शर्मसार मानवता की एक तस्वीर!

126
0
SHARE

धनंजय झा

बेगूसराय – शर्मसार मानवता की एक तस्वीर उस समय देखने के मिली जब कूड़े के ढेर में एक नवजात बच्चे का शव रखा हुआ लोगों ने देखा लेकिन उसको उठाने की किसी ने ज़हमत भी नहीं उठाई। शव को घंटों कुत्ते नोचते रहे और लोग तमाशबीन बने खड़े मोबाइल से वीडियो बनाते रहे। मामला नगर थाना क्षेत्र के पोखरिया की है। हालांकि इस मामले को मीडिया कर्मियों के संज्ञान में आने के बाद प्रशासन भी हरकत में आई और बच्चे के शव को उठाकर सदर अस्पताल पहुंचाया।

क्या है पूरा मामला

घटना किसी सुनसान इलाके का नहीं वरन बेगूसराय के पॉश इलाका पोखरिया का है। यहां तकरीबन हजारों लोग उस रास्ते से आते और जाते हैं। अब इस तस्वीर की दूसरी पहलू पर भी एक नजर दे देते हैं जिसमें एक नवजात शिशु को उसकी मां ने ही गटर के ढेर में फेंक दिया। अगर मोहल्ले पर गौर करें तो इस मोहल्ले में कई डॉक्टर भी अपनी दुकान चलाते हैं लेकिन शर्मसार होती इस मानवता के बीच किसी ने भी उस बच्चे को उचित सम्मान देने की दिशा में एक भी कदम आगे बढ़ाया।

यह तो समय के गर्भ में छुपा है कि जिस वक्त उस बच्चे की मां ने उसे फेंका वह जिंदा था या मृत लेकिन देखा जाए तो बच्चे की मां के द्वारा उसे भगवान की शरण में फेंक कर अन्यत्र चली गई। यहां सवाल यह उठता है कि इन सारे पहलुओं के बीच उस बच्चे का क्या कसूर था जिसने अभी खुली आंखों से दुनिया की सूरत भी नहीं देखी थी। इस मामले में वार्ड के जनप्रतिनिधि एवं अपने आपको समाज के ठेकेदार कहने वाले लोग भी सिर्फ खानापूर्ति करते एवं एक-दूसरे को कोसते नजर आए।