केंद्रीय मंत्री बनने पर आर के सिंह के गांव सुपौल में खुशी का माहौल

845
0
SHARE

सुपौल– अपनी ईमानदारी, कर्तव्यनिष्ठ ऑफिसर के रूप में पहचान बनाने के बाद राजनीतिक पारी में भी काफी कम समय में पहचान बना चुके आरा के बीजेपी सांसद सह सुपौल के लाल आर के सिंह को मोदी मंत्रीमंडल मे जगह मिलने पर उनके गांव बसबिट्टी में जश्न का माहौल है। लोगों के बीच मिठाई बाँटी जा रही है और पटाखे भी फोड़े जा रहे हैं।

WhatsApp Image 2017-09-03 at 2.41.25 PM

उनके घर बसबिट्टी में उनके बड़े भाई बलराम सिंह को उनसे काफी उम्मीदें है। उनका कहना है कि जिस तरीके से उन्होने देश के बड़े-बड़े पद को सुशोभित करते हुए देश का नाम रौशन किया, ठीक उसी तरह वो इस बार अपने मंत्री काल में अच्छा काम कर लोगों का भला करेंगे। उनके भतीजे पंकज सिंह का कहना है कि अगर उन्हे देश के रक्षा मंत्री का दायित्व दिया जाए तो वो इसमें अच्छा काम करेंगे। इस मौके पर पंकज सिंह, धीरेंद्र कुँवर, परमानंद सिंह, सुनील सिंह सहित दर्जनों लोगों ने सिंह को शुभकानाएं दी हैं। 

WhatsApp Image 2017-09-03 at 2.45.27 PM

वहीं पिछले दिनों 2011 में केंद्रीय गृह सचिव बनने के बाद अपने पैतृक घर सुपौल जिले के बसबिट्टी गाँव में आर के सिंह अपने परिजनों से आशीर्वाद लेने आये थे और कहा था कि यहाँ के मिट्टी में कुछ खास है, जो भी ऑफिसर बने हैं, उनकी ईमानदारी के चर्चे होते हैं, साथ ही उस समय के शिक्षा व्यवस्था को याद करते हुऐ कहे थे कि हम लोग बोरा, चटाई लेकर स्कूल जाते थे और जो सरकारी स्कूलों में पढ़ाई होती थी, वो कभी नहीं भूल सकते हैं।

आर के सिंह का सफरनामा

राज कुमार सिंह बिहार के आरा से लोकसभा सांसद हैं। 1975 बैच के पूर्व आईएएस ऑफिसर हैं। आरके सिंह कई समिति के सदस्य भी बनाये गए हैं। इसमें से है फैमिली वेलफेयर पर बनी संसदीय समिति (हेल्थ एंड फेमिली, पर्सनल, पेंशन और जन शिकायत और कानून और न्याय संबंधी मामलों) के मेंबर भी रहे हैं। इससे पहले वो देश के गृह सचिव भी रह चुके हैं। केंद्र में कई अहम जिम्मेदारियां निभा चुके हैं जिनमें रक्षा उत्पादन सचिव और संयुक्त सचिव रहे हैं।

बिहार सरकार में कई महत्वपूर्ण विभाग में प्रधान सचिव रहे, पथ विभाग के उनके कार्यकाल को आज भी लोग याद करते हैं। उद्योग, लोक निर्माण और कृषि विभाग में भी उन्होंने कार्य किया। वह पुलिस आधुनिकीकरण और जेल आधुनिकीकरण जैसे अपने कामों के लिए भी जाने जाते हैं। राज कुमार सिंह ने दिल्ली के सेंट स्टीफंस कॉलेज से इंगलिश लिटरेचर में पढ़ाई की है, इसके साथ ही उन्होंने एलएलबी भी किया है। राज कुमार सिंह मूलरूप से सहरसा जिले के धबौली ग्राम के रहने वाले हैं लेकिन अभी ये अपने ननीहाल सुपौल जिले के बसबिट्टी ग्राम में रहते हैं।