हिमालय और गंगा नदी की तलहटी के बीच स्थित प्राचीन भारत में था “विदेह राज्य”

1267
0
SHARE

अजय धारी सिंह

दरभंगा- हिमालय और गंगा नदी की तलहटी के बीच स्थित प्राचीन भारत में था “विदेह राज्य”। जो अपने लोकप्रिय मिथिला राज्य के रूप में जाना जाता है। भारत और नेपाल-मिथिला की प्राचीन क्षेत्र आज दोनों देशों के आसन्न भाग में विभाजित है। मिथिला महाकाव्य रामायण के अनुसार विदेह राज्य की राजधानी थी। आधुनिक समय में यह शहर नेपाल के धनुषा जिला में जनकपुर के रूप में पहचाना जाता है। विदेह या मिथिला राज्य पूर्व में कोसी, पश्चिम में गंडक, उत्तर में हिमालय और दक्षिण में गंगा पर से घिरा माना जाता रहा है। यह दुनिया के धार्मिक इतिहास के दो सबसे सम्मानित नामों गौतम बुद्ध और वर्धमान महावीर का क्षेत्र रहा है, उन्होंने यहाँ काफी समय व्यतीत किया है ।

इस क्षेत्र के पहले पौराणिक राजा के पूर्वज, जो सरस्वती नदी क्षेत्र में शासन करते थे वो निमि थे। पौराणिक कथाओं के अनुसार अपने गुरु ऋषि वशिष्ठ के द्वारा दिए गए शाप की वजह से राजा निमि की मृत्यु हो गई। उसकी मौत के बाद अराजकता की स्तिथी हो गयी, तब संत एकत्र हुए और पूजा-पाठ/यज्ञ के द्वारा मनुष्य के रूप निमि की आत्मा को पुनः वापस लाया गया। निमि की आत्मा का निमि के मृत शरीर का मनुष्य के रूप पुनः ग्रहण होगा ऐसी आशा में मृत शरीर को एक मंथन में रखा गया था। साधु अपने प्रयास में सफल रहे और निमि की मृत राख मिथि(मिट्टी) बन गयी। मिथि के नेतृत्व में इस जनजाति ने सरस्वती क्षेत्र को छोड़ दिया और लंबी अवधि में भटकने के बाद अंत में सदानीरा (गंडक) के तट पर आ बसे।

मिथिला का नाम पौराणिक राजा मिथी के नाम पर ही ली गई है, इसके बाद यह क्षेत्र मिथिला के रूप में जाना जाता है। उन्होंने जिस जगह अपने राजधानी की स्थापना की उसका नाम मिथिलापुरी रखा और इसलिए इस क्षेत्र मिथिला कहा जाने लगा। वह अपने पिता के शरीर से बाहर पैदा हुए थे, इसलिए उन्हें विदेह/जनक कहा जाता था। इसके बाद, मिथिला के राजाओं को जनक कहा जाता था। सबसे प्रसिद्ध जनक सिरध्वज जनक थे जो सीता के पिता थे, वे मिथिला के 21 वें जनक थे । इस वंश को “विदेह/जनक” बुलाया गया। विदेह/जनक के वंश में 52 राजा हुए। हालांकि पुरातात्विक साक्ष्य द्वारा उनके वास्तविक प्रवास की अवधि का आकलन करने की कमी है।

मिथिला साम्राज्य के पतन की इस अवधि के दौरान, प्रसिद्ध गणराज्य लिछवी का वैशाली में प्रभाव बढ़ गया था और मिथिला क्षेत्र सातवीं शताब्दी ईसा पूर्व के आसपास में लिछवी के नियंत्रण में आ गया। 6वीं शताब्दी ईसा पूर्व में लिछवी मगध राजवंश के शासक अजातशत्रु से हार गया और इस तरह मिथिला क्षेत्र मगध साम्राज्य के नियंत्रण में आ गया। उसके बाद यहाँ सहिसुंग, नंद, मौर्य, सुंग, कांता, गुप्ता, वर्धन आदि कई राजवंश ने समय-समय पर वहां शासन किया। 5-6 वीं शताब्दी तक जनक के बाद मिथिला में राजा सल्हेश के राजा बनने तक कोई महत्वपूर्ण शासक नहीं था। उन्होंने महिसौथ-सिरहा (अब नेपाल में) को अपनी राजधानी बनाया। उन्होंने तिब्बतियों द्वारा हमलों के खिलाफ कई बार क्षेत्र का बचाव किया, इसलिए वे जयवर्धन शैलेश से स्थानीय बोली में सल्हेश(पहाड़ों के राजा) कहलाए।

