सीएम नीतीश ने बस दुर्घटना की जांच के दिए आदेश

616
0
SHARE

मधुबनी: बिहार के मधुबनी जिले में सोमवार को यात्रियों से खचाखच भरी एक यात्री बस पानी से भरी गहरी खाई में पलट गई। इस दुर्घटना में प्रशासन ने अबतक 35 शवों के मिलने की पुष्टि की है। शेष की अब भी तलाश की जा रही है। बचाव कार्य आज भी जारी है।

मंगलवार के तीन बजे सुबह तक रौशनी की व्वस्था कर एसजीआरएफ ने तालाब में सर्च आपरेशन चलाया। प्रशासन ने 35 शवों के अबतक बरामद होने और उनका पोस्टमार्टम कराए जाने की पुष्टि की है। सोमवार रात महाजाल लगाकर भी शवों को खोजने का प्रयास किया गया।

एसडीआरएफ के मुताबिक अब और शवों के मिलने की संभावना क्षीण है। क्योंकि तकरीबन 24 घंटे में जो भी शव अंदर पानी में होंगे वे उपलाकर ऊपर आ ही जाते। वैसे प्रशासन पंपिंग सेट लगाकर तालाब के पानी को निकाल कर अंदर शवों की तलाश करने पर भी विचार कर रहा है।

वहीं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दुर्घटना की जांच कराने के आदेश दिए हैं। उन्होंने मंत्री कपिलदेव कामथ और मंत्री मदन मोहन झा को मधुबनी भेजकर दुर्घटना का पूरा जायजा लेने को कहा है। राज्य सरकार के दोनों मंत्री वहां पहुंच गए हैं और जानकारी ले रहे हैं। मंत्री कपिलदेव कामथ ने कहा कि घटना की पूरी जानकारी ली जा रही है। क्यों बचाव कार्य में देर हुई और कैसे दुर्घटना हुई, सारे बिंदुओं पर जांच की जाएगी और जो दोषी पाए जाएंगे उन्हें सजा दी जाएगी।

उन्होंने कहा कि एसडीआरएफ और एनडीआरएफ की टीम आज भी पानी से भरी खाई में यात्रियों के शवों की तलाश करेगी। लोगों का कहना है कि गहरी खाई के कीचड़ में कुछ शव दबे हो सकते हैं।

जिन 35 शवों को निकाला गया है उनमें से 23 शवों का पोस्टमार्टम हो चुका है, अन्य शवों का भी पोस्टमार्टम किया जा रहा है। साथ ही शवों की शिनाख्त की जा रही है। पानी में घंटों डूबे रहने के कारण कुछ शव फूल गए हैं। शवों की शिनाख्त के बाद उन्हें परिजनों को सौंपा जा रहा है।

सोमवार की सुबह हुई इस दुर्घटना के बाद प्रशासन की तरफ से मदद मिलने में देर होने के कारण आला अधिकारियों को ग्रामीँणों के कोप भाजन का शिकार होना पड़ा था। इस कारण बचाव कार्य में भी देरी हुई। दुर्घटना के बाद बस गहरी खाई के पानी में एक घंटे तक डूबी रही। बाद में लोगों को शांत कराने के बाद एसडीआरएफ और एनडीआरएफ की टीमों ने बचाव कार्य शुरु कर शवों को निकाला।

इस हादसे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गहरा दुख जताया और मृतकों के परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है। इधर, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दुर्घटना के मृतक यात्रियों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की और उनके परिजनों को चार-चार लाख रुपये की मुआवजा राशि देने की घोषणा की है।

राजद सुप्रीमो लालू यादव ने भी शोक जताया और कहा कि दुर्घटना की वजह की जांच की जाएगी अगर ड्राइवर दोषी पाया गया तो उसे ड्राइव करने की इजाजत किसने दी इसकी भी जांच की जानी चाहिए? कहा दुर्घटना दुखद है।

उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने बस दुर्घटना पर गहरा दुख जताते हुए कहा कि यह कैसे हुआ इसकी पड़ताल होनी चाहिए? सरकार ने मृतकों की सहायता के लिए राशि की घोषणा कर दी है, अब सड़क सुरक्षा के मानको का कड़ाई से पालन होगा।