हम किसी के पिछलग्गू नहीं हैं : नीतीश कुमार

208
0
SHARE

पटना: आज सुबह से ही महागठबंधन की तकरार तेज थी। दरअसल राजद के होने वाले 27 अगस्त की रैली में जदयू के भाग नहीं लेने को लेकर मामला गरम था। वहीं जदयू की कार्यकारिणी की बैठक में भी इसी मुद्दे के छाये रहने की चर्चा जोरों पर थी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी कह दिया कि राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद की रैली के लिए अगर न्योता आयेगा तो वे जरूर उसमें भाग लेंगे। बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार समेत प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह, पूर्व मंत्री श्याम रजक, प्रवक्ता संजय सिंह समेत कई मंत्री भी मौजूद रहे. बैठक में सीएम ने लालू प्रसाद की रैली से लेकर जदयू के संगठन पर भी बात की। नीतीश कुमार ने जम कर कांग्रेस पर भड़ास निकाला। उनकी नाराज़गी साफ दिखी। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति उम्मीदवार का नाम तय करने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की और से २२ जून को दिल्ली में जो बैठक बुलायी गयी थी, मैं उसमे जाने वाला भी था लेकिन दो दिन पूर्व इफ्तार पार्टी में गुलाम नवी आजाद ने जो बयान दिया, उसके चलते बैठक में नहीं गया। नीतीश ने कहा इस बाबत जिसे जो समझना है समझे लेकिन हम सिद्धांत से समझौता नहीं करते। हम किसी के पिछलग्गू नहीं हैं। वहीं उन्होंने इशारों-इशारों में जदयू के कुछ नेताओं पर भी कटाक्ष किया। उन्होंने कहा कि जदयू के प्रकोष्ठों में कुछ लोग ऐसे हैं, जिनका आचरण सही नहीं है। उन्हें आचरण सुधारने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि हमें समाज के सभी तबकों को साथ लेकर चलने की जरूरत है। प्रत्येक महीने प्रकोष्ठों की बैठक बुलायी जायेगी ताकि ढांचा को लेकर कोई दुविधा नहीं हो। इसके अलावा सूबे में चल रही शराबबंदी, दहेजबंदी और संगठन को बढ़ाने पर भी जोर दिया।

नीतीश कुमार ने बीजेपी के गाय प्रेम पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा बीजेपी वालों को अगर गाय से प्रेम है तो सड़क पर भटकती हुई गायों को क्यों नहीं पालती है। बिहार से ज्यादा तो यूपी की सड़कों पर गायें घूमती हैं। यह भी कहा कि देश की आज़ादी में बीजेपी की कोई भूमिका नहीं लेकिन आज उसका संगठन मजबूत है। पार्टी देश की गद्दी पर विराजमान है। इससे जदयू को सीखने की जरूरत है। पार्टी के लोगों को संगठन विस्तार पर और मजबूती से जोर देने की जरूरत है। संगठन विस्तार के लिए रणनीति बनानी होगी।

इसके अलावा बैठक में संगठन विस्तार के साथ-साथ जिला और प्रखंड स्तर पर महीनेवार पार्टी कार्यकर्ताओं की बैठक करने को कहा जिससे पार्टी का पंचायत स्तर पर संगठन मजबूत होगा। वर्तमान राजनीति के मुद्दों पर भी चर्चा हुई। मंत्री ललन सिंह ने सदस्यता बढ़ाने पर जोर देते हुए कहा कि पार्टी में ज्यादा से ज्यादा सदस्य बनाए जाने चाहिए। वहीं पार्टी के वरिष्ठ नेता वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि २०१९ के चुनाव में नीतीश कुमार की एक अलग भूमिका होगी।