मनु महाराज बने आईटीबीपी के डीआईजी, केंद्रीय प्रतिनियुक्ति के लिए किए गए विरमित

257
0
SHARE

पटना डेस्क। राज्य के चर्चित आईपीएस अफसर व सारण रेंज के
डीआईजी मनु महाराज आईटीबीपी (भारत-तिब्बत सीमा पुलिस) के डीआईजी बनाए गए हैं। मंगलवार
को गृह विभाग (आरक्षी शाखा) द्वारा जारी अधिसूचना में कहा गया है कि केंद्रीय प्रतिनियुक्ति
के तहत आई.टी.बी.पी. में डीआईजी के पद पर पदग्रहण की तिथि से 5 वर्षों की अवधि के
लिए नियुक्ति की गई है। इसको देखते हुए सारण रेंज के डीआईजी मनु महाराज को वर्तमान
प्रभार का त्याग करने की तिथि से विरमित करते हुए उनकी सेवाएं गृह मंत्रालय को
सौंपी जाती है। साथ ही गृह विभाग ने उन्हें आईटीबीपी में योगदान करके रिपोर्ट
भेजने के निर्देश दिए हैं।  

कड़क अफसर की छवि, पटना समेत कई जिलों में रही है
तैनाती

वर्ष 2005 बैच के बिहार कैडर के आईपीएस अफसर मनु महाराज की छवि कड़क
पुलिस अफसर के रुप में रही है। सारण रेंज से पहले वे मुंगेर के डीआईजी थे। पुलिस
कप्तान के रुप में उनकी पहली पोस्टिंग पटना में सिटी एसपी के रुप में हुई थी। इसके
बाद वे चार टर्म पटना के एसएसपी भी रहे। पटना के अलावा रोहतास, जहानाबाद, गया समेत
कई जिलों में उनकी तैनाती रही है। इस दौरान अपराधियों व नक्सलियों के खिलाफ कई
बड़े व सफल ऑपरेशन का उन्होंने नेतृत्व किया था।

रावध वध कार्यक्रम में भगदड़ के बाद हुए थे
निलंबित

अक्टूबर 2014 में राजधानी में दशहरा के उत्सवी माहौल के बीच गांधी
मैदान में आयोजित रावण बध कार्यक्रम में मची भगदड़ में 32 लोगों की मौत हो गई थी।
इसको लेकर तत्कालीन मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की सरकार ने तत्कालीन एसएसपी रहे मनु
महाराज को निलंबित कर दिया था। हालांकि बाद में उन्हें निलंबन मुक्त करने के साथ
ही निर्दोष करार देते हुए सरकार ने क्लीन चिट दे दी थी।