सूर्यकुण्ड का हुआ जीर्णोद्धार

296
0
SHARE

औरंगाबाद: विगत कई वर्षो से पौराणिक सूर्यकुंड तालाब के दुर्गन्धयुक्त एवं गंदे जल में अर्घ्य देने वाले श्रद्धालुओं को अब इससे मुक्ति मिल गयी है। अब देश के कोने-कोने से आने वाले छठव्रती इस कुंड में भरे गए निर्मल एवं स्वच्छ जल में भगवान भास्कर को अर्घ्य समर्पित कर सकेंगे।

पवित्र तोहफा देने का काम सांसद सुशील कुमार सिंह ने किया है उक्त बातें सांसद प्रतिनिधि अश्विनी सिंह ने बताया। सिंह ने कहा की सूर्यकुण्ड तालाब का जीर्णोद्धार सांसद सुशील कुमार ने निजी कोष से कराया गया है और कुछ अन्य श्रद्धालुओं ने भी आर्थिक योगदान देकर इसकी पवित्रता में अपनी भूमिका का निर्वहन किया है। आज एक वर्ष तक लगातार कार्य होने के बाद इसे देववासियों को समर्पित कर दिया गया है।

IMG-20171020-WA0064

तालाब में सांसद द्वारा कराये गए बोरिंग से स्वच्छ जल भरे गए हैं जो किसी स्विमिंग पूल से कम नही है। तालाब के चारो तरफ सीढियों पर खूबसूरत टाईल्स लगाए गए हैं ताकि छठव्रतियों को अर्घ्य देने के दौरान कोई कठिनाई एवं परेशानी न हो। सिंह ने कहा कि श्रद्धालुओं की आस्था को देखकर सांसद ने यह संकल्प लिया था कि अब इस कुंड को गंदे जल से मुक्ति दिलाई जायेगी और उसी संकल्प के तहत यह कार्य पूरा हुआ। कुंड को आकर्षक एवं आधुनिक स्वरुप देने में रवि सिंह, आशु सिन्हा, राजकुमार सिंह एवं देव प्रखंड के उप प्रमुख मनीष पाठक का बहुमूल्य योगदान है।