मॉनसून सत्र का दूसरा दिन : विपक्ष ने किया सदन का बॉयकॉट, विधायकों की पिटाई के दोषियों पर कार्रवाई तक जारी रहेगा बहिष्कार

124
0
SHARE

पटना
डेस्क।
बिहार विधान मंडल के मॉनसून सत्र का
दूसरा दिन भी हंगामा की भेट चढ़ गया। विधायकों की पिटाई के मामले में दोषियों पर
कार्रवाई व अन्य मुद्दों को लेकर मंगलवार को पूरे विपक्ष ने सदन का बॉयकॉट
(बहिष्कार) किया। बॉयकॉट करते हुए विधान सभा से बाहर निकले नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी
यादव ने सरकार पर बरसते हुए कहा कि सदन के अंदर हमें बहस करने का मौका नहीं दिया जाता है। कुछ लोग
सदन को अपनी जागीर समझ बैठे
हैं। जनता के मुद्दों पर बहस नहीं चाहते
हैं। जहां पढ़ाई,  कमाई,  दवाई,  सिंचाई
व महंगाई पर चर्चा नहीं होती, वहां
जाने या बैठने का कोई मतलब नहीं है। जब तक
विधायकों की पिटाई के मामले में दोषियों पर
कार्रवाई नहीं होगी और कार्यमंत्रणा
समिति की बैठक नहीं होती, तब तक हम विधान सभा का बहिष्‍कार जारी
रखेंगे।  

बुधवार
से बदलेगा नजारा
: विधान मंडल के बाहरी परिसर में बैठेंगे विपक्षी सदस्य

बुधवार
से विधान मंडल परिसर का नजारा बदलेगा। विरोधी दल के नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि
महागठबंधन के सभी विधायक विधान मंडल के बाहरी परिसर में आएंगे पर सदन
के अंदर नहीं जाएंगे। विधानसभा की कार्यवाही में भाग नहीं लेंगे। परिसर में आना और
सदन में जाना दोनों में अंतर है। उन्होंने कहा कि जातीय जनगणना पर सदन की कमेटी
बने और प्रधानमंत्री सदन की कमेटी से मुलाकात करें। अगर कमेटी नहीं बनेगी तो राज्य
सरकार को अपने खर्चे से जातीय आधार पर जनगणना करानी चाहिए।

लगातार
दूसरे दिन हेलमेट पहन कर पहुंचे कई विधायक

इस
बीच लगातार दूसरे दिन महागठबंधन के घटक दलों के कई विधायक हेलमेट पहन कर विधान सभा
पहुंचे। विधायकों ने कटाक्ष करते हुए कहा कि पुलिसकर्मियों से डर लगता
है। सरकार के इशारे पर किसी भी समय उनकी पिटाई की जा सकती है। ऐसे हालात में
लोकतंत्र के मंदिर में अपनी जान की सलामती के लिए हेलमेट पहन कर आने की विवशता है।
मॉनसून सत्र के पहले दिन सोमवार को भी विपक्षी विधायकों ने हेलमेट के अलावा काला मास्क
पहन कर सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए भी विरोध जताया था।