हर घर कहती यही कहानी रही

79
0
SHARE

राहों पे बाट जोहती जवानी रही
मेरे गाँव की यही निशानी रही

जो कदम गए , कभी लौटे नहीं
सदियों तलक यही परेशानी रही

पनघट, खेत, नदी-नाले रोते रहे
दिन-रात हर जगह वीरानी रही

माँ को सोए हुए एक अरसा हुआ
हर घर कहती यही कहानी रही

सब दोस्त तड़प उठे विदाई पर
सीने की उफ़क बेज़ुबानी रही

खत में नाम-पता सब दिखता है
बेचैन होती हुई रूह सयानी रही

सलिल सरोज

B 302 तीसरी मंजिल
सिग्नेचर व्यू अपार्टमेंट
मुखर्जी नगर
नई दिल्ली-110009
Mail:salilmumtaz@gmail.com