83 में संदीप पाटिल की भूमिका निभाएंगे चिराग पाटिल

538
0
SHARE

मुंबई – क्रिकेटर संदीप पाटिल हिंदी फिल्मों में अपनी किस्मत आजमा चुके हैं। इस बार बेटा चिराग पाटिल मैदान में है लेकिन यह क्रिकेट का असली मैदान नहीं, बल्कि सिनेमाई पिच है, जहां उनके साथ रणवीर सिंह भी हैं। कबीर खान की स्पोर्ट्स ड्रामा फ़िल्म ’83 में संदीप पाटिल के बेटे चिराग अपने पिता की ऑनस्क्रीन भूमिका निभाते हुए क्रिकेट के इतिहास को फिर से दोहराते हुए नज़र आएंगे। चिराग लगभग 11 मराठी और हिंदी फिल्मों में अभिनय कर चुके हैं और वह अब रणवीर सिंह के नेतृत्व में मैदान में उतरने के लिए बेताब हैं।

चिराग कहते हैं कि मैं वास्तव में उत्साहित हूं। 83 विश्व कप की जीत को भारतीय इतिहास में एक मील का पत्थर माना जाता है और उस टीम का हिस्सा बनना एक सपना सच होने जैसा है और फ़िल्म में मेरे पिता की भूमिका निभाना इस फ़िल्म को ओर अधिक खास बना देता है। मुझे लगता है कि अभी तक किसी भी अभिनेता ने अपने पिता की भूमिका बड़े पर्दे पर नहीं निभाई है। मैं पहला शख्स हूं। साथ ही चिराग ने बताया कि उनकी मां दीपा का सपना रहा है कि वह किसी फ़िल्म में अपने पिता की भूमिका निभाएं। सौभाग्य से मुझे यह किरदार मिल गया।

जूनियर पाटिल ने कभी भी पेशेवर रूप से क्रिकेट नहीं खेला है। वह यह स्वीकार कर रहे हैं कि शुरुआत में वह थोड़ा नर्वस थे, लेकिन एक बार जब उन्होंने अभ्यास करना शुरू किया, तो उनके पिता का रुख और उनके शॉट्स खेलने का तरीका स्वाभाविक रूप से उनके पास आया। “बल्लू अंकल (बलविंदर संधू) और उनकी टीम अगस्त से हमें प्रशिक्षित कर रही है। मैंने खाली समय में भी चंद्रकांत पंडित की क्रिकेट अकादमी से भी कुछ प्रशिक्षण सत्र लिए हैं। भारत का सबसे अच्छा क्रिकेट कोच मेरे घर में रहता है और यह सबसे बड़ी मदद है। अभी ध्यान अच्छी तरह से प्रशिक्षित करने और मेरे पिता की शैली को सही करने पर है। सचिन तेंदुलकर ने एक बार मुझसे कहा था, अपना सर्वश्रेष्ठ दो और बाकी भगवान को छोड़ दो। मैं इस बात का पालन करता हूं।

चिराग कहते हैं कि उन्होंने अपने पिता को कभी खेलते हुए नहीं देखा क्योंकि वह पैदा होने से पहले ही रिटायर हो चुके थे। लेकिन मैंने उनकी बल्लेबाजी, उनके व्यक्तित्व और उनके जीवन के बारे में कहानियाँ सुनी हैं। वह एक किंवदंती थे! उन्होंने ज़ोर देते हुए कहा कि उस समय कोई सोशल मीडिया या पीआर नहीं थे। लेकिन आज भी वह जहां जाते है चाहे वो भारत हो या विदेश, लोग उनके साथ सेल्फ़ी लेने के लिए उत्सुक रहते हैं। वह एक सुपर स्टार हैं।

अपने सहकलाकार के बारे में बात करते हुए चिराग ने कहा कि रणवीर एक बेहद अच्छे इंसान है और मैं उनके साथ काम करने के लिए बहुत उत्साहित हूं। उनकी कड़ी मेहनत, विनम्रता, ऊर्जा और समर्पण से मुझे बहुत कुछ सीखना है। वह मैदान पर सबसे पहले आते हैं और अंत में जाते हैं। देश के लिए एक बार फिर विश्व कप उठाने में मज़ा आएगा।