कन्हैया की इंट्री से एनडीए में घमासान

538
0
SHARE

धनंजय झा

बेगूसराय – लोकसभा चुनाव की आहट के बीच बेगूसराय, दिल्ली की तरह राजनीतिक अखाड़ा बनते जा रहा है जिसकी एक मात्र वजह जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार हैं। कन्हैया कुमार फटा पोस्टर निकला हीरो की तर्ज पर चुनावी मैदान में ताल ठोक रहे हैं वहीं भाजपा के लिये बड़ी मुसीबत ये है कि भाजपा के वर्तमान बेगूसराय सांसद भोला सिंह वयोवृद्ध होने के साथ-साथ अत्यधिक बीमार चल रहे हैं जिस वजह से क्षेत्र में उनकी गतिविधि शून्य हो गयी है। ऐसे में कन्हैया जैसे तेज तर्रार और महागठबंधन के आंख के तारे प्रत्याशी के खिलाफ बीजेपी किसे चुनावी मैदान में उतारे इसको लेकर सिर फुटोअल की स्थिति बनी हुई है। साथ ही साथ बीजेपी के आंतरिक कलह को खत्म करने के लिए राकेश सिन्हा आज बेगूसराय आनेवाले हैं।

इसबीच कन्हैया लगातार सभाओं के जरिये बीजेपी के स्थानीय नेता से लेकर शीर्ष नेतृत्व के खिलाफ जहर उगल रहे हैं। कन्हैया कहते हैं उन्होंने पूरे देश मे संविधान बचाओ देश बचाओ आंदोलन छेड़ रखा है जिसकी शुरुआत बेगूसराय से की गई है। कन्हैया कहते हैं आज संसद से जनता के मुद्दे गायब है निश्चित तौर पर जब सड़क पर लोग मशाल लेकर निकलेंगे तो सदन में खुदबखुद चीजे बदल जायेगी। उन्होंने कहा कि बीजेपी के नेताओं को उनसे सीखने की जरूरत है, “मुझे देश बचाना है वो विदेश घूमे और अपनी कुर्सी बचाए।”

वहीं भाजपा नेताओं के द्वारा कन्हैया को देशद्रोही करार दिया जा रहा है। भाजपा नेता विधान पार्षद रजनीश कुमार कहते हैं कि विकास की बात वामदल के लोग खासकर कन्हैया तो बिल्कुल न करे, देश को तोड़ने की साजिश करने वाले और विकास को अवरुद्ध करने वाले बेगूसराय और देश के विकास की बात कर रहे कन्हैया ने जो पाप किये है पहले उसका प्रायश्चित करे फिर यहाँ मैदान में दाव आजमाए।

फिलहाल इस चुनाव में हर पार्टी के नेता जोड़-तोड़ की गणित में जुटे हुए हैं। अब तो आने वाला समय ही बताएगा कि आने वाले चुनाव में कन्हैया के मुकाबले के लिए एनडीए के किस दल के किस प्रत्याशी को चुनावी मैदान में उतारा जाता है लेकिन हाई प्रोफ़ाइल इस सीट पर देश के बड़े-बड़े राजनीतिक चेहरे एक दूसरे की बखिया उधेड़ते नजर आएंगे।