सेविका चयन में बड़े पैमाने पर अनियमितता

798
0
SHARE

सुपौल – जिले में इन दिनों बाल विकाश परियोजना काफी सुर्खियों में है, वजह आंगनबाड़ी सेविका औऱ सहायिका के चयन में बड़े पैमाने पर अनियमितता का मामला सामने आ रहा है। यह मामला अब पोषक क्षेत्र से निकल कर जिला तक पहुंच गया है, जहाँ आये दिन जिलाधिकारी के पास सेविका सहायिका के चयन में धांधली की शिकायत मिल रही है। इस बाबत जिलाधिकारी ने जाँच के आदेश दिये।

शिकायत यह है कि सुपौल जिले के त्रिवेणीगंज प्रखंड में सेविका, सहायिका की बहाली के दौरान प्रभारी सीडीपीओ संजुला कुमारी एवं 6 एलएस प्रभा कुमारी सहित के द्वारा सही आवेदिका का चयन न करके वरीयता क्रम का अनदेखी कर एवं मनमानी, स्वेच्छाचारी तरीके से पंचायत में सेविका एवं सहायिकाओं का चयन किया गया। इस बाबत कई आवेदिकाओ ने यहाँ तक आरोप लगाया कि खुलेआम लाखों रुपये रिश्वत लेकर सेविका सहायिका का चयन किया गया।

कुछ आवेदनकर्ताओं ने बताया कि मुझे एलएस द्वारा फोन कर बुलाया गया 1,50,000 लाख रुपये की मांग की गई नहीं देने पर मेरे आवेदन को आगे से पीछे कर छाँट दिया गया। सीडीपीओ एवं पर्यवेक्षिका पर लगे गंभीर आरोप की जांच करने पहुंचे जिले के अपर समाहर्ता अखिलेश कुमार झा ने बतलाया कि इस मामले में जांच चल रही है और जाँच में यदि अनियमितता की बात सामने आती है तो कार्रवाई की जायेगी।