आंदोलन कर रहे शिक्षक अभ्यर्थियों के बीच पहुंचे तेजस्वी यादव, सीधे डीएम और मुख्य सचिव को लगाया फ़ोन

361
0
SHARE

PATNA: बिहार में शिक्षक नियोजन को लेकर अभ्यर्थियों का आंदोलन लगातार तीसरे दिन जारी है। मंगलवार की शाम उन्होंने पटना के गर्दनीबाग में धरना दिया था। जिसके बाद पुलिस ने उनलोगों पर लाठीचार्ज किया। आज यानि बुधवार को अभ्यर्थी फिर से गर्दनीबाग धरनास्थल पर पहुंचे तो एक बार फिर पुलिस ने उन्हें खदेड़ दिया। पुलिस से बचकर भागे सैकड़ो शिक्षक अभ्यर्थी पटना के ईको पार्क पहुंच गये। इस बात की खबर उन्होंने इस बात की खबर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव को दी। इसके बाद नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव समर्थन में उतर गए और सीधे मुख्य सचिव को फोन लगाया और तत्काल नियोजन की प्रक्रिया शुरू करने को कहा। इसके बाद तेजस्वी यादव ने डीएम को फोन लगाया।

तेजस्वी यादव ने कहा कि सरकार जो धरना स्थल तय किया। वहां पर जाकर अभ्यर्थियों ने शांति पुण्य ढंग से धरना प्रदर्शन कर रहे थे। लेकिन मंगलवार शाम अचानक पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। लाठीचार्ज होने बाद इनलोगों को वहां के खदेड़ दिया गया। अभ्यर्थियों की खाने पीने की व्यवस्था और रहने समान तंबू को उखाड़ कर फेंक दिया गया। किसी तरह चंदा इकठ्ठा कर खाने पीने की व्यवस्था की थी। वह भी पुलिस वालों ने उखाड़ फेंक दिया। तेजस्वी यादव ने कहा कि हाईकोर्ट ने आर्डर दिया है कि जल्द से जल्द नियुक्ति पत्र दिया जाना चाहिए। लगभग 94 हज़ार शिक्षक की जनसंख्या है। जिनको सरकार ने अब तक नियुक्ति पत्र नहीं दिया है।

उन्होंने आंदोलनकारियों को संबोधित करना शुरू कर दिया। तेजस्वी ने राज्य सरकार पर तानाशाही का आरोप लगाते हुए कहा कि लोकतंत्र में शांतिपूर्ण प्रदर्शन का अधिकार मिला है लेकिन नीतीश सरकार लाठी-गोली चलवा रही है। तेजस्वी ने कहा कि शिक्षक अभ्यर्थियों और नियोजित शिक्षकों को इसका दंड दिया जा रहा है कि उन लोगों ने आरजेडी को वोट दिया था। तेजस्वी ने कहा कि जो घरना देने के लिए तय किया गया हूं। वहां भी शांतिपूर्ण तरीके से धरना नहीं देने दिया जा रहा है। भारी संख्या में अभ्यर्थि इको पार्क आकर बैठें हैं। कम से कम इनलोगों को नियुक्त पत्र मिलना चाहिए। सरकार हर एक बहाली में धंधली करती है। बिना आरसीपी टैक्स के कुछ नहीं होता है। विधानसभा के दौरान हमलोग इनसब बातों को उठाने का काम करेंगे।

इतने ठंड में महिलाओं को भी रुकने की व्यवस्था नहीं है। अगर महिलाओं के साथ कुछ हादसा हो जाये तो, इसका जिम्मेवारी कौन लेगा। पुलिस वाले से तो अपराधी पकड़ा नहीं जाता है। और अभ्यर्थियों पर लाठी चलाने का काम करते है। आप समझ सकते है कि किस तरह का बिहार में सरकार चल रहा है। हम बार बार कहते है कि नीतीश कुमार से बिहार नहीं संभल रहा है। वह थक चुके है। और यह डबल इंजन की सरकार बिहार के लिए अभिशाप है। किसान, मजदूर, छात्र, जिविका दीदी, समेत कई लोग इस सरकार से परेशान है। बिहार बेरोजगारी का केंद्र बनता चला जा रहा है। कोर्ट के आर्डर के बाद भी लोगों को रोजगार नहीं मिल रहा है।

बढ़ते अपराध को लेकर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा कि अपराधी बिहार में तांडव मचा रहे है। लेकिन उनलोगों पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। वहीं सरकार के 19 लाख बेरोजगार को नौकरी देते की सवाल पर तेजस्वी ने कहा कि यह सबकुछ उनलोगों के लिए छलावा है। उनलोगों में रोजगार देने का की समय भी नहीं बताया था।