मुजफ्फरपुर में भ्रष्टाचार के खिलाफ अमेरिकी छात्र का धरना

311
0
SHARE

मुजफ्फरपुर: बिहार के मुजफ्फरपुर में मनरेगा में व्याप्त भ्रष्टाचार के खिलाफ पिछले 35 दिनों से मजदूर धरना प्रदर्शन कर रहे है। मजदूरों के इस धरने का अमेरिकन शोधार्थी ने भी मंगलवार को समर्थन दिया।

अमेरिका से बिहार में शोध के लिए आए अमेरिकन छात्र जैफ्री विस्टो ने आन्दोलनरत मजदूरों के धरने का समर्थन करते हुए उनके साथ बैठे मजदूरों की मांगों को उचित ठहराया। अधिकारों के लिए लड़ रहे मनरेगा के मजदूरों के सघर्ष पर पिछले कुछ सालों से बिहार में रहकर शोध कर रहे हैं।

एक टीवी चैनल से बातचीत में अमेरिकन नागिरक विस्टो ने कहा कि बिहार में पिछले 10 सालों में विकास के लिए अच्छा काम हुआ है लेकिन मनरेगा मजदूरों की समस्याओं और भ्रष्टाचार की सरकार ने अनदेखी की है। मनरेगा वॉच के मजदूरों ने देश में मजदूरों के बेरोजगारी भत्ता नहीं देने के मामले को लेकर जल्द ही सुप्रीम कोर्ट में पीआईएल दायर करने वाले हैं।

मनरेगा कानून में साल में सौ दिनों का काम नहीं देने पर मजदूरों को बेरोजगारी भत्ता देने का प्रावधान है। आन्दोलन कर रहे मजदूरों ने मुजफ्फरपुर में मनरेगा में व्याप्त भ्रष्टाचार को लेकर प्रशासन के खिलाफ मोर्चा खोला है।