सुशील मोदी का आरोप बनावटी है : भोला यादव

190
0
SHARE

पटना – सीबीआई से बचने और बिहार में नीतीश कुमार की सरकार गिराने को लेकर राजद सुप्रीमो लालू यादव कई दफे बीजेपी नेता अरुण जेटली से मिले. सुशील कुमार मोदी के इसी बयान के बाद से बिहार में सियासत गर्म हो चुकी है. पटना में दस सर्कुलर रोड स्थित राबड़ी आवास पर पहुंचे लालू यादव के करीबी राजद नेता भोला यादव ने सुशील मोदी को घेरा है. उन्होंने साफ-साफ कहा है कि आरोप कोई भी लगा सकता है. आरोपों का सबूत दे बीजेपी. बता दें कि भोला यादव तेजस्वी यादव से मिलने के लिए पहुंचे थे.

भोला यादव ने कहा कि जनता ने मन बना लिया है. एनडीए को हराना है. जनता एनडीए के खिलाफ पूरी तरह से गोलबंद है. हार को आगे देखकर बीजेपी वाले विधवा विलाप कर रहे हैं. सुशील मोदी की बातों में कोई सच्चाई नहीं है. सारी बातें सच्चाई से परे हैं. ये बयान दिखाता है कि एनडीए अपनी हार स्वीकार कर रहा है.

भोला यादव ने कहा कि हार से बचने के लिए ऐसे बयान दिए जा रहे हैं. इससे साबित हो गया है कि एनडीए पूर्ण रूप से खत्म हो गयी है. केंद्र में एनडीए की नहीं यूपीए की सरकार बनने वाली है. इसी के चलते ये लोग आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव पर अनर्गल आरोप लगा रहे हैं. सुशील मोदी का आरोप बनावटी है. इस तरह का आरोप कोई भी किसी पर लगा सकता है. आरोपों पर सबूत बीजेपी को देना चाहिए.

दरअसल सुशील मोदी ने कहा कि लालू यादव ने पहले अपने दूत को अरुण जेटली के पास भेजा. लालू के उस संदेशे में कहा गया कि आप सीबीआई को सुप्रीम कोर्ट में अपील करने से रोकें. और अगर अपील हो भी गई तो आप लालू यादव का विरोध न करने दें. जेटली से कहा गया कि अगर आप मदद करेंगे तो हम सीएम नीतीश कुमार को धूल चटा देंगे. ये संदेश प्रेम गुप्ता के जरिए अरुण जेटली के पास भेजा गया था. ये नाम सुशील मोदी की ओर से लिया गया।