2020 में सम्मिलित होने के लिए 11वीं कक्षा में अध्ययनरत विद्यार्थियों का रजिस्ट्रेशन कराया जा रहा है : आनंद किशोर

258
0
SHARE

पटना – ज्ञान भवन, सम्राट अशोक कन्वेंशन केन्द्र में मेधा दिवस समारोह 2018 का आयोजन किया गया। कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा, मंत्री, शिक्षा विभाग, बिहार इस समारोह के मुख्य अतिथि थे। इस अवसर पर आर0के0 महाजन, अपर मुख्य सचिव, शिक्षा विभाग, बिहार, आनन्द किशोर, अध्यक्ष, बिहार विद्यालय परीक्षा समिति भी उपस्थित थे। साथ ही, शिक्षा विभाग तथा बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के वरीय अधिकारी भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

कार्यक्रम स्थल के बाहर काॅरिडोर में देशरत्न डाॅ0 राजेन्द्र प्रसाद की जीवनी पर आधारित प्रदर्शनी लगाया गया था, जिसका अवलोकन कृष्णनन्दन प्रसाद वर्मा, मंत्री शिक्षा विभाग, बिहार, आर0के0 महाजन, अपर मुख्य सचिव, शिक्षा विभाग, बिहार तथा आनन्द किशोर, अध्यक्ष, बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा किया गया।

इस अवसर पर इंटरमीडिएट एवं मैट्रिक वार्षिक परीक्षा, 2018 के मेधावी विद्यार्थियों को पुरस्कृत किया गया। पुरस्कार पाने वाले विद्यार्थियों में टाॅप-10 विद्यार्थी मैट्रिक में थे तथा इंटरमीडिएट के तीनों संकायों यथा- वाणिज्य, कला एवं विज्ञान के टाॅप 05 विद्यार्थी थे। आज पुरस्कृत इंटरमीडिएट (वाणिज्य, कला एवं विज्ञान संकाय के विद्यार्थियों को अलग-अलग) एवं मैट्रिक परीक्षा के प्रथम परीक्षार्थी को 1 लाख रूपये, द्वितीय स्थान प्राप्त करने वाले परीक्षार्थी को 75 हजार रूपये तथा तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले परीक्षार्थी को 50 हजार रूपये प्रदान किया गया। साथ ही, उन्हें एक-एक लैपटाॅप, ज्ञपदकसम.म्.ठववा त्मंकमतए प्रशस्ति-पत्र तथा मेडल देकर अतिथियों द्वारा सम्मानित किया गया। इसके अतिरिक्त, इंटरमीडिएट वार्षिक परीक्षा के चतुर्थ एवं पंचम स्थान प्राप्त करने वाले परीक्षार्थियों को 15 हजार रूपया, प्रशस्ति-पत्र, मेडल एवं लैपटाॅप प्रदान किया जायेगा। साथ ही, वार्षिक माध्यमिक परीक्षा में चतुर्थ स्थान से दसम् स्थान तक प्राप्त करने वाले परीक्षार्थियों को 10 हजार रूपया, प्रशस्ति-पत्र, मेडल एवं लैपटाॅप से सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर वार्षिक माध्यमिक एवं इंटरमीडिएट परीक्षा, 2018 के उत्कृष्ट संचालन में सर्वश्रेष्ठ योगदान देने वाले राज्य के 10 जिलों के जिला पदाधिकारियों एवं जिला शिक्षा पदाधिकारियों को भी पुरस्कृत किया गया। इन जिलों का नाम है:- 1. बेगूसराय 2. भागलपुर 3. पूर्वी चम्पारण 4. दरभंगा 5. गया 6. जहानाबाद 7. मधुबनी 8. मुजफ्फरपुर 9. नालंदा 10. पटना (वर्णानुक्रम के अनुसार-पद ंसचींइमजपबंस वतकमत)। उल्लेखनीय है कि चार जिलों के जिला पदाधिकारी यथा- रमन कुमार, पूर्वी चम्पारण, कुमार रवि, पटना, आलोक रंजन घोष, जहानाबाद एवं मो0 सोहैल, मुजफ्फरपुर ने आज आयोजित समारोह में भाग लिया तथा माननीय मंत्री एवं अन्य गणमान्य अतिथियों से सम्मानित हुए। उपर अंकित सभी 10 जिलों के जिला शिक्षा पदाधिकारी भी आज आयोजित समारोह में सम्मानित हुए।

इस अवसर पर मंत्री, शिक्षा विभाग, बिहार द्वारा बिहार विद्यालय परीक्षा समिति में परीक्षा पद्धति एवं पूरी व्यवस्था में कम्प्यूटरीकृत व्यवस्था के तहत किये जा रहे कार्यों के लिए समिति अध्यक्ष की भूरि-भूरि प्रशंसा की और कहा कि आप जो कर रहे हैं वह दूसरा कोई नहीं कर पायेगा। मंत्री ने सरकारी विद्यालयों में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा उपलब्ध कराने की माननीय मुख्यमंत्री जी के लक्ष्य की विस्तारपूर्वक चर्चा की। उन्होंने कहा कि सरकारी विद्यालयों में लगातर निरीक्षण किया जा रहा है, जिससे शिक्षकों की उपस्थिति तथा शिक्षण कार्यों के संबंध में काफी सकारात्मक परिणाम मिले हैं। इस अवसर पर माननीय मंत्री ने आह्वान किया कि स्थानीय स्तर पर भी आम-जन विद्यालयों में जायें तथा विद्यालय में अपने बच्चों द्वारा ग्रहण किये जा रहे शिक्षा के संबंध में शिक्षकों से चर्चा करें।

