फर्जी ढंग से सिविल सर्जन कार्यलय से रेमडिसिवर सुई मंगवाने को लेकर अहियापुर थाना में मामला हुआ दर्ज

102
0
SHARE

मुजफ्फपुर- कोरोना त्रासदी के वक्त जहां हर तरफ हाहाकार मचा हुआ है, ऐसे समय में भी कुछ गिद्ध प्रजाति के लोग इस विपदा की घड़ी में भी कमाई का जरिया तलाश रहे है। अभी पूरे देश में रेमडिसिवर सुई के कालाबाजारी के कई मामले सामने आए, जहां ये गिद्ध प्रजाति के लोगों ने कोरोना संक्रमितों के परिजनों को औने-पौने दाम पर बेचा, वहीं एक- एक सुई के लिए इनलोगों ने 25 से 50 हज़ार रुपये ब्लैक में लिया।

अभी ताजा मामला बिहार के मुजफ्फरपुर जिले से आ रही है, जहां सिविल सर्जन की ओर बड़ी कार्रवाई का मामला सामने आया है, जहां जिले के अहियापुर थाना क्षेत्र में चल रहे निजी अस्पताल ‘मेडिका’ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया है।

मामला यह है कि, अस्पताल द्वारा एक मरीज के परिजन को बिना प्रिस्क्रिप्शन लिखें, रेमडिसिवर इंजेक्शन लेने के लिए सदर अस्पताल भेज दिया गया। जिसके बाद दिए गए नंबर पर सिविल सर्जन ने खुद बात की और अस्पताल प्रबंधक को हड़काया भी और हड़काने के बाद अहियापुर थाना को मामला दर्ज कर कानूनी कार्रवाई करने का पत्र भी जारी कर दिया।

पूरे मामले पर पूछे जाने पर सीएस डॉ. एस.के. चौधरी ने कहा कि हॉस्पिटल के पहले भी शिकायत मिल चुकी है। कई बार पत्र एडीसी के नाम से सिर्फ मरीज का नाम आधार नंबर लिखकर भेज दिया जाता है। जिसको लेकर अस्पताल की भूमिका पर शक हुआ तो बात किए और अहियापुर थाना को एफआईआर दर्ज कर कार्रवाई करने को लिखा गया है, साथ ही इसकी सूचना डीएम एसएसपी को भी दी गई है।