किसान हत्या मामले में आक्रोशितों की मांग को देखते हुए ओबरा थानाध्यक्ष हरेंद्र कुमार को हटाया गया तत्काल प्रभाव से

581
0
SHARE

औरंगाबाद – ओबरा थाना क्षेत्र के खरांटी में बीती रात हुई 45 वर्षीय किसान की हत्या के बाद आक्रोशित ग्रामीणों की मांग को देखते हुए ओबरा थानाध्यक्ष हरेंद्र कुमार को तत्काल प्रभाव से हटा दिया गया है। गौरतलब है कि किसान की हत्या के बाद आक्रोशित ग्रामीणों ने खरांटी गांव के समीप एनएच-139 जाम कर दिया था और टायर जलाकर पुलिसिया कार्रवाई के खिलाफ जमकर नारेबाजी किया। ग्रामीणों ने स्थानीय थानाध्यक्ष की कार्यशैली को लेकर कई आरोप लगाए और जाम छुड़ाने पहुंचे अधिकारियों को विगत चार महीनों के अंदर हुए हत्याओं का ब्यौरा दिया।

ग्रामीणों ने अधिकारियों से बताया कि 29 सितंबर की ही रात को अपराधियों ने सोए हुए 80 वर्षीय किसान की हत्या कर दी और एक ही रात बीतने के बाद पुनः वैसी ही घटना को अंजाम दे दिया। स्पष्ट है कि अपराधियो के हृदय में पुलिस का खौफ समाप्त हो चुका है। ऐसी स्थिति में वर्तमान थानाध्यक्ष को बने रहना किसी भी दृष्टिकोण से उचित नही है।

मामले में एसडीपीओ राजकुमार तिवारी ने बताया कि ग्रामीणों के द्वारा थानाध्यक्ष को हटाने एवं मृतक के भाई के द्वारा आत्मरक्षा हेतु हथियार के लाइसेंस की मांग की गई थी। जिसकी जानकारी एसपी को दी गयी और उनके निर्देशानुसार दोनों मांगो को पूरा करने का आश्वासन दिया गया और सड़क को जाम से मुक्त कराया गया। हालांकि पिछले दो दिनों के अंदर लगातार दो किसानों की हत्या के कारणों का खुलासा तो अभी नहीं हो पाया है लेकिन इस मामले में एसडीपीओ तिवारी ने बताया कि प्रथमदृष्टया दोनों हत्याओं के प्रकृति को देखते हुए इसे साइको इफेक्ट माना जा सकता है लेकिन दोनों मामले में वैज्ञानिक अनुसंधान कर जानकारी प्राप्त की जा रही है कि इस घटना के पीछे की मंशा क्या रही है और शीघ्र ही पुलिस मामले का उद्भेदन कर अपराधियों को गिरफ्तार कर लेगी।