बालू लदे ओवरलोडेड वाहनों पर पुलिस की कार्रवाई

170
0
SHARE

KAIMUR:  जिले के nh2 पर बालू लदे ओवरलोडेड वाहनों पर कल सुबह से ही प्रशासन सख्त दिखा। सड़कों पर चल रहे बालू लदे ओवरलोड वाहनों को धरपकड़ तो किया ही गया, साथ ही सड़क किनारे गाड़ी लगा कर चंपत हुए चालकों के वाहनों को भी प्रशासन ने लॉक तोड़कर गोडाउन में ले जाकर वाहन जब्त कर लिया। 50 से अधिक वाहनों पर ई चालान किया गया, तो वहीं 40 से अधिक वाहनों को जब्त कर पार्किंग में लगाया गया। यह सभी बालू लदे ओवरलोडेड वाहन हैं जिन पर करवाई हुई है ।

दरअसल रोहतास जिले के सोन नदी डेहरी से बालू लदे ओवरलोडेड हजारों वाहन कैमूर जिले के nh-2 के रास्ते होते हुए उत्तर प्रदेश चले जाते हैं । बालू लदे ओवरलोडेड वाहनों के कारण कर्मनाशा नदी के ऊपर बिहार और यूपी के जोड़ने वाला पुल भी पिछले साल ध्वस्त हो गया था। जिसके बाद डायवर्सन एनएचआई द्वारा बनाया गया फिर बारिश के मौसम में डायवर्सन को भी पानी के बढ़ते दबाव के कारण एनएचआई को तोड़ना पड़ा और उसके जगह पर टेंपरेरी स्टील ब्रिज तैयार किया गया। जिससे कि परिचालन बाधित ना हो। जिस पर मैक्सिमम 50 टन क्षमता के वाहनों को ही गुजरने की एनएचआई की अनुमति दिया। लेकिन बालू लदे ओवरलोड वाहनों पर लगाम नहीं लगाया जा सका । यह वाहन 70 टन से भी अधिक वजन के होते हैं। बालू लदे ओवरलोड वाहनों के कारण जाम की समस्या उत्पन्न हो जाती है और स्टील ब्रिज को एक एक गाड़ियों को पार कराने के कारण जाम भीषण लग जाता है। अगर एक-एक गाड़ियां ना पार हो तो कभी भी हादसा हो सकता है ।

जिसको देखते हुए डीएम के निर्देश पर बालू लदे ओवरलोड वाहनों के खिलाफ अभियान चलाया गया जिसमें 50 से अधिक वाहनों पर कार्रवाई हुई है। इस कार्रवाई में डीटीओ, आरटीओ,एमभीआई,माइनिंग, एसडीओ, और डीएसपी के साथ संबंधित थाने के पुलिस भी मौजूद रहे। ऐसे ओवर लोडेड वाहनों पर कार्रवाई अभी भी प्रशासन की जारी है ।

जानकारी देते हुए जिला परिवहन पदाधिकारी रामबाबू बताते हैं बालू लदे ओवरलोडेड वाहनों के खिलाफ अभियान चलाया गया है जिसमें 50 से अधिक वाहनों पर ई चालान किया गया है और दर्जनों वाहनों को जप्त कर पार्किंग में लगाया जा रहा है। कई वाहन सड़क किनारे अभी भी खड़े हैं उन सभी को जप्त करने की प्रक्रिया जारी है ।