Thursday, December 13, 2018

    History

    मुगलों की यादगार, पटना का दिल्ली दरवाजा

    पटना: बिहार की राजधानी पटना के लोग शहर में पुराने इलाकों से पूरी तरह परिचित नहीं है कि पटना में पश्चिम दरवाजा और पुरब दरवाजा के अस्तित्व से तो भली भांति परिचित है, पर...

    आध्यात्म और वास्तुकला का मिश्रित नमूना ‘महाबोधि मंदिर’

    पटना - विश्वस्तरीय विरासत के रूप में सम्मान पा रहा बोधगया स्थित महाबोधि मंदिर आध्यात्म और वास्तुकला का मिश्रित और नायाब नमूना है. शरद ऋतु में बोधगया धर्मावलम्बियों की आस्था के विभिन्न रूप देखने...

    सच्चे मन से मांगी गयी मुराद पूरी होती है कुंडलपुर में

    नालंदा - नालंदा से लगभग चार किलोमीटर की दूरी पर कुंडलपुर गाँव अवस्थित है. ऐसी मान्यता है कि जैनों के 24वें तीर्थकर भगवान महावीर का जन्म यहीं हुआ था. जैन आचार्या ज्ञान मति माता...

    दरभंगा राज का जलवा, अंग्रेज मानते थे लोहा

    उत्तरी बिहार में बागमती नदी के किनारे बसा दरभंगा जो जिला एवं प्रमंडलीय मुख्यालय है। दरभंगा प्रमंडल के अंतर्गत तीन जिले दरभंगा, मधुबनी एवं समस्तीपुर आते है। दरभंगा के उत्तर में मधुबनी, दक्षिण में...

    मोहब्बत ऐसी कि चीर दिया पहाड़ का सीना

    "जिंदगी में तो सभी प्यार किया करते है, मर कर भी मेरी जान तुझे चाहुंगा" ऐसा ही एक प्यार बिहार में इतिहास बन गया। ऐसी मोहब्बत जिसके लिए पहाड़ का सीना फाड़ कर रास्ता...

    बिहार स्कूल ऑफ योगा के बारे में जरा आप भी जानें

    पटना: बिहार की राजधानी पटना से 180 किमी दूरी पर गंगा के किनारे स्थित मुंगेर को पूरी दुनिया में योग नगरी के नाम जाता है। मुंगेर को प्रसिद्धि दिलाने वाले बिहार स्कूल ऑफ योगा...

    भारत के स्वतंत्रता संग्राम के मुस्लमान क्रांतकारी जिन्हे भुला दिया गया — पीर अली...

    पटना (बिहार) में पेशे से जिल्दसाज पीर अली क्रांतिकारियों को अंग्रेजों की गतिविधियों का गुप्त संदेश देते थे। पटना के तत्कालीन कमिश्नर विलियम टेलर ने खान और उनके साथियों को गिरफ्तार कर लिया। अंग्रेजी...

    Lakhisarai: A temple dedicated to Mahadeo

    Lakhisarai: Sringirikh (Lakhisarai district) Sringirikh peak, part of the Kharagpur group of hills, in Lakhisarai district is associated with Shringa sage of the Ramayana. Legend has it that a sacrificial yajna was conducted here...

    Know about Nalanda’s historical places

    RAJGIR: Rajgir (Rajagrih in Sanskrit and Rajagaha in Pali) was the capital of the powerful kingdom of magadha. According to Ramayan, it was founded by King Vasu and called Vasumati after his name. It got the...

    Maner: History of Shaikh Yaha Maneri

    The Badi Dargah: This tomb is situated to the east of the tank, on the site of an earlier Hindu temple as is amply testified by some carved pillars and a lintel found in its...

    मौत से मोक्ष तक का सफ़र तय होता है यहाँ

    गया- गया के अन्तःसलिला फल्गु नदी के किनारे मौत और मोक्ष का है अनूठा संगम। इसी फल्गु नदी के किनारे श्मशान घाट है जँहा मुर्दे जलाए जाते हैं और पास में फल्गु नदी...

    Dr Rajendra Prasad’s speech on August 14 in Parliament

    CONSTITUENT ASSEMBLY OF INDIA - Volume-V Thursday, the 14th August 1947 The Fifth Session of the Constituent Assembly of India commenced In the Constitution Hall, New Delhi, at Eleven P.M, Mr. President (The Honourable Dr. Rajendra...

    बिहार की अतीत को बयां करती यह शहर..

    पटना: बिहार यानी विहार, जिसका अर्थ ही होता है भ्रमण करना। बिहार पर्यटन की दृष्टि से एक खासा मुकाम रखता है। बिहार में मंदिर, मस्जिद, किले-मकबरे और हजारों ऐसे ऐतिहासिक स्थल हैं, जो यहां...

    Battlefield of Chausa

    Buxar: The town is locally believed to be of Vedic Age where, it is said, some of the Vedic hymns were composed. Hence, one of its ancient names includes Veda-garbha Puri, meaning ‘womb of...

    महाबोधि वृक्ष पूरी तरह स्वस्थ, वन अनुसंधान विभाग की देख-रेख में रासायनिक छिड़काव

    अजीत गया वर्ल्ड हर्रिटेज में सम्मिलित महाबोधि मंदिर में पहुँची एफआरआई की टीम महाबोधि वृक्ष के स्वास्थ्य जाँच के लिए आए फॉरेस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिक, महाबोधि वृक्ष का किया निरीक्षण। वैज्ञानिकों के देख-रेख में...