हमने जो वादा किया वो पूरा किया: सीएम नीतीश

673
0
SHARE

मधेपुरा: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शुक्रवार को मधेपुरा के बीएन मंडल स्टेडियम में चेतना सभा को संबोधित करते हुए कहा कि सात निश्चय योजना की सफलता से बिहार की 75 प्रतिशत समस्याएं खत्म हो जाएंगी। हर जिले में इंजीनियरिंग कॉलेज, हर अनुमंडल में एएनएम स्कूल और आईटीआई खोले जा रहे हैं। राज्य में पांच और मेडिकल कॉलेज खोले जा रहे हैं।

आने वाले चार वर्षों में हर घर में शौचालय होगा। हर घर नल का जल होगा। हर गांव की गली पक्की होगी और नालियों का निर्माण होगा। हर घर में बिजली का कनेक्शन होगा। इसके लिए सर्वे अंतिम चरण में है और लोगों की सूची बनाई जा रही है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने कहा कि शराबबंदी से काफी फायदा हुआ है। विरोधी हम पर शराबबंदी से सरकार को पांच हजार करोड़ रुपए का नुकसान कराने का आरोप लगाते हैं। हमने लोगों की भलाई को सोचकर शराबबंदी लागू की है। हम जो कहते हैं, उस पर अमल करते हैं। हम कोई काम बिना तैयारी के नहीं करते हैं। शराबबंदी से समाज का वातावरण बदल गया है।

बिहारवासी सावधान रह कर समाज में प्रेम और सद्भाव बनाएं रखें। जब सरकार ने पूर्ण शराबबंदी का निर्णय लिया तो कुछ लोगों को पेट में दर्द होने लगी। दो पैग पीने वाले लोग इसके खिलाफ में बोलते रहे, लेकिन उन्हें समझना चाहिए कि देश को नशा से मुक्त होना होगा। भारत शराबमुक्त होते ही विकास की ऊंचाई पर पहुंच जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में बुनियादी काम हो रहा है, इसी को सुशासन कहते हैं। जनता को राहत देने के लिए ही लोक शिकायत निवारण कानून बनाया गया है। अब शिकायतों से संबंधित आवेदन लेकर इधर-उधर जाने की जरूरत नहीं है। सभी जिला और अनुमण्डल में लोक शिकायत निवारण केन्द्र बनाए गए हैं। एक-दो आपराधिक घटनाओं को लेकर राज्य को बदनाम किया जाता है।

बिहार में कानून का राज है और हमेशा रहेगा। अगर जनसंख्या के अनुरूप अपराध का अनुपात देखें तो बिहार 22वें नंबर पर जबकि दिल्ली पहले नंबर पर है।

उन्होंने कहा कि कुसहा त्रासदी में कोसी बर्बाद हो चुका था। मैंने घोषणा किया था कि पहले से बेहतर कोसी बनेगी। इसके लिए कार्य कर रहे हैं। बेहतर कोसी, सुंदर कोसी के लिए लगातार मेहनत कर रहे हैं। उन्होंने सात निश्चय के पर जोर डालते हुए कहा कि युवाओं कौशल विकास से जोड़ा जा रहा है। रोजगार उपलब्ध होगा।

महिलाओं को 35 प्रतिशत आरक्षण सरकारी नौकरी में दिया गया है। यहीं नहीं छात्रों को क्रेडिट कार्ड के माध्यम से पढ़ाई के लिए पैसा दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि शराब बंदी से खुशहाली बढ़ी है। शराब पीने वाले अब दूध पी रहे हैं। लेकिन पुलिस की जिम्मेवारी बढ़ गई है। शराब के कारोबारी पर नजर रखना होगा।

सभा को ऊर्जा मंत्री विजेन्द्र प्रसाद यादव, अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री अब्दुल गफूर, आपदा प्रबंधन मंत्री डॉ. चन्द्रशेखर, विधान परिषद के उप सभापति हारून रसीद, विकास आयुक्त शिशिर सिन्हा और डीजीपी पीके ठाकुर ने भी संबोधित किया।