेही पर जमीन में गाड़ी हुई भगवान की 9 धातु की मूर्तियां बरामद की गई वहीं मुना और दीपक के पास से 1-1 मूर्तियां बरामद की गई है। अपराधकर्मियो का एक संगठित गिरोह है जो मंदिरो में चोरी के साथ साथ लूटपाट की घटनाओं का भी अंजाम देता है। मंदिरो में पूजा पाठ के बहाने जाकर धातु की पहचान कर ली जाती थी इसके बाद अपने सहयोग कर्मियों द्वारा घटनाओं की अंजाम देते थे। बरामद मूर्तिया कहाँ से चोरी की गई है और उसकी लागत मूल्य क्या है इसकी आकलन किया जा रहा है।