‘एक्सीडेंटल जोन’ को चिन्हित कर निदान का निर्देश : नंदकिशोर

161
0
SHARE

सड़क दुर्घटनाओं की रोकथाम की दिशा में पथ निर्माण विभाग में कार्य प्रारंभ, राज्य में ऐसे 124 ‘ब्लैक स्पाट’ चिन्हित जहां होती हैं सड़क दुर्घटनाएं

पटना बिहार के पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव ने कहा है कि राज्य में सड़क दुर्घटनाओं की रोकथाम की दिशा में विभाग ने काम शुरू कर दिया है। इसके लिए सड़कों के ‘एक्सीडेंटल जोन’ को चिन्हित कर उसके निराकरण का निर्देश दिया गया है। यादव ने आज यहां कहा कि राज्य में पिछले तीन वर्षों के भीतर घटी सड़क दुर्घटनाओं और उसमें हताहतों की संख्या के आक्कलन पर पथ निर्माण विभाग और गृह विभाग के प्रतिवेदन में सूबे में 124 ऐसे ‘ब्लैक स्पाट’ पाये गये हैं जहां उन स्थानों पर वर्ष 2014 से 2016 के बीच सड़क दुर्घटना की 860 से अधिक घटनाएं घटी जिसमें 400 से अधिक लोग इसके शिकार हुए। उक्त अवधि में राजधानी पटना में ही ‘ब्लैक स्पाट’ के कारण सड़क दुर्घटना की 167 घटनाएं घटीं जिसमें 56 लोग हताहत हुए।

पथ निर्माण विभाग के साथ-साथ राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण और राज्य पुलिस प्रषासन ने भी ऐसे ‘एक्सीडेंटल जोन’ की पहचान की है। घनी आबादी और अत्यधिक यातायात के कारण चिन्हित ‘ब्लैक स्पाटों’ पर दुर्घटनाएं अधिक होती हैं। यादव ने विभागीय अधिकारियों को निदेश दिया है कि राज्य में पथ निर्माण विभाग के अन्तर्गत पथों पर चिन्हित ऐसे ‘ब्लैक स्पाटों’ को चिन्हित कर इसका शीघ्र निदान करें। अधिकारियों को ऐसे ‘स्पाटों’ की सूची दे दी गयी है और इसके लिए अल्पकालीन तथा दीर्घकालीन पैमाने के तहत कार्य करने का आदेश दिया गया है। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण से भी अनुरोध किया गया है कि वह बिहार में नेशनल हाइवे पर चिन्हित वैसे स्पाटों की पहचान कर निराकरण की दिशा में की गई कार्रवाई से पथ निर्माण विभाग को अवगत कराये।