जीतन राम मांझी ने सरकार पर हमला करते हुए कहा, अपराध को लेकर संवेदनहीन है वर्तमान सरकार, एक नहीं दर्जनों कमिश्नर मारे जाएंगे

132
0
SHARE

भोजपुर – बिहार के बक्सर जिले के कोरानसराय में भूख के कारण हुई बच्चों की मौत के बाद उनके परिजनों से मिलने जाने समय आरा परिसदन पहुँचे पूर्व मुख्यमंत्री जितम राम माँझी ने सृजन घोटाले को लेकर उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी पर जमकर हमला बोला। ईडी द्वारा सुशील मोदी की बहन रेखा मोदी के घर पर छापा पड़ने के बाद माँझी ने केंद्र सरकार से अपील किया है कि बिहार में सरकार को निरस्त कर राष्ट्रपति शासन लगाना चाहिए तब जाकर सृजन घोटाले के जाँच में पारदर्शिता आएगी। इशारों ही इशारों में मांझी ने सृजन घोटाले के जाल में कई बड़ी मछलियों के फसने की बात कही।

रेखा मोदी तो महज छोटी मछली है अगर जाँच में पारदर्शिता आई तो कई नामी गिरामी हस्तियां इसके घेरे में आएंगी

उन्होंने कहा कि रेखा मोदी तो महज छोटी मछली है अगर जाँच में पारदर्शिता आई तो कई नामी गिरामी हस्तियां इसके घेरे में आएंगी। अभी तक तो मजह 1900 करोड़ रुपए की बात सामने आई है निष्पक्ष जाँच में हज़ारों हजार करोड़ रुपये की घोटाले की बात सामने आएगी। हालांकि यह जाँच का विषय है मगर इसमें अधिकारियों के साथ-साथ कई बड़े नेताओं के भी नाम सामने आएंगे। सिर्फ छोटी मछलियों को पकड़ कर सृजन घोटाले को इतिश्री करने का काम किया जा रहा है। सुशील मोदी कहें न कहें रेखा उनकी बहन है कहीं न कहीं उनके नाम का प्रभाव पड़ा है, बिना मोदी की छत्रछाया में रहें और उनका नाम बेचें ये सब इतना आसान नहीं था।

देवकी ठाकुर को ढोंगी बाबा ठहरा कर नसीहत देते हुए मांझी ने कहा कि अगर 15 प्रतिशत वाला देश जला सकता है तो 85 प्रतिशत वाला हाथ में दही लेकर नहीं बैठेगा, देशद्रोह का मामला दर्ज हो

बहुचर्चित कथावाचक देवकी ठाकुर द्वारा सरकार को एससी/एसटी अधिनियम को लेकर दिए गए 2 महीने के अल्टीमेटम के मामले में माँझी ने कहा कि देवकी ठाकुर समाज में सद्भावना बिगाड़ने की साजिश रच रहे हैं उनपर देशद्रोह का मामला दर्ज कर कानूनी कार्रवाई करनी चाहिए। स्वयं कथावाचक होकर सर्व धर्म संवाद की बात करने वाले व्यक्ति समाज में अव्यवस्था फैलाने का साजिश रच रहे हैं। आरक्षण कोई नया मामला नहीं है यह एससी/एसटी अधिनियम 1989 का मामला है, बीच में सर्वोच्च न्यायालय द्वारा अधिनियम में कुछ बदलाव किया गया था जिसके बाद सरकार ने सदन में इसे निरस्त कर पुनः 1989 एससी/एसटी अधिनियम को लागू कर दिया है। देवकी ठाकुर ढोंगी बाबा है वो अधिनियम में बदलाव करा कर अपराधियों को संरक्षण देने की साजिश कर रहा है। बातों ही बातों में माँझी ने देवकी ठाकुर को नसीहत देते हुए कहा कि जिनकी जनसंख्या 15 प्रतिशत है जो देश जला सकता है तो सोचो कि जिसकी जनसंख्या 85 प्रतिशत है वो क्या कर के रख देगा वो हाथ में दही लेकर नहीं बैठेगा।

अपराध को लेकर संवेदनहीन है वर्तमान सरकार, एक नहीं दर्जनों कमिश्नर मारे जाएंगे

पूरे बिहार प्रदेश में बढ़ते अपराध को लेकर सरकार पर हमलावर होते हुए माँझी ने कहा कि अपराध के मामले में बिहार सरकार थेथरलॉजी का सहारा ले रही है। जिस प्रदेश की राजधानी में कमिश्नर को उसके घर में घुसकर गोली मार दी जाती है, भोजपुर में महिला को निर्वस्त्र कर सरेआम घुमाया जाता है, अपराध के ज्वाला में बिहार जल रहा है कहाँ है सुशासन। वर्तमान सरकार एक दम संवेदनहीन हो गई है सारी व्यवस्था कंट्रोल के बाहर है। बिहार में एक नहीं बल्कि दर्जनों कमिश्नर मारे जाएंगे यहाँ राष्ट्रपति शासन के अलावा दूसरा कोई विकल्प नहीं है।