मिथिला में लगभग तीन शताब्दियों के लिए बंगाल की गौड़ अंचल के पाल राजवंश का शासन था। पाल राजवंश बौद्ध धर्म के अनुयायी थे और वे कायस्थ थे। कुछ ग्रंथों के अनुसार उनकी राजधानी बलिराजगढ़ वर्तमान में (बाबूबरही-मधुबनी जिला) में स्थित माना जा रहा है। पाल वंश के अंतिम राजा मदनपाल एक कमजोर राजा थे। वे अधिसुर सामंत “सेन” की सेना से हार गए थे। पाल साम्राज्य अंततः शिवसेना राजवंश के हमले के अंतर्गत 12 वीं सदी में विघटित हो गयी। शिवसेना राजवंश(गौड़ कायस्थ) हिंदू धर्म के अनुयायियों में से एक थे इसलिए मिथिला के लोगो ने मदनपाल को हराने में सामंत सेन की मदद की। प्रख्यात विद्वान (मधुबनी जिले के ग्राम ठाढ़ी से) वाचस्पति मिश्रा इस अवधि से थे ।

नान्य देव ने सेन राजवंश के अंतिम राजा लक्ष्मण सेन को पराजित किया और मिथिला के राजा बन गए। नान्य देव पश्चिम से आते हैं और सिम्रौनगढ़ (बीरगंज) में उनकी पहली राजधानी थी। पूरे मिथिला को जीतने के बाद कमालादित्य स्थान (कमलादन) को अपनी नूतन राजधानी स्थानांतरित बनाया। मधुबनी जिले में एक और गांव अंधराथाड़ी गांव भी कर्नाट की राजधानी होने का उल्लेख है। कर्नाट राजवंश के शासक कर्ण कायस्थ थे। जिसके कारण इनके राजवंश का नाम कर्नाट पड़ा ।

नान्या देव एक महान योद्धा थे जिन्हें संगीत में गहरी रुचि थी। उन्होंने वर्गीकृत और रागों का विश्लेषण किया था। उन्होंने संगीत के संधि पर “सरस्वती हृदयलंकार” लिखा जो पुणे के भंडारकर अनुसंधान संस्थान में संरक्षित है। कर्नाट राजवंश में राजा हरि सिन्हा देव सबसे प्रसिद्ध हुए। उन्होंने मैथिल ब्राह्मणों और कायस्थ (कर्ण कायस्थ) के पंजी व्यस्था को लागू करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। वे भी कला और साहित्य के महान संरक्षक थे।

1326 में फिरोज शाह तुगलक ने हमला किया और मिथिला क्षेत्र पर विजय प्राप्त की। कर्नाट राजवंश हरिसिंह देव के अंतिम राजा नेपाल भाग गए। इतिहासकार के अनुसार अगले 27 वर्षों के लिए मिथिला क्षेत्र में अराजकता प्रबल थी। 1353 में फिरोज शाह तुगलक ने “कराड़ राजा” के रूप में पंडित कामेश्वर ठाकुर को नियुक्त किया (कर देने वाले राजा – वे सम्राटों द्वारा राजा के रूप में नियुक्त किए गए और उनका काम कर इकट्ठा करना और करों का भुगतान करना, और सम्राट के लिए सेना को बनाए रखना) था। कामेश्वर ठाकुर ओइनि(oini) ग्राम/गाँव से थे जो अब बिहार के समस्तीपुर जिले में है। ओइन्वर राजवंश का नाम ओइनि गांव पर नामित किया गया था। यह राजवंश भारत के कुछ सत्तारूढ़ ब्राह्मण राजवंशों में से एक था। इसके बाद मिथिला क्षेत्र में ब्राह्मण जाति का ही शासन था

सिकंदर लोधी ने 1526 में मिथिला क्षेत्र पर हमला किया और महाराजा लक्ष्मीनाथ सिंह देव आगामी लड़ाई में मारे गए। सिकंदर लोधी ने अलाउद्दीन को इस क्षेत्र का शासक बना दिया। अलाउद्दीन एक सफल शासक नहीं रहा और अगले काफी वर्षों तक मिथिला में अराजकता की स्तिथि थी। जब अकबर सम्राट बन गये, उन्होंने मिथिला क्षेत्र में सामान्य स्थिति लाने की कोशिश की। काफी विचार-विमर्श के बाद वे इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि मिथिला का क्षेत्र एक ब्राह्मण राजा के अन्दर रहकर ही शांतिपूर्वक फल-फुल सकता है और नियमित कर भी एकत्र हो सकता है।

मुगल बादशाह ने एक गरीब पंडित, महेश ठाकुर के पांडित्य को देखकर तिरहुत का राज 27 मार्च 1556 को दिया था। यूँ तो इनके पूर्वज गंगाधर उपाध्याय (वर्तमान में ग्राम- गंगौली, जिला- मधुबनी) मिथिला से ही थे। लेकिन उनके वंशज साईं सकर्षण ठाकुर खंडवा चले गए। साईं सकर्षण ठाकुर के खंडवा (मध्य प्रदेश) निवासी होने के कारण इस कुल का नाम “खंडवाला कुल” पड़ा और यह राजवंश “खंडवाला राजवंश” कहलाया ।

तिरहुत का प्राचीन नाम “तैराभुक्ता या तैराभुक्ति” था। जिसका कालांतर में अपभ्रंश हुआ और यह तिरहुत कहलाया। इसके ही नाम पर ही “खंडवाला राजवंश” के शासक को “तिरहुत सरकार” के नाम से भी जाना गया। वर्तमान में बिहार के उत्तर के मुजफ्फरपुर और दरभंगा प्रमंडल का क्षेत्र अभी भी तिरहुत के नाम से आम लोग में प्रसिद्द है। 1860 में महाराज लक्ष्मेश्वर सिंह के नाबालिक होने के कारण कोर्ट ऑफ़ वार्ड के द्वारा करीब 20 वर्षो तक शासन को चलाया गया ।

खंडवाला राजवंश
1. म.म.महेश ठाकुर (1556-59)
2. म.म.गोपाल ठाकुर (1559-71)
3. ज्योतिर्विद हेमागंद ठा. (1571-72)
4. म.म.अच्युत ठाकुर (1572-73)
5. राजऋषि परमानन्द ठा. (1573-83)
6. म.म.शुभंकर ठाकुर (1583-1617)
7. पुरुषोत्तम ठाकुर (1617-23)
8. म.म.नारायण ठाकुर (1623-41)
9. म.म.सुन्दर ठाकुर (1641-67)
10. म.म.महिनाथ ठाकुर (1667-1690)
11. म.म.नरपति ठाकुर (1690-1701)
12. राजा राघव सिंह (1701-39)
13. राजा विष्णु सिंह (1739-43)
14. राजा नरेन्द्र सिंह (1743-60)
15. राजा प्रताप सिंह(दत्तक) (1760-75)
16. राजा माधव सिंह(दत्तक) (1775-1807)
17. महाराज छत्र सिंह (1807-39)
18. महाराज रूद्र सिंह (1839-50)
19. महाराज महेश्वर सिंह (1850-60)
20. महाराज लक्ष्मेश्वर सिंह (1860-98)
21. महाराज रामेश्वर सिंह (1898-1929)
22. महाराज कामेश्वर सिंह (1929-1962)