बिहार के 12 बाढ़ग्रस्त जिलों में एनडीआरएफ की 21 टीमें तैनात, लोगों को हर संभव सहायता पहुंचा रहा प्रशासन

51
0
SHARE

PATNA: बिहार में सबसे ज्यादा बाढ़ग्रस्त 12 जिलों में राष्ट्रीय आपदा मोचन बल की 21 टीमों को तैनात किया गया है। बाढ़ से निपटने के लिए एनडीआरएफ की 4 टीमें सारण में, 3 टीमें गोपालगंज में, 3 टीमें पूर्वी चंपारण में, 2 टीमें दरभंगा में, 2 टीमें सुपौल में, 1 टीम पश्चिम चंपारण में, 1 टीम मुजफ्फरपुर में, 1 टीम सीवान में, 1 टीम मधुबनी में, 1 टीम अररिया में, 1 टीम कटिहार में और 1 टीम किशनगंज में मौजूद हैं।

लोगों को हर संभव सहायता पहुंचा रहा प्रशासन

बिहटा की 9वीं वाहिनी NDRF के कमांडेंट विजय सिन्हा ने कहा कि बिहार राज्य आपदा प्रबंधन विभाग की मांग पर 9वीं वाहिनी एनडीआरएफ की कुल 16 टीमों को बिहार के 11 जिलों- पश्चिम चंपारण, पूर्वी चंपारण, गोपालगंज, मुजफ्फरपुर, सारण, मधुबनी, दरभंगा, सुपौल, अररिया, कटिहार और किशनगंज में तैनात किया गया है। उन्होंने कहा कि एनडीआरएफ की टीमों ने अभी तक सारण, गोपालगंज, पूर्वी चंपारण, पश्चिम चंपारण, दरभंगा, मुजफ्फरपुर और सुपौल के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों से 8,600 से अधिक लोगों को सुरक्षिता निकाला है। इसके अलावा, एनडीआरएफ के बचावकर्मियों ने प्रतिकूल परिस्थितियों में भी बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों से 71 पीड़ितों को सुरक्षित तरीके से निकाला है। उन्होंने कहा कि एनडीआरएफ की टीमें बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में लोगों के बीच राहत सामग्री पहुंचाने के लिए जिला प्रशासन की भी सहायता कर रही हैं और साथ ही बचाव नौकाओं की मदद से दूर-दराज के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों तक राज्य की मेडिकल टीमों कों पहुंचाने में भी सहयोग कर रही हैं।

सिन्हा ने बाढ़ प्रभावित लोगों को सलाह देता हुए कहा है कि वे दर और जल्दबाजी के कारण अपने परिजनों की जान जोखिम में न डालें। उन्होंने कहा कि विपरीत परिस्थितियों में धैर्य बनाए रखें तथा सहायता के लिए स्थानीय प्रशासन, एनडीआरएफ, पुलिस या अन्य सहायता टीमों से संपर्क बनाए रखें। एनडीआरएफ बचाव दल आपदा में लोगों की मदद के लिए हमेशा तैयार रहते हैं।