Sunday, December 9, 2018

    History

    पीरदमड़िया मस्जिद… स्थापत्य कला की मिसाल

    मुगल बादशाह जहांगीर के समय बनी थी यह मस्जिद गंगा तट पर स्थित मुगलकालीन पीरदमड़िया मस्जिद स्थापत्य की नायाब मिसाल है। लगभग छ्ह सौ साल पुरानी इस मस्जिद के परिसर मे पीरदमड़िया बाबा, उनके परिवार...

    पावापुरी के जल मंदिर का अदभुत सौन्दर्य

    पटना: बिहार के नालंदा जिले में स्थित पावापुरी शहर है। यह जैन धर्म के मतावलंबियो के लिये एक अत्यंत पवित्र शहर है। जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर ने निर्वाण यहीं प्राप्त की...

    शेरशाह सूरी का मकबरा: अफगानी स्थापत्य कला का बेजोड़ नमूना

    पटना: सासाराम का नाम सुनते ही दिल व दिमाग में शेरशाह सूरी की तस्वीर बन जाती है वही शेरशाह सूरी जिन्होंने ग्रांड ट्रंक रोड बनवाया था। आज उसी भूमि यानी सासाराम का चर्चा करते...

    शीतला माता मंदिर और अगम कुआं का क्या है रहस्य ?, जानने के लिए...

    पटना: राजधानी पटना के पटना सिटी क्षेत्र में गुलजारबाग रेलवे स्टेशन से एक किमी दक्षिण-पश्चिम में स्थित है। ऐतिहासिक अगम कुआं के करीब शीतला माता का मंदिर है। कहा जाता है कि शीतला माता...

    बड़गांव के सूर्य मंदिर: यहां नहाने से मिलती है कुष्ठ रोग से मुक्ति

    पटना: नालंदा का प्रसिद्ध ओंगारी और बड़गांव के सूर्य मंदिर देश भर में प्रसिद्ध हैं। माना जाता है कि बड़गांव सूर्यमंदिर की स्थापना दूापर युग में हुई थी। भगवान कृष्ण के पुत्र राजा साम्ब...

    कभी रोहतास गढ़ के किला की दिवारों से टपकता था खून..

    पटना: बिहार के रोहतास जिला में स्तिथ रोहतास गढ़ का किला विश्व के प्राचीन व विशाल किलों में शुमार किया जाता है। आज रोहतास गढ़ किला अपने स्वर्णिम इतिहास की जगह उपेक्षा की दास्तां...

    वैभवशाली इतिहास की अतीत को बयां करती विक्रमशिला विश्वविद्यालय

    भारत का इतिहास जितनी पुरानी उतनी ही पुरानी बिहार की भी है। बिहार प्राचीन काल से ही शिक्षा के प्रमुख केंद्र के रूप में विख्यात रहा है। भारत के प्राचीन तक्षशिला विश्वविद्यालय के समान...

    एक चिता पर बना दरभंगा का श्यामा काली मंदिर, जाने पूरी कहानी

    पटना: बिहार के दरभंगा जिले में बहुत सारे मंदिर है उन्ही मंदिरों में एक रामेश्वरी श्यामा काली मंदिर है। इस काली मंदिर का अपना अलग ही पहचान है। मां के इस मंदिर को भक्त...

    लोगों को आकर्षित करता पटना का खुदाबक़्श ओरियेन्टल लाइब्रेरी

    पटना: खुदाबक़्श ओरियेन्टल लाइब्रेरी भारत के सबसे प्राचीन पुस्तकालयों में से एक है। यह पुस्तकालय पटना के अशोक राजपथ पर स्थित है। यह राष्ट्रीय पुस्तकालय 1891 में स्थापित हुआ था। खुदाबक़्श पुस्तकालय की शुरुआत...

    बिहार की अतीत को बयां करती यह शहर..

    पटना: बिहार यानी विहार, जिसका अर्थ ही होता है भ्रमण करना। बिहार पर्यटन की दृष्टि से एक खासा मुकाम रखता है। बिहार में मंदिर, मस्जिद, किले-मकबरे और हजारों ऐसे ऐतिहासिक स्थल हैं, जो यहां...

    कैमूर पहाड़ी पर स्थित मुंडेश्वरी मंदिर, भारत का सबसे पूराना मंदिर

    बिहार के कैमूर जिले के प्रसिद्ध मुंडेश्वरी मंदिर को भारत का सबसे पुराना मंदिर माना जाता है। यह मंदिर 608 फीट ऊंची कैमूर पहाड़ी पर है। कहा जाता है कि इस मंदिर में मन्नत...

    बैसाख पूर्णिमा को बुद्ध पूर्णिमा के रूप में क्यों मनायी जाती है.. जाने पूरी...

    बौद्ध धर्मावलंबियों के चार प्रमुख तीर्थस्थलों में से एक बोधगया प्रमुख अध्यात्मिक नगर है जहां शनिवार को पंचशील ध्वज से सजे बुद्ध भूमि बोधगया में बुद्धं शरणम… धम्म शरणम,.. और संघ शरणम गच्छामि( त्रिशरण)...

    लोगों के जीवन में रंग घोलती मधुबनी चित्रकला

    बिहार का मधुबनी जो चित्रकला के लिए विश्व प्रसिद्ध है। मधुबनी चित्रकला ने देश के अंदर ही नहीं बल्कि पूरे दुनिया में एक नया बाब लिखा है। प्रारम्भ में रंगोली के रुप में रहने...

    राजगीर के मनोरम दृश्य के साथ लोगों को लुभाता रोपवे

    हरे-भरे घने जंगलों, प्राकृतिक दृश्यों और पांच पहाड़ियों से राजगीर घिरा हुआ है। पहाड़ों की प्राकृतिक सौंदर्य और हरे-भरे जंगलों के मनोरम दृश्यों को देखने के लिए पर्यटक देश-विदेश से आते हैं। इसका जिक्र...

    बिहार स्कूल ऑफ योगा के बारे में जरा आप भी जानें

    पटना: बिहार की राजधानी पटना से 180 किमी दूरी पर गंगा के किनारे स्थित मुंगेर को पूरी दुनिया में योग नगरी के नाम जाता है। मुंगेर को प्रसिद्धि दिलाने वाले बिहार स्कूल ऑफ योगा...