इस अवसर पर अपने संबोधन में आर0के0 महाजन, अपर मुख्य सचिव, शिक्षा विभाग, बिहार द्वारा शिक्षा विभाग एवं बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के उपलब्धियों को वर्णित किया गया। महाजन ने राज्य सरकार के छात्र-छात्राओं के हित में लागू किये गये योजनाओं विशेषकर कन्या उत्थान योजना, स्टूडेन्ट क्रेडिट कार्ड योजना की चर्चा की गई तथा छात्र-छात्राओं कोे राज्य सरकार के द्वारा चलाई जा रही योजनाओं का लाभ उठाने के लिए आह्वान किया तथा ज्यादा से ज्यादा संख्या में उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए विद्यार्थियों को प्रेरित भी किया।

इस अवसर पर आनन्द किशोर, अध्यक्ष, बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने कम्प्यूटरीकृत व्यवस्था के तहत समिति में परीक्षा व्यवस्था में किये जा रहे आमूलचूल बदलावों पर विशेष बल दिया। उन्होंने बताया कि पहली बार छात्रहित में समिति द्वारा इंटरमीडिएट एवं वार्षिक माध्यमिक परीक्षा, 2019 के लगभग 30 लाख विद्यार्थियों को परीक्षा में उपयोग हेतु उनके नाम सहित अन्य सभी विवरणी को उत्तरपुस्तिका तथा ओ0एम0आर0 शीट पर प्रि-प्रिंटेड रूप से उपलब्ध कराया जायेगा।

समिति अध्यक्ष ने इस अवसर पर समिति द्वारा वर्ष 2018 में किये जा रहे प्रमुख सुधारात्मक बदलावों पर भी विशेष बल दिया गया, जिसमें प्रमुख हैं:-

इस वर्ष से समिति द्वारा पहली बार वार्षिक माध्यमिक परीक्षा, 2020 में सम्मिलित होने के लिए 9वीं कक्षा में अध्ययनरत विद्यार्थियों एवं इंटरमीडिएट वार्षिक परीक्षा, 2020 में सम्मिलित होने के लिए 11वीं कक्षा में अध्ययनरत विद्यार्थियों का रजिस्ट्रेशन कराया जा रहा है।

इंटरमीडिएट तथा वार्षिक माध्यमिक परीक्षा, 2018 के सभी विषयों में 50 प्रतिशत आॅब्जेक्टिव प्रश्नों की व्यवस्था वर्ष 2018 की वार्षिक परीक्षा से किया गया है। इस वर्ष 2019 में इंटरमीडिएट एवं मैट्रिक वार्षिक परीक्षा में सम्मिलित होने वाले विद्यार्थियों के हित को ध्यान में रखते हुए परीक्षा में पूछे जाने वाले ैीवतज फनमेजपवदे में अधिक विकल्प देने की व्यवस्था की जा रही है, जिसमें लगभग 75 प्रतिशत प्रश्न अतिरिक्त रहेंगे। स्वदह फनमेजपवदे में आंतरिक विकल्प को समाप्त करते हुए पूर्ण विकल्प का प्रावधान किया गया है, ताकि विद्यार्थियों को प्रश्नों का हल करने में अपेक्षाकृत अधिक संख्या में विकल्प मिल सके।

मेधा दिवस 2018 के अवसर पर आयोजित इस कार्यक्रम में पद्मश्री (प्रो0) जगमोहन सिंह राजपूत, विख्यात शिक्षाविद् द्वारा डाॅ0 राजेन्द्र प्रसाद स्मृति व्याख्यान दिया गया, जिसमें उनके द्वारा मानव मूल्यों एवं संस्कारों पर विशेष बल दिया गया तथा आज के वैश्विक परिवेश में उसकी जरूरतों को रेखांकित किया गया। राष्ट्र के निर्माण में समाज की भूमिका के महत्वों को भी उनके द्वारा विद्यार्थियों के बीच रखा गया। आयोजित कार्यक्रम में प्रो0 राजपूत की बातों से लाभान्वित हुए दर्शकों, जिसमें बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएँ थे, ने खड़े होकर तालियों से उनका अभिनन्दन किया।

कार्यक्रम के अंत में पटना जिला के विभिन्न शिक्षण संस्थानों के विद्यार्थियों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुति दी गई। किलकारी बाल भवन के बच्चों ने ’’बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’’ थीम पर नृत्य की प्रस्तुति की। अधोर प्रकाश शिशु सदन के बच्चों ने देशभक्ति नृत्य प्रस्तुत किया। झांसी की रानी की प्रस्तुति श्री गुरूगोविंद सिंह उच्च विद्यालय, पटना सिटी के छात्र-छात्राओं द्वारा दी गई। रामलखन सिंह उ0वि0, पुनाईचक, राजकीय कन्य उ0वि0, गर्दनीबाग, बांकीपुर राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय के विद्यार्थियों ने क्रमशः सृष्टि की जननी, राष्ट्रीय एकता, फ्यूजन थीम पर नृत्य प्रस्तुत किया तथा दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया।