सौर ऊर्जा के प्रयोग से होगी पर्यावरण की रक्षा – नीतीश

519
0
SHARE

पूर्व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य में सौर ऊर्जा के अधिक से अधिक प्रयोग की आवश्यकता जताई है। नीतीश ग्रीनपीस द्वारा धरनई गाँव को संपूर्ण सौर उर्जा से रौश्न करने का जायजा ले रहे थे। जिस रफ्तार से पर्यावरण को नष्ट किया गया है उसके दुष्परिणाम अब सामने आ रहे हैं। नीतीश ने कहा कि सूर्य की ऊर्जा कभी खत्म नहीं होने वाली है, इसका लाभ हर प्रकार से लिया जाना चाहिए। खासकर उन मुश्किल स्थानों पर जहां बिजली की तार नहीं पहुंचाई जा सकती।

नीतीश ने कहा कि बिहार में ग्रीनपीस ने धर्नई गांव में सौर ऊर्जा के उपयोग का जो उदाहरण पेश किया है, वह बेहद सराहनीय है। मैंने एक बार चर्चा के दौरान ग्रीनपीस से कहा था कि वह बिहार के एक गांव को सौर ऊर्जा से रौशन करके दिखाए। और इन लोगों ने यह कर दिखाया।

धरनई में करीब 30 वर्षों बाद लोगों ने बिजली देखा। इस प्रोजेक्ट से एक किसान सेंटर, 50 दुकानें, एक बैंक, एक स्कूल, कुछ सरकारी भवन, खेती में उपयोग के लिए वाटर पम्पों, 60 स्ट्रीट लाईटों के साथ – साथ 2200 लोगों के करीब 450 घरों को फायदा होगा।

बिहार में हमने पर्यावरण को प्राथमिता दी है। वर्ष 2017 तक राज्य के हरित आवरण को 15 प्रतिशत करने का लक्ष्य रखा है जिसपर अब तक के प्रयासों से ठोस प्रगति नजर आ रही है। भारत सरकार की रिपोर्ट के अनुसार राज्य का हरित आवरण बढ़ कर 12.8 प्रतिशत हो गया है। यह प्रयास कायम रहेगा और साथ ही बिहार को रौशन करने का हमारा संकल्प भी है। नीतीश कुमार के साथ मुख्य रूप से राज्य के उर्जा सचिव प्रत्यय अमृत और आद्री के शैवाल गुप्ता भी मौजूद थे।