सुविधा उपलब्ध कराने की मांग करते हुए बार एसोसिएशन ने न्यायधीश को सौंपा मांग पत्र

241
0
SHARE

आदित्यानंद आर्य की रिपोर्ट

शिवहर : पटना उच्च न्यायालय के न्यायाधीश सह व्यवहार न्यायालय शिवहर के निरक्षी न्यायाधीश प्रकाश चंद्र जयसवाल ने शुक्रवार को शिवहर व्यवहार न्यायालय का निरक्षण किया। जिला बार एसोसिएशन संघ की ओर से सचिव शिशिर कुमार व अध्यक्ष अधिवक्ता सतीश नंदन सिंह व अधिवक्ताओ ने न्यायाधीश जैसवाल को फूल माला पहना स्वागत किया। इस दौरान जिला बार एसोसिएशन संघ ने न्यायालय में कार्यरत न्यायाधीश, अधिवक्ताओ व न्यायाथिर्यो की कठिनाइयों के निराकरण को लेकर 10 सूत्री मांग पत्र सौंपा है।

जिला बार एसोसिएशन ने अपने दिए माँग पत्र में निरक्षी न्यायाधीश को अवगत कराते हुए बताया कि अधिवक्ताओं की सुरक्षा के लिए जिला बार एसोसिएशन के परिसर के चार दीवारी का निर्माण होना जरूरी है। वहीं अधिवक्ताओं की सुरक्षा के लिए न्यायालय की कार्य अवधि में जिला बार एसोसिएशन के परिसर में पुलिस बल की प्रतिनियुक्ति किया जाएगा।

व्यवहार न्यायालय के न्यायिक कक्षो में अधिवक्ताओं को बैठने के लिए पर्याप्त संख्या में कुर्सियों की व्यवस्था की जाए, न्यायिक कक्षो में बिजली के पंखे की कमी है उनमें पंखे लगाए जाए। न्यायालय में अधिवक्ता एवं न्यायार्थियो के लिए स्वच्छ पेयजल की व्यवस्था की जाए, न्यायालय में तृतीय श्रेणी के कर्मचारियों में व्याप्त भ्रष्टाचार पर रोक लगाई जाए, केंद्रीय कारा में कैदियों के इलाज की समुचित व्यवस्था की जाए, जिला जज एवं अपर जिला जज द्वारा अंग्रेजी में दिए गए आदेशों की हिंदी प्रमाणित प्रति न्यायार्थियो को उपलब्ध कराई जाए, क्योंकि 99 फीसदी से अधिक न्यायाथिर्यो अंग्रेजी पढ़ना लिखना नहीं जानते हैं।

व्यवहार न्यायालय में स्थित शौचालयों की नियमित सफाई की व्यवस्था की जाए। जिला बार एसोसिएशन संघ ने निरीक्षण के न्यायाधीश को 1 दिसंबर 2017 को याद करते हुए कहा है कि व्यवहार न्यायालय की स्थापना का सफल 5 वर्ष पूरा होने वाला हैं। इस शुभ अवसर पर जिला बार एसोसिएशन में आपकी उपस्थिति बहुत ही महत्वपूर्ण है तथा जिला बार एसोसिएशन अपने को सम्मानित महसूस कर रहे हैं।

इससे पूर्व निरीक्षी न्यायाधीश के आगमन पर जिला बार एसोसिएशन के सभी वरिष्ठ सदस्यों ने फूल माला पहनाकर भव्य स्वागत किया।
मौके पर जिला सत्र न्यायाधीश राघवेंद्र कुमार सिंह, जिला अपर सत्र न्यायाधीश, जिला मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी, एसडीजेएम, जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव न्यायाधीश सुभाष चंद्रा व अधिवक्ता समेत न्यायालय कर्मी मौजूद थे।