Monday, September 24, 2018

    History

    तो यह है दरभंगा की पहचान

    दरभंगा: अपने गौरवशाली अतीत एवं अदीतीय संस्कृतिक परंपराओं के बावजूद दुर्भाग्य से मिथिला संस्कृति का केंद्र रहा दरभंगा क्षेत्र आज राजनैतिक उपेक्षा का शिकार होकर रह गया है और अब कभी कभी अपनी बाढ़...

    जब गांधी को बिहारियों के दर्द ने झकझोरा..

    पटना: महात्मा गांधी एक ऐसा नाम जिसे सुनते ही सत्य और अहिंसा का स्मरण होता है। एक ऐसा व्यक्तित्व जिन्होंने किसी दूसरे को सलाह देने से पहले उसका प्रयोग स्वंय पर किया। जिन्होंने बड़ी...

    अब इको पार्क में नागपुरी झूले का उठाएं लुत्फ

    पटना: राजधानी पटना का इको पार्क जो पहले से ही लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र रहा है। इस पार्क को और बेहतर बनाने के लिए नागपुरी झूला लगाया जा रहा है। जो पटना...

    Supaul: Bhima Shankar Mahadeo

    Supaul was a part of Mithilanchal. It is believed that Mahatma Buddha resided in this region for one month. Lord Mahavir too had come across the area. King Gopal belonging to the Palwanshi dynasty...

    मुजफ्फरपुर के गौरवशाली इतिहास को भी जानें तो जरा–

    प्राचीन लिच्छवी राजाओं की राजधानी वैशाली का निकटवर्ती मुजफ्फरपुर अघोषित रूप से बिहार की सांस्कृतिक राजधानी तो है ही इसके साथ भी इस जिले की अपनी एक विशिष्ट संस्कृति है, समृद्ध इतिहास है। मुजफ्फरपुर जहां...

    पटना के मगध महिला महाविद्यालय में मिला 2000 वर्ष प्राचीन कुआँ

    पटना के अशोक राजपथ पर गाँधी मैदान के निकट स्थित मगध महिला महाविद्यालय में खुदाई के दौरान मिला जो दो हजार वर्ष पुराना है। चक्र कूप या रिंग वेल तकनीक पर यह कुआँ बना...

    Magadh: A cultural repository

    The rise of the subcontinent as an empire in ancient times had Magadh as its nerve-centre as it was a powerhouse of knowledge, culture and, of course, military might. The impregnable hills of Rajgir,...

    पटना की मरियम मंजिल अपने अतित को बयां करती यह खूबसूरत इमारत

    पटना: राजधानी पटना की सड़कों से गुजरते हुए जिन इमारतों को देखते हुए हमारी पीढ़ी जवान हुई, वे एक-एक कर गायब होते जा रहे हैं। पटना में अब गिने-चुने इमारत ही बचे रह गए...

    Know about Ramshila Hill Temple

    Temples at Babhani or Brahmani Ghat About a kilometer north of the Vishnupad Temple is Babhani Ghat or Brahmani Ghat on the bank of River Phalgu and here lie a number small temples. Some of...

    हसन इमाम साहब ने बूढ़े दुकानदार के पैरों पर क्यों अपनी टोपी उतारकर रख...

    पटना - शायद ही कोई बिहारवासी होगा, जिसने अली इमाम साहब का नाम नहीं सुना होगा. इनका नाम बड़ी श्रद्धा से याद किए जाते हैं. ये बिहार के निर्माताओं में से थे. अली इमाम...

    भारत छोड़ो आंदोलन और बिहार

    अंग्रेजों की क्रूर दमन नीति के कारण राष्ट्रीय भावना उग्रतर होती गई. सारे हिन्दुस्तानियों की नसों में क्रान्ति का रक्त दौड़ उठा. 7 अगस्त, 1942 को कांग्रेस के बम्बई अधिवेशन में "अंग्रेजों भारत छोड़ो